Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अस्पतालों में इंजेक्शन लगवाने से पहले रहें सावधान, खतरनाक सिरिंज का हो रहा इस्तेमाल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अस्पतालों में इंजेक्शन लगवाने से पहले रहें सावधान, खतरनाक सिरिंज का हो रहा इस्तेमाल

नई दिल्ली। भारत सरकार लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के हर संभव प्रयास कर रही है। ऐसे में अपना इलाज करा रहे लोगों को यही लगता है कि जिन उपकरणों से उनका इलाज हो रहा है वह पूरी तरह सुरक्षित हैं। अगर आप भी इस तरह की सोच रखते हैं तो आप गलत हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के कुछ अस्पतालों में ऐसी सिरिंज का प्रयोग किया जा रहा है, जिसे ब्रिटेन में पूरी तरह से असुरक्षित घोषित किया गया है।

ये भी पढ़े-दिल्ली-एनसीआर के लोगों का सफर होगा और आसान, 6 माह के अंदर इन 5 रूट पर मेट्रो का सफर

आपको बता दें कि देश के कई अस्पतालों में इन सिरिंजों का प्रयोग किया जा रहा है। इस ग्रीस बाय ड्राइवर नामक सिरिंज को ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस ने पूरी तरह असुरक्षित घोषित किया था बावजूद इसके भारत, अफ्रीका और नेपाल जैसे देशों में यह सिरिंज अस्पतालों और चिकित्सक संगठनों को भेजे जा रहे है। साल 1995 की सुरक्षा चेतावनियों में इन सिरिंज को असुरक्षित बताया गया था।


ये भी पढ़े-हरियाणा की पंचायत का ऐलान बिना शौचालय वाले घरों में नहीं ब्याही जाएंगी लड़कियां

गौरतलब है कि एक जांच में यह पता चला कि दिसंबर 2011 में आईएसल ऑफ वाइट एमएचएस ट्रस्ट के नोटिस में इस ग्रीस बाय एमएस 16 और एमएस 26 सिरिंज ड्राइवर्स को हटाने के बारे में कहा गया है।

इसके साथ ही इस नोटिस में यह भी लिखा था  इन सिरिंज को विकासशील देशों के धर्मार्थ संगठनों को दान कर दिया जाएगा।  गौर करने वाली बात तो यह है कि आम लोग आंखे बंद करके इलाज करवा तो लेते हैं पर इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों की उसे कोई जानकरी नहीं होती।

Todays Beets: