Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

अश्लील सामग्री परोसी तो देना होगा 15 करोड़ का जुर्माना, आईटी एक्ट में होगा बदलाव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अश्लील सामग्री परोसी तो देना होगा 15 करोड़ का जुर्माना, आईटी एक्ट में होगा बदलाव

नई दिल्ली। अब मोबाइल ऐप या वेबसाइट पर अश्लील सामग्री देने वालों की खैर नहीं होगी। केन्द्र सरकार ने  सूचना प्रोद्योगिकी अधिनियम की धारा 79 में बदलाव की पूरी तैयारी कर ली है। इस नियम के लागू होने पर जहां  मोबाइल ऐप और वेबसाइट की मुसीबतें बढ़ जाएंगी वहीं चाइल्ड पोर्नोग्राफी और फर्जी खबरों को फैलाने वाले ऐप व साइट पर तुरंत कार्रवाई होगी और इन्हें तत्काल प्रभाव से बंद किया जाएगा। हालांकि यह नियम कब से लागू होगा अभी जानकारी नहीं है। बड़ी बात यह है कि नियम का उल्लंघन करने वालों को 15 करोड़ रुपये का जुर्माना देना होगा। 

गौरतलब है कि कोई भी मोबाइल ऐप या वेबसाइट आईटी एक्ट के नियमों का उल्लंघन करते हुए पाया जाएगा तो उनपर 15 करोड़ जुर्माना या फिर पूरी दुनिया से होने वाली कमाई का 4 फीसदी हिस्सा जुर्माने के तौर पर वसूला जाएगा। वहीं आईटी एक्ट 69ए के तहत सरकार किसी भी वेबसाइट और ऐप को बंद करने का आदेश दे सकती है।


ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा पकाएगी ‘समरसता खिचड़ी’, पिछड़ों को साधने की कोशिश

यहां बता दें कि सरकार के द्वारा पिछले हफ्ते हुई एक बैठक में साइबर लॉ डिवीजन, सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, इंटरनेट सेवा प्रदाता संघ के एक अधिकारी, गूगल, फेसबुक, व्हाट्सऐप, अमेजॉन, याहू, ट्विटर, शेयरचैट और सेबी के प्रतिनिधियों शामिल थे। इस अधिनियम के लागू होने के बाद किसी भी मामले पर सोशल मीडिया कंपनियों को सरकार को 72 घंटों के भीतर जानकारी देनी होगी। 

Todays Beets: