Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

अस्पतालों में इंजेक्शन लगवाने से पहले रहें सावधान, खतरनाक सिरिंज का हो रहा इस्तेमाल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अस्पतालों में इंजेक्शन लगवाने से पहले रहें सावधान, खतरनाक सिरिंज का हो रहा इस्तेमाल

नई दिल्ली। भारत सरकार लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के हर संभव प्रयास कर रही है। ऐसे में अपना इलाज करा रहे लोगों को यही लगता है कि जिन उपकरणों से उनका इलाज हो रहा है वह पूरी तरह सुरक्षित हैं। अगर आप भी इस तरह की सोच रखते हैं तो आप गलत हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के कुछ अस्पतालों में ऐसी सिरिंज का प्रयोग किया जा रहा है, जिसे ब्रिटेन में पूरी तरह से असुरक्षित घोषित किया गया है।

ये भी पढ़े-दिल्ली-एनसीआर के लोगों का सफर होगा और आसान, 6 माह के अंदर इन 5 रूट पर मेट्रो का सफर

आपको बता दें कि देश के कई अस्पतालों में इन सिरिंजों का प्रयोग किया जा रहा है। इस ग्रीस बाय ड्राइवर नामक सिरिंज को ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस ने पूरी तरह असुरक्षित घोषित किया था बावजूद इसके भारत, अफ्रीका और नेपाल जैसे देशों में यह सिरिंज अस्पतालों और चिकित्सक संगठनों को भेजे जा रहे है। साल 1995 की सुरक्षा चेतावनियों में इन सिरिंज को असुरक्षित बताया गया था।


ये भी पढ़े-हरियाणा की पंचायत का ऐलान बिना शौचालय वाले घरों में नहीं ब्याही जाएंगी लड़कियां

गौरतलब है कि एक जांच में यह पता चला कि दिसंबर 2011 में आईएसल ऑफ वाइट एमएचएस ट्रस्ट के नोटिस में इस ग्रीस बाय एमएस 16 और एमएस 26 सिरिंज ड्राइवर्स को हटाने के बारे में कहा गया है।

इसके साथ ही इस नोटिस में यह भी लिखा था  इन सिरिंज को विकासशील देशों के धर्मार्थ संगठनों को दान कर दिया जाएगा।  गौर करने वाली बात तो यह है कि आम लोग आंखे बंद करके इलाज करवा तो लेते हैं पर इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों की उसे कोई जानकरी नहीं होती।

Todays Beets: