Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

सोशल मीडिया अकाउंट से एप्स में लॉग-इन करने से हो सकती हैं आपकी डिटेल्स पब्लिक 

अंग्वाल संवाददाता
सोशल मीडिया अकाउंट से एप्स में लॉग-इन करने से हो सकती हैं आपकी डिटेल्स पब्लिक 

स्मार्टफोन यूजर अपने फोन में टाइप के लिए कई एप रखते हैं। इन एप पर एक टच से आपका काम आसान हो जाता है। जब आप किसी भी एप को डाउनलोड करते हैं, तो लगभग सभी एप यूजर्स को एप चलाने के लिए अपनी व्यक्तिगत जानकारी (उम्र, जन्म तिथि, ईमेल व फोन नंबर ) शेयर करनी पड़ती है। आप इन जानकारियों को दो तरीके से एप को दे सकते हैं। पहला ये कि आप मैन्यूअली इसमें ये जानकारी टाइप कर दें। दूसरा ये कि आप एप को  सोशल नेटवर्क जैसे कि गूगल, फेसबुक या टि्वटर पर उपलब्ध डाटा एक्सेस करने की अनुमति दे दें।

 

 पर्सनल जानकारी हो जाती है लीक

अमूमन स्मार्टफोन यूजर्स बार-बार साइन-इन करने से बचने के लिए एप्स के सोशल मीडिया के जरिए लॉग-इन कर लेते हैं। इस प्रोसेस के कारण सोशल मीडिया पर सभी अकाउंट की डिटेल आपस में साझा हो जाती है। इस जरा सी देरी से होने वाली असुविधा से बचने के लिए आप जो भी करते हैं वह आपकी प्राइवेसी पर खतरा बढ़ा देती है। एप डेवलपर्स आपकी अनुमति के बिना ही नए तरीकों से अन्य एप तक पहुंच आपकी डिटेल्स प्राप्त करने का प्रयास करते हैं। 

 

प्लेस्टोर पर है हजारों फेक एप्स 

हाल ही  में सामने आई एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि प्लेस्टोर पर मौजूद हजारों एप यूजर्स की निजी जानकारी लीक होती हैं। ऐसे में अगर आप इन एप को सोशल मीडिया अकांउट से एक्सेस करते हैं, तो कई एप्स बिना आपकी परमिशन के अन्य एप तक पहुंचा देते हैं। सोशल मीडिया अकांउट के जरिए इन एप्स को लॉग-इन करने का मतलब है कि आप अपनी निजी जानकारियों को खुद उन एप को दे रहे हैं।

 

 

ऐसे करें एप्स को एक्सेस 


किसी भी एप को डाउनलोड करने के बाद बेहतर ऑप्शन हैं कि मैन्यूअली ही जो भी डिटोल मांगी गई है उसे एप में दर्ज कराएं। सोशल मीडिया अकाउंट एक्सेस की परमिशन आपको परेशानी में डाल सकती है।

फेसबुक से ले सकते हैं जानकारी

कुछ सोशल नेटवर्किंग साइट जैसे की फेसबुक, गूगल प्लस ये पता रखते हैं कि उनके यूजर्स की जानकारियां का गलत उपयोग तो नहीं हो रहा। हालांकि सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ऐसा नहीं करते हैं। फेसबुक पर एप की जानकारी लेने के लिए  menu > settings > apps पर जाएं। गूगल प्लस से एक्सेस करने के लिए, गूगल+साइन->इन के साथ मेनू-> अकाउंट-> एप्लिकेशन पर जाएं।

 

 

एप्स कर सकते हैं रिमूव

फेसबुक या गूगल प्लस पर आपको एप्स ऑप्शन में कई ऐसे एप भी नजर आ सकते हैं, जिन्हें आपने एक्सेस दिया ही नहीं है। ऐसे एप अक्सर फेसबुक पर आने वाली फनी सर्विस के जरिए आ जाते हैं। इन्हें रिमूव करने के लिए एप पर क्लिक कर दाई तरफ रिमूव के बटन पर क्लिक करें। इसके बाद ये एप आपके फेसबुक अकाउंट से रिमूव हो जाएगा।

 

 

 

Todays Beets: