Sunday, April 22, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

facebook, whatsapp और instagram ने दूर किया टीवी-न्यूज पेपर से : एसोचैम

अंग्वाल संवाददाता
facebook, whatsapp और instagram ने दूर किया टीवी-न्यूज पेपर से : एसोचैम

नई दिल्ली। वर्तमान समय को सोशल मीडिया का युग कहा जाए तो यह कोई अतिश्योक्ति नहीं होगा। आज का समय पूरी तरह से सोशल मीडिया की कैद में आ गया है। चाहे बच्चा हो या बड़ा हर कोई व्यक्ति हर वक्त सोशल मीडिया नेटर्वकिंग वेबसाइटों पर ऑनलाइन बना रहता है। ऐसे में अगर उन्हें एक दिन भी इससे दूर रहने के लिए कहा जाता है तो वह खुद को असहज महसूस करने लगते हैं। इस मामले में हाल ही में एसोचैम का एक विश्लेषण सामने आया, जिसमें बताया गया कि लोग पहले की तुलना में अब टीवी देखने और समाचार-पत्र को पढ़ने की बजाय अधिकतर समय सोशल मीडिया पर बिताते हैं।

एसोचैम के इस विश्लेषण के मुताबिक, पहले की तुलना में लोग अब टीवी देखने के लिए और सामचार-पत्र पढ़ने के लिए ना के बराबर का समय निकालते हैं। सोशल मीडिया फेसबुक,व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम पर समय बिताने की वजह से उनकी आदतों में तेजी से बदलाव आ रहा है। विश्लेषण में बताया कि आज से चार साल पहले की तुलना में समाचार-पत्र पढ़ने और टीवी देखने की तुलना में आज लोग इसके लिए समय नहीं निकालते हैं। 

 

 


रिपोर्ट के मुताबिक, इस सब के बावजूद भी आम लोग समाचार-पत्रों के प्रति निष्ठावान बने हुए हैं। आज भी लोग सुबह अपना अखबार नियमित रूप से पढ़ते हैं। इससे समाचार-पत्र के प्रिंट मीडिया पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। हालांकि पिछले कुछ समय की तुलना में इन दिनों समाचार -पत्रों को पढ़ने वाले लोगों की संख्या में तेजी से गिरावट आई है। बता दें कि यह विश्लेषण 235 परिवारों के सर्वे के आधार पर पेश किया गया । संस्थान ने यह सर्वे दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, चेन्नई और बेंगलुरु जैसे बड़े शहरों में रहने वाले परिवारों में किया था। उनसे प्राप्त जवाबों के आधार पर यह विश्लेषण तैयार किया गया है। 

 

 

एसोचैम के महासचिव डी एस रावत ने सोशल मीडिया पर असत्य जानकारी के प्रसार को लेकर चिंता जाहिर की। साथ ही उन्होंने इस लोगों के लिए गंभीर खतरा का विषय बताया। हालांकि उन्होंने कहा कि इंटरनेट उपयोगकर्ता को सूचनाओं को लेकर ज्यादा समझदार और सजग होना होगा।

Todays Beets: