Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

दुनिया के सबसे छोटे कंप्यूटर का हुआ अविष्कार, कैंसर की जांच में होगा मददगार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दुनिया के सबसे छोटे कंप्यूटर का हुआ अविष्कार, कैंसर की जांच में होगा मददगार

नई दिल्ली । दुनिया में हर रोज नए नए आविष्कार होते रहते हैं । उसी तरफ दुनिया टेक्नोलॉजी में भी तेजी से आगे बढ़ रही है । रोजाना देश विदेश के वैज्ञानिक नई नई खोज, अविष्कार कर रहे हैं । इसी क्रम में अमेरिका ने भी हाल में एक नई टेक्नोलॉजी का अविष्कार किया है । अमेरिका ने दुनिया का सबसे छोटे कंप्यूटर तैयार कर टेक्नोलॉजी की दुनिया को एक नया तोहफा दिया है। साथ ही विज्ञान के क्षेत्र में भी यह एक नया अविष्कार है। कहा जा रहा है कि यह दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर जो कैंसर कि बीमारी का पता लगाने के साथ ही उसके इलाज के नए दरवाजे खोलने में भी मददगार साबित होगा। 

अब मुफ्त में नहीं देख पाएगें यूट्यूब चैनल, चुकाने होंगे पैसे

बता दें कि दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर केवल 0.3 मिलीमीटर का है । इसको बनाने वाली टीम का दावा है कि यह कई काम करने के लिए मददगार साबित होगा । इस से काफी तरह के काम और उद्देश्यों को पूर्ण किया जा सकता है । इसको बनाने वाली टीम ने अभी इसे तापमान मापदंड स्पष्टता को जानने के लिए इस्तेमाल किया है ।

आनंद महिंद्रा बोले- हम ला रहे है स्वदेशी सोशल मीडिया नेटवर्क 'पीपल' , डेटा लीक की नहीं होगी गुंजाइश


कुछ अध्ययनों से पता चला है कि सामान्य टिश्यू के मुकाबले ट्यूमर ज्यादा गर्म होते हैं, इस बात को साबित करने के लिए प्रयाप्त आकड़े नहीं हैं । अमेरिका कि मिशिगन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डेविड ब्लाऊ ने कहा है कि वह इस बात के लिए अभी आश्वस्त नहीं है कि इसे कंप्यूटर कहा जाना चाहिए या नहीं परन्तु यह कंप्यूटर की तरह डिस्चार्ज भी होंगे। साथ ही इनकी डाटा प्रोग्रामिंग भी समाप्त होगी । इतना ही नहीं इस नए अविष्कार के बारे में कहा जा रहा है कि यह दुनिया में तेज से फैल रहे कैंसर क जांच में भी अहम भूमिका निभा सकता है। 

गूगल इंडिया लेकर आया neighbourly एप,  अब जानकारियां पाना होगा और भी आसान

बहरहाल, अभी इसको लेकर कई अन्य तरह के प्रयोग किए जा रहे हैं, आने वाले समय में इससे जुड़ी कई और जानकारी इसे बनाने वाली टीम मीडिया के साथ साझा करेगी।  

Todays Beets: