Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

सोशल मीडिया पर फर्जी खबरों के फैलने पर संचालकों पर होगा मुकदमा, 5 सालों की हो सकती है जेल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सोशल मीडिया पर फर्जी खबरों के फैलने पर संचालकों पर होगा मुकदमा, 5 सालों की हो सकती है जेल

नई दिल्ली। भारत में सोशल मीडिया के संचालक सावधान हो जाएं। इस प्लेटफाॅर्म के जरिए अफवाह या फिर फर्जी खबरों के फैलने की सूरत में भारत में उसके प्रमुख के ऊपर भी मुकदमा चलाया जाएगा। केंद्र सरकार इस तरह की खबरों पर लगाम लगाने की पूरी तैयारी कर ली है। बता दें कि पिछले कुछ समय में देश भर में सोशल मीडिया के जरिए फैली खबरों की वजह से हिंसा या फिर भीड़ हिंसा (माॅब लिंचिंग) की कई घटनाएं हुई हैं। 

गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने कहा है कि अगर इन फर्जी खबरों की वजह से देश में कई भी हिंसा या फिर भीड़ हिंसा होती है तो फिर इन कंपनियों के भारत में मौजूद प्रमुख व्यक्ति के खिलाफ आपराधिक मामला भी दर्ज होगा। उसके निदेशकों या मैनेजर को 5 सालों की सजा हो सकती है। गृह सचिव राजीव गौबा ने इस मामले में अपनी रिपोर्ट गृह मंत्री को सौंप दी है।  बता दें कि गृह मंत्री राजनाथ सिंह ग्रुप आॅफ मिनिस्टर्स (जीओएम)  का नेतृत्व भी कर रहे हैं। 

ये भी पढ़ें - विधि आयोग का सरकार को झटका, कहा- नहीं है समान नागरिक संहिता की जरूरत , शादी के लिए लड़का-लड़क...


यहां बता दें कि जीओएम ने इस बात पर सहमति जताई कि माॅब लिंचिंग की घटनाओं को रोकने के लिए ऐसे कदम उठाए जाने की जरूरत है जिससे कि ऐसी खबरों के फैलने पर रोक लगाई जा सके। हालांकि इस मामले में अंतिम फैसला प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लेंगे। मंत्रालय समूह की कमेटी ने इस बात पर जोर दिया कि भीड़ हिंसा वाले मामले में जिले के एसपी को शामिल किया जाए जो इस पूरे मामले को देखेगा और दोषी व्यक्ति के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज करेगा। 

गौर करने वाली बात है कि फेसबुक, व्हाट्सएप, गूगल और ट्विटर जैसी कंपनियां बार-बार सरकार को अपनी तरफ से इन फर्जी खबरों पर रोक लगाने की बात कर रही हैं लेकिन अभी तक इन कंपनियों ने ऐसा कुछ खास नहीं किया है। हालांकि अब सरकार व्हाट्सएप पर एक्शन लेने के लिए पूरी तरह से अपना मन बना चुकी है।

Todays Beets: