Monday, June 17, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

आखिरकार भारत की मांगों के आगे झुका व्हाट्सएप, अभिजीत बोस को बनाया कंट्री हेड

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिरकार भारत की मांगों के आगे झुका व्हाट्सएप, अभिजीत बोस को बनाया कंट्री हेड

नई दिल्ली। मैसेजिंग कंपनी व्हाट्सएप को आखिरकार भारत सरकार की मांग के आगे झुकना पड़ा है। कंपनी ने भारत में अपना प्रमुख एक भारतीय अभिजीत बोस को स्थानीय (भारत) प्रमुख नियुक्त करने की घोषणा की है।  व्हाट्सएप की तरफ से दिए गए बयान में कहा गया है कि बोस अगले साल (2019) की शुरुआत में कंपनी से जुड़ेंगे। वह कैलिफोर्निया से बाहर गुड़गांव में एक नई टीम बनाएंगे। बता दें कि कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने व्हाट्सएप को भारत में अपना टावर लगाने और किसी भारतीय को उसका प्रमुख बनाने की बात कही थी।

गौरतलब है कि भारत में व्हाट्सएप के यूजर्स की संख्या को देखते हुए कंपनी ने कहा कि वह भारत के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। कंपनी की ओर से कहा गया है कि वह ऐसे उत्पाद विकसित करने के लिए तैयार है जो लोगों के एक-दूसरे के साथ संपर्क करने में मददगार हो और डिजिटल अर्थव्यवस्था का भी समर्थन करता हो। 

ये भी पढ़ें - मोबाइल उपभोक्ता ध्यान दें, बंद हो सकती है आपकी इंकमिंग काॅल!


यहां बता दें कि देश में अफवाहों की वजह से माॅब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अगस्त में व्हाट्सएप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी क्रिस डेनियल्स से मुलाकात की थी और कहा था कि प्लेटफार्म को भारत के कानूनों का पालन करना चाहिए और इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफार्म का दुरुपयोग रोकने के लिए मुनासिब कदम उठाना चाहिए। इसके बाद ही कंपनी की ओर से यह कदम उठाया गया है। 

 

Todays Beets: