Wednesday, September 20, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

अगर आप भी करते हैं मुफ्त के वाई-फाई का इस्तेमाल, हो सकता है आपका फोन हैक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अगर आप भी करते हैं मुफ्त के वाई-फाई का इस्तेमाल, हो सकता है आपका फोन हैक

नई दिल्ली। मुफ्त की चीजों का फायदा भला कौन नहीं उठाना चाहता है। क्या आपको पता है कि इस तरह की मुफ्त की चीजें कई बार महंगी साबित होती हैं। ऐसा ही कुछ मुफ्त वाई-फाई को लेकर है। आप हम में से कई लोग फ्री वाई-फाई का इस्तेमाल मजे से करते होंगे। अब तो सरकार भी जगह-जगह मुफ्त वाई-फाई देने का वादा कर रही है वहीं प्राइवेट जगहों की बात करें तो कॉफी शॉप, मॉल, होटल आदि में फ्री वाई-फाई मिल रहा है। क्या आप जानते हैं कि यह फ्री वाई-फाई आपके लिए कितना खतरनाक है। 

हैंकिंग के हो सकते हैं शिकार

आपको बता दें कि हाल ही में www.privatewifi.com द्वारा किए गए एक शोध में  यह बात सामने आई है कि तीन-चौथाई लोग फ्री वाई-फाई के इस्तेमाल के दौरान हैकिंग का शिकार हो चुके हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकतर फ्री वाई-फाई सिक्योर नहीं होते हैं। ऐसे में पब्लिक वाई-फाई सबसे ज्यादा हैकर्स के निशाने पर रहते हैं।

पासवर्ड हो जाता है असुरक्षित

गौरतलब है कि कई जगहों पर वाई-फाई से कनेक्ट करने के लिए पासवर्ड की जरूरत नहीं होती है, जबकि कई जगहों पर कनेक्ट करने के लिए आपको अपने  ई-मेल आईडी से लॉग इन करना होता है। लॉगिन करने के बाद कई बार ऐसा होता है कि आप खोलना किसी और वेबसाइट को चाहते हैं लेकिन खुलती दूसरी साइट है। इसके बाद आपसे दोबारा लॉग इन मांगा जाता है और इसी दौरान आपका फोन हैकर्स के कब्जे में चला जाता है।

वायरस के द्वारा होते हैं हैक

इसके अलावा कई बार हैकर्स आपसे फोन में एप इंस्टॉल कराने की भी कोशिश करते हैं। इसके लिए आपके फोन में वायरस है जैसे पॉप अप दिखते हैं और इन पर क्लिक करते ही फोन में एप डाउनलोड हो जाता है। इस एप के जरिए हैकर्स आपके फोन में आसानी से पहुंच जाते हैं। साथ ही कई कॉफी शॉप और होटल इंक्रिप्शन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल नहीं करते हैं। ऐसे में आपके फोन या डिवाइस का डाटा पूरी तरह से असुरक्षित रहता है।

ऐसे रखें अपने डिवाइस को सुरक्षित


-अपने डिवाइस में एंटी वायरस ऐप या सॉफ्टवेयर को अपडेट रखें।

-जरूरत ना हो तो डिवाइस के वाई-फाई को ऑफ रखें।

-किसी भी वेबसाइट पर झट से लॉगिन ना करें।

-फ्री वाई-फाई में ऑनलाइन शॉपिंग और बैंकिंग से संबंधित काम ना करें।

-जिस ई-मेल एड्रेस या वेबसाइट को आप नहीं जानते हैं उस पर क्लिक ना करें।

-ज्यादा भीड़ वाली जगह पर सतर्क रहें। आपके आसपास के लोग आपके फोन पर नजर रख सकते हैं।

-अपने फोन का ब्लूटूथ बंद रखें।

-जीमेल, फेसबुक और ट्विटर लॉग इन के लिए टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल करें। इसका फायदा ये होगा कि एक बार में आपके डाटा में सेंध लगाना मुश्किल होगा।  

Todays Beets: