Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

रेलवे ने दिया 1000 साल आगे का टिकट, अब भरना पड़ा जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रेलवे ने दिया 1000 साल आगे का टिकट, अब भरना पड़ा जुर्माना

मेरठ। भारतीय रेल के इतिहास में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। भारतीय रेलवे ने 73 वर्ष के एक शख्स को 1000 साल पुराना टिकट थमा दिया जिस पर साल 3013 की तारीख थी। यह मामला पांच साल से उपभोक्ता अदालत में चल रहा था जिस पर अदालत ने शख्स को न्याय देते हुए भारतीय रेलवे पर 1300 का जुर्माना लगाया है। इस शख्स का नाम कांत शुक्ला है जोकि एक सेवानिवृत प्रोफेसर है। वह 19 नवंबर 2013 को हिमगिरी एक्सप्रेस से सहापनपुर से जौनपुर तक की यात्रा के दौरान टिकट जांच कर्ता ने जबरन नीचे उतार दिया था क्योंकि वह भविष्य कि टिकट लेकर यात्रा कर रहा था। टीटीई ने उन्हें मुरादाबाद पर ट्रेन से नीचे उतार दिया।

ये भी पढ़े- अमित शाह ने मिशन-2019 के लिए तेज किया 'संपर्क फॉर समर्थन' कैंपेन , माधुरी दीक्षित से की मुलाक...

शुक्ला ने बताया कि वो सहारनपुर के जेवी जैन डिग्री कॉलेज के हिंदी विभाग के प्रमुख पद से रिटायर हुए हैं। वे ऐसा शख्स नहीं हैं जो नकली टिकट के साथ ट्रेन में यात्रा करें। पर टीटीई ने उन्हे सबके सामने अपमानित किया। मांगने पर उन्होंने 800 रुपए का जुर्माना भी दिया था पर इसके बावजूद भी टीटीई ने उनको ट्रेन से नीचे उतार दिया।


ये भी पढ़े- मोदी सरकार का बड़ा फैसला, यूपीएससी करे बिना बन सकेंगे अफसर

शुक्ला के मुताबिक, यह यात्रा उनके लिए बेहद महत्वपूर्ण थी क्योंकि वो अपने दोस्त के घर जा रहें थे जिसकी पत्नी की मृत्यु हो गई थी। सहारनपुर से वापस आने के बाद उन्होंने उपभोक्ता अदालत में भारतीय रेलवे  के खिलाफ केस दर्ज करवा दिया। पांच साल तक चले इस केस में मंगलवार को अदालत ने शुक्ला के पक्ष में फैसला सुनाते हुए। अदालत ने रेलवे पर शुक्ला को मानसिक उत्पीड़न पहुंचाने के लिए 10,000 और अतिरिक्त 3,000 रुपए का मुआवजा देने का आदेश दिया।

Todays Beets: