Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

बिजली विभाग के कर्मचारियों ने दिखाई दरियादिली, अंधेरे स्कूलों में फिर से फैला उजाला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिजली विभाग के कर्मचारियों ने दिखाई दरियादिली, अंधेरे स्कूलों में फिर से फैला उजाला

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक दिल को छू लेने वाला वाकया सामने आया है। औरंगाबाद जिले के लगभग 35 मॉडल स्कूलों की बिजली पिछले 2 साल से बिजली का बिल न भर पाने के कारण काट दी गई थी जिसके बाद से स्कूल के बच्चे अंधेरे में पढ़ने को मजबूर थे, लेकिन जिस विभाग ने स्कूल की बिजली काटी थी उसी विभाग के कर्मचारियों ने अपने 1 दिन की सैलरी जमा करवाकर स्कूलों में फिर से उजाला कर दिया। दरअसल बिजली बिल जमा न करने की वजह से लगभग 35 मॉडल स्कूलों की बिजली काट दी गई थी। पूरे जिले के आईएसओ सर्टिफाइड स्कूल पिछले 2 सालों से बिजली बिल जमा नहीं कर पा रहे थे जिसकी वजह से महाराष्ट्र स्टेट इलेक्ट्रीसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (एमएसईडीसीएल) ने 6 महीने पहले स्कूलों की बिजली काट दी गई थी।

ये भी पढ़े-साधारण टिकटों के लिए अब नहीं खड़े होना होगा लंबी लाइनों में, मोबाइल एप से मिलेगा टिकट

स्कूलों में बिजली न होने का खामियाजा मासूम बच्चों को भुगतना पड़ रहा था। बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए एमएसईडीसीएल के कर्मचारियों ने अपनी दरियादिली दिखाते हुए अपनी 1 दिन की सैलरी स्कूलों को बिजली का बिल जमा करवाने के लिए दान कर दिया।

ये भी पढ़े-अस्पतालों में इंजेक्शन लगवाने से पहले रहें सावधान, खतरनाक सिरिंज का हो रहा इस्तेमाल


इस मामले पर वहां के एमएसईडीसीएल के संयुक्त महानिदेशक ने बताया कि हमारा स्टाफ पिछले दिनो सोशल कॉज के लिए जमा हुआ था और इस दौरान उन्होंने फैसला किया कि वे अपनी 1 दिन की सैलरी स्कूल में बिजली सप्लाई करने के लिए दान कर देगी। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि जिन स्कूलों की बिजली काटी गई है वह सारे स्कूल डिजिटल स्कूल हैं , जहां बिजली बहुत जरूरी है।

गौरतलब है कि इन स्कूलों पर 3.22 लाख बिजली का बिल बकाया था। सोमवार को बिजली का बिल भरने के बाद से इन स्कूलों में बिजली वापस आ गई है। बता दें कि जिला परिषद द्वारा चलाए जा रहे 2000 स्कूलों में से 150 स्कूल मॉडल हैं।

 

Todays Beets: