Friday, December 15, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

इन बैंकों के ग्राहक बदल लें अपनी चेक बुक, 30 सितंबर के बाद चेक और आईएफएससी कोड नहीं होंगे मान्य

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इन बैंकों के ग्राहक बदल लें अपनी चेक बुक, 30 सितंबर के बाद चेक और आईएफएससी कोड नहीं होंगे मान्य

नई दिल्ली । भारतीय स्टेट बैंक ने अपने ग्राहकों के लिए एक संदेश जारी किया है। हालांकि यह संदेश एसबीआई ने अपने पूर्व सहायक बैंकों के ग्राहकों को नई चेकबुक लेने के संदर्भ में किया है। बैंक ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर जानकारी देते हुए लिखा है कि 1 अप्रैल को जिन छह सहायक बैंकों का उसमें विलय हुआ है, उनकी पुरानी चेकबुक और उनकी शाखाओं के इंडियन फाइनेंशियल सिस्टम कोड (आईएफएससी) 30 सितंबर के बाद मान्य नहीं रहेंगे। ऐसे में समय रहते वह नई चैक बुक ले लें, नहीं तो आने वाले दिनों में उन्हें उन्हें बैंकिग संबंधी असुविधाओं का सामना करना पड़ सकता है। 

बता दें कि गत 1 अप्रैल से एसबीआई में स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद और भारतीय महिला बैंक का विलय हुआ था। अब SBI ने अपने इन सहायक बैंको से आए ग्राहकों को सूचना देते हुए कहा है कि वे इंटरनेट, मोबइल बैंकिंग, एटीएम या मुख्य शाखा जाकर नई चेकबुक लेने का अनुरोध करें। विदित हो कि एसबीआई ने 2016 में अपने पांच सहायक बैंकों और भारतीय महिला बैंक के विलय को मंजूरी दी थी। केंद्रीय कैबिनेट ने इस पर इस साल फरवरी में मुहर लगा दी। 

Todays Beets: