Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

आखिरकार भारत की मांगों के आगे झुका व्हाट्सएप, अभिजीत बोस को बनाया कंट्री हेड

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिरकार भारत की मांगों के आगे झुका व्हाट्सएप, अभिजीत बोस को बनाया कंट्री हेड

नई दिल्ली। मैसेजिंग कंपनी व्हाट्सएप को आखिरकार भारत सरकार की मांग के आगे झुकना पड़ा है। कंपनी ने भारत में अपना प्रमुख एक भारतीय अभिजीत बोस को स्थानीय (भारत) प्रमुख नियुक्त करने की घोषणा की है।  व्हाट्सएप की तरफ से दिए गए बयान में कहा गया है कि बोस अगले साल (2019) की शुरुआत में कंपनी से जुड़ेंगे। वह कैलिफोर्निया से बाहर गुड़गांव में एक नई टीम बनाएंगे। बता दें कि कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने व्हाट्सएप को भारत में अपना टावर लगाने और किसी भारतीय को उसका प्रमुख बनाने की बात कही थी।

गौरतलब है कि भारत में व्हाट्सएप के यूजर्स की संख्या को देखते हुए कंपनी ने कहा कि वह भारत के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। कंपनी की ओर से कहा गया है कि वह ऐसे उत्पाद विकसित करने के लिए तैयार है जो लोगों के एक-दूसरे के साथ संपर्क करने में मददगार हो और डिजिटल अर्थव्यवस्था का भी समर्थन करता हो। 

ये भी पढ़ें - मोबाइल उपभोक्ता ध्यान दें, बंद हो सकती है आपकी इंकमिंग काॅल!


यहां बता दें कि देश में अफवाहों की वजह से माॅब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अगस्त में व्हाट्सएप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी क्रिस डेनियल्स से मुलाकात की थी और कहा था कि प्लेटफार्म को भारत के कानूनों का पालन करना चाहिए और इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफार्म का दुरुपयोग रोकने के लिए मुनासिब कदम उठाना चाहिए। इसके बाद ही कंपनी की ओर से यह कदम उठाया गया है। 

 

Todays Beets: