Sunday, February 25, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

इंटरनेट इस्तेमाल में भारत और चीन के युवा विश्वभर में हैं सबसे आगे

अंग्वाल संवाददाता
इंटरनेट इस्तेमाल में भारत और चीन के युवा विश्वभर में हैं सबसे आगे

नई दिल्ली। दुनियाभर के 15 से 24 आयु वर्ग के लोगों में भारतीय युवा इंटरनेट इस्तेमाल में सबसे आगे निकल गए है। दरअसल,  विश्व में इंटरनेट उपयोग करने वाले 83 करोड़ युवाओं में 39 फीसदी युवा भारत और चीन के है। अमेरिका ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी कर यह जानकारी साझा की है। अमेरिका की अंतरराष्ट्रीय टेलीकम्यूनिकेशन यूनियन द्वारा आंकड़े के अनुसार, विश्व में ऑनलाइन सेवाओं में काम करने वाले 83 करोड़ युवाओं में से 32 करोड़ यानी 39 प्रतिशत चीन और भारत के हैं। आईटीयू के आंकड़े दर्शाते हैं कि ब्रॉडबैंड पहुंच के कारण ग्राहक संख्या में महत्वपूर्ण वृद्धि हुई है।

यह भी पढ़े- Snapdeal से टूटी डील, flipkart  ने की ebay से डील

 

 

इन आंकड़ो के मुताबिक, चीन और भारत के 15-24 वर्ष के युवा इंटरनेट पर अधिकतर ऑनलाइन रहते हैं। कम विकसित देशों में इंटरेनट सेवाओं का इस्तेमाल करने वालों में 35 फीसदी लोग ही 15-24 आयु वर्ग से हैं। वहीं विकसित देशों में इस आयु वर्ग के 13 फीसदी लोग और 23 फीसदी वैश्विक स्तर पर हैं। बता दें कि भारत में पिछले कुछ वर्षो में इंटरेनट के इस्तेमाल में तेजी से वृद्धि हुई है। जिसके पीछे का अहम कारण भारत में डाटा की कीमतों में गिरावट आना है।

यह भी पढ़े- सोशल मीडिया के जरिए अब कॉलेज पहुंचाएंगे छात्रों तक सभी आवश्यक जानकारी


 

 

पिछले पांच सालों में वृद्धि

आईटीयू महासचिव हुलिन झाओ ने बताया कि आईसीटी फैक्ट्स एंड फिगर 2017 दर्शाते हैं कि ब्रॉडबैंड नेटवर्क की उपलब्धता में वृद्धि से इंटरनेट की सेवाओं में विस्तार हुआ है। साथ ही उन्होंने कहा डिजिटल कनेक्टिविटी जीवन को बेहतर बनाने में अहम भूनिका निभाती है। मोबाइल ब्रॉडबैंड ग्राहक संख्या में पिछले पांच वर्षों में सलाना बढ़ोतरी हुई है। साल 2017 के अंत तक दुनिया में इसके 4.3 अरब तक पहुंचने की संभावना जताई गई है।   

यह भी पढ़े- 251 रुपये में मोबाइल फोन देने वाली कंपनी पर कस सकता है ईडी का शिकंजा

Todays Beets: