Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

इन बैंकों के ग्राहक बदल लें अपनी चेक बुक, 30 सितंबर के बाद चेक और आईएफएससी कोड नहीं होंगे मान्य

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इन बैंकों के ग्राहक बदल लें अपनी चेक बुक, 30 सितंबर के बाद चेक और आईएफएससी कोड नहीं होंगे मान्य

नई दिल्ली । भारतीय स्टेट बैंक ने अपने ग्राहकों के लिए एक संदेश जारी किया है। हालांकि यह संदेश एसबीआई ने अपने पूर्व सहायक बैंकों के ग्राहकों को नई चेकबुक लेने के संदर्भ में किया है। बैंक ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर जानकारी देते हुए लिखा है कि 1 अप्रैल को जिन छह सहायक बैंकों का उसमें विलय हुआ है, उनकी पुरानी चेकबुक और उनकी शाखाओं के इंडियन फाइनेंशियल सिस्टम कोड (आईएफएससी) 30 सितंबर के बाद मान्य नहीं रहेंगे। ऐसे में समय रहते वह नई चैक बुक ले लें, नहीं तो आने वाले दिनों में उन्हें उन्हें बैंकिग संबंधी असुविधाओं का सामना करना पड़ सकता है। 

बता दें कि गत 1 अप्रैल से एसबीआई में स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद और भारतीय महिला बैंक का विलय हुआ था। अब SBI ने अपने इन सहायक बैंको से आए ग्राहकों को सूचना देते हुए कहा है कि वे इंटरनेट, मोबइल बैंकिंग, एटीएम या मुख्य शाखा जाकर नई चेकबुक लेने का अनुरोध करें। विदित हो कि एसबीआई ने 2016 में अपने पांच सहायक बैंकों और भारतीय महिला बैंक के विलय को मंजूरी दी थी। केंद्रीय कैबिनेट ने इस पर इस साल फरवरी में मुहर लगा दी। 

Todays Beets: