Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

आखिरकार भारत की मांगों के आगे झुका व्हाट्सएप, अभिजीत बोस को बनाया कंट्री हेड

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिरकार भारत की मांगों के आगे झुका व्हाट्सएप, अभिजीत बोस को बनाया कंट्री हेड

नई दिल्ली। मैसेजिंग कंपनी व्हाट्सएप को आखिरकार भारत सरकार की मांग के आगे झुकना पड़ा है। कंपनी ने भारत में अपना प्रमुख एक भारतीय अभिजीत बोस को स्थानीय (भारत) प्रमुख नियुक्त करने की घोषणा की है।  व्हाट्सएप की तरफ से दिए गए बयान में कहा गया है कि बोस अगले साल (2019) की शुरुआत में कंपनी से जुड़ेंगे। वह कैलिफोर्निया से बाहर गुड़गांव में एक नई टीम बनाएंगे। बता दें कि कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने व्हाट्सएप को भारत में अपना टावर लगाने और किसी भारतीय को उसका प्रमुख बनाने की बात कही थी।

गौरतलब है कि भारत में व्हाट्सएप के यूजर्स की संख्या को देखते हुए कंपनी ने कहा कि वह भारत के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। कंपनी की ओर से कहा गया है कि वह ऐसे उत्पाद विकसित करने के लिए तैयार है जो लोगों के एक-दूसरे के साथ संपर्क करने में मददगार हो और डिजिटल अर्थव्यवस्था का भी समर्थन करता हो। 

ये भी पढ़ें - मोबाइल उपभोक्ता ध्यान दें, बंद हो सकती है आपकी इंकमिंग काॅल!


यहां बता दें कि देश में अफवाहों की वजह से माॅब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अगस्त में व्हाट्सएप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी क्रिस डेनियल्स से मुलाकात की थी और कहा था कि प्लेटफार्म को भारत के कानूनों का पालन करना चाहिए और इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफार्म का दुरुपयोग रोकने के लिए मुनासिब कदम उठाना चाहिए। इसके बाद ही कंपनी की ओर से यह कदम उठाया गया है। 

 

Todays Beets: