Monday, December 11, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

सोशल मीडिया अकाउंट से एप्स में लॉग-इन करने से हो सकती हैं आपकी डिटेल्स पब्लिक 

अंग्वाल संवाददाता
सोशल मीडिया अकाउंट से एप्स में लॉग-इन करने से हो सकती हैं आपकी डिटेल्स पब्लिक 

स्मार्टफोन यूजर अपने फोन में टाइप के लिए कई एप रखते हैं। इन एप पर एक टच से आपका काम आसान हो जाता है। जब आप किसी भी एप को डाउनलोड करते हैं, तो लगभग सभी एप यूजर्स को एप चलाने के लिए अपनी व्यक्तिगत जानकारी (उम्र, जन्म तिथि, ईमेल व फोन नंबर ) शेयर करनी पड़ती है। आप इन जानकारियों को दो तरीके से एप को दे सकते हैं। पहला ये कि आप मैन्यूअली इसमें ये जानकारी टाइप कर दें। दूसरा ये कि आप एप को  सोशल नेटवर्क जैसे कि गूगल, फेसबुक या टि्वटर पर उपलब्ध डाटा एक्सेस करने की अनुमति दे दें।

 

 पर्सनल जानकारी हो जाती है लीक

अमूमन स्मार्टफोन यूजर्स बार-बार साइन-इन करने से बचने के लिए एप्स के सोशल मीडिया के जरिए लॉग-इन कर लेते हैं। इस प्रोसेस के कारण सोशल मीडिया पर सभी अकाउंट की डिटेल आपस में साझा हो जाती है। इस जरा सी देरी से होने वाली असुविधा से बचने के लिए आप जो भी करते हैं वह आपकी प्राइवेसी पर खतरा बढ़ा देती है। एप डेवलपर्स आपकी अनुमति के बिना ही नए तरीकों से अन्य एप तक पहुंच आपकी डिटेल्स प्राप्त करने का प्रयास करते हैं। 

 

प्लेस्टोर पर है हजारों फेक एप्स 

हाल ही  में सामने आई एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि प्लेस्टोर पर मौजूद हजारों एप यूजर्स की निजी जानकारी लीक होती हैं। ऐसे में अगर आप इन एप को सोशल मीडिया अकांउट से एक्सेस करते हैं, तो कई एप्स बिना आपकी परमिशन के अन्य एप तक पहुंचा देते हैं। सोशल मीडिया अकांउट के जरिए इन एप्स को लॉग-इन करने का मतलब है कि आप अपनी निजी जानकारियों को खुद उन एप को दे रहे हैं।

 

 

ऐसे करें एप्स को एक्सेस 


किसी भी एप को डाउनलोड करने के बाद बेहतर ऑप्शन हैं कि मैन्यूअली ही जो भी डिटोल मांगी गई है उसे एप में दर्ज कराएं। सोशल मीडिया अकाउंट एक्सेस की परमिशन आपको परेशानी में डाल सकती है।

फेसबुक से ले सकते हैं जानकारी

कुछ सोशल नेटवर्किंग साइट जैसे की फेसबुक, गूगल प्लस ये पता रखते हैं कि उनके यूजर्स की जानकारियां का गलत उपयोग तो नहीं हो रहा। हालांकि सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ऐसा नहीं करते हैं। फेसबुक पर एप की जानकारी लेने के लिए  menu > settings > apps पर जाएं। गूगल प्लस से एक्सेस करने के लिए, गूगल+साइन->इन के साथ मेनू-> अकाउंट-> एप्लिकेशन पर जाएं।

 

 

एप्स कर सकते हैं रिमूव

फेसबुक या गूगल प्लस पर आपको एप्स ऑप्शन में कई ऐसे एप भी नजर आ सकते हैं, जिन्हें आपने एक्सेस दिया ही नहीं है। ऐसे एप अक्सर फेसबुक पर आने वाली फनी सर्विस के जरिए आ जाते हैं। इन्हें रिमूव करने के लिए एप पर क्लिक कर दाई तरफ रिमूव के बटन पर क्लिक करें। इसके बाद ये एप आपके फेसबुक अकाउंट से रिमूव हो जाएगा।

 

 

 

Todays Beets: