Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

दुनिया के सबसे छोटे कंप्यूटर का हुआ अविष्कार, कैंसर की जांच में होगा मददगार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दुनिया के सबसे छोटे कंप्यूटर का हुआ अविष्कार, कैंसर की जांच में होगा मददगार

नई दिल्ली । दुनिया में हर रोज नए नए आविष्कार होते रहते हैं । उसी तरफ दुनिया टेक्नोलॉजी में भी तेजी से आगे बढ़ रही है । रोजाना देश विदेश के वैज्ञानिक नई नई खोज, अविष्कार कर रहे हैं । इसी क्रम में अमेरिका ने भी हाल में एक नई टेक्नोलॉजी का अविष्कार किया है । अमेरिका ने दुनिया का सबसे छोटे कंप्यूटर तैयार कर टेक्नोलॉजी की दुनिया को एक नया तोहफा दिया है। साथ ही विज्ञान के क्षेत्र में भी यह एक नया अविष्कार है। कहा जा रहा है कि यह दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर जो कैंसर कि बीमारी का पता लगाने के साथ ही उसके इलाज के नए दरवाजे खोलने में भी मददगार साबित होगा। 

अब मुफ्त में नहीं देख पाएगें यूट्यूब चैनल, चुकाने होंगे पैसे

बता दें कि दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर केवल 0.3 मिलीमीटर का है । इसको बनाने वाली टीम का दावा है कि यह कई काम करने के लिए मददगार साबित होगा । इस से काफी तरह के काम और उद्देश्यों को पूर्ण किया जा सकता है । इसको बनाने वाली टीम ने अभी इसे तापमान मापदंड स्पष्टता को जानने के लिए इस्तेमाल किया है ।

आनंद महिंद्रा बोले- हम ला रहे है स्वदेशी सोशल मीडिया नेटवर्क 'पीपल' , डेटा लीक की नहीं होगी गुंजाइश


कुछ अध्ययनों से पता चला है कि सामान्य टिश्यू के मुकाबले ट्यूमर ज्यादा गर्म होते हैं, इस बात को साबित करने के लिए प्रयाप्त आकड़े नहीं हैं । अमेरिका कि मिशिगन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डेविड ब्लाऊ ने कहा है कि वह इस बात के लिए अभी आश्वस्त नहीं है कि इसे कंप्यूटर कहा जाना चाहिए या नहीं परन्तु यह कंप्यूटर की तरह डिस्चार्ज भी होंगे। साथ ही इनकी डाटा प्रोग्रामिंग भी समाप्त होगी । इतना ही नहीं इस नए अविष्कार के बारे में कहा जा रहा है कि यह दुनिया में तेज से फैल रहे कैंसर क जांच में भी अहम भूमिका निभा सकता है। 

गूगल इंडिया लेकर आया neighbourly एप,  अब जानकारियां पाना होगा और भी आसान

बहरहाल, अभी इसको लेकर कई अन्य तरह के प्रयोग किए जा रहे हैं, आने वाले समय में इससे जुड़ी कई और जानकारी इसे बनाने वाली टीम मीडिया के साथ साझा करेगी।  

Todays Beets: