Monday, July 16, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

अस्पतालों में इंजेक्शन लगवाने से पहले रहें सावधान, खतरनाक सिरिंज का हो रहा इस्तेमाल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अस्पतालों में इंजेक्शन लगवाने से पहले रहें सावधान, खतरनाक सिरिंज का हो रहा इस्तेमाल

नई दिल्ली। भारत सरकार लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के हर संभव प्रयास कर रही है। ऐसे में अपना इलाज करा रहे लोगों को यही लगता है कि जिन उपकरणों से उनका इलाज हो रहा है वह पूरी तरह सुरक्षित हैं। अगर आप भी इस तरह की सोच रखते हैं तो आप गलत हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के कुछ अस्पतालों में ऐसी सिरिंज का प्रयोग किया जा रहा है, जिसे ब्रिटेन में पूरी तरह से असुरक्षित घोषित किया गया है।

ये भी पढ़े-दिल्ली-एनसीआर के लोगों का सफर होगा और आसान, 6 माह के अंदर इन 5 रूट पर मेट्रो का सफर

आपको बता दें कि देश के कई अस्पतालों में इन सिरिंजों का प्रयोग किया जा रहा है। इस ग्रीस बाय ड्राइवर नामक सिरिंज को ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस ने पूरी तरह असुरक्षित घोषित किया था बावजूद इसके भारत, अफ्रीका और नेपाल जैसे देशों में यह सिरिंज अस्पतालों और चिकित्सक संगठनों को भेजे जा रहे है। साल 1995 की सुरक्षा चेतावनियों में इन सिरिंज को असुरक्षित बताया गया था।


ये भी पढ़े-हरियाणा की पंचायत का ऐलान बिना शौचालय वाले घरों में नहीं ब्याही जाएंगी लड़कियां

गौरतलब है कि एक जांच में यह पता चला कि दिसंबर 2011 में आईएसल ऑफ वाइट एमएचएस ट्रस्ट के नोटिस में इस ग्रीस बाय एमएस 16 और एमएस 26 सिरिंज ड्राइवर्स को हटाने के बारे में कहा गया है।

इसके साथ ही इस नोटिस में यह भी लिखा था  इन सिरिंज को विकासशील देशों के धर्मार्थ संगठनों को दान कर दिया जाएगा।  गौर करने वाली बात तो यह है कि आम लोग आंखे बंद करके इलाज करवा तो लेते हैं पर इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों की उसे कोई जानकरी नहीं होती।

Todays Beets: