Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

दिल्ली-NCR में पटाखों की ब्रिकी का मामला सुप्रीम कोर्ट में , कल तय होगा बाजारों में लगेंगी पटाखों की दुकान या नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली-NCR में पटाखों की ब्रिकी का मामला सुप्रीम कोर्ट में , कल तय होगा बाजारों में लगेंगी पटाखों की दुकान या नहीं

नई दिल्ली । दिल्ली -एनसीआर में प्रदूषण के चलते पिछले साल कोर्ट ने पटाखों की ब्रिकी पर प्रतिबंध लगा दिया था। इस साल फिर बाजारों में पटाखों की बिक्री होगी या नहीं इस पर सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को अपना फैसला सुनाएगी। दिल्ली-एनसीआर के वातावरण में प्रदूषण के जानलेवा हो चुके स्तर को काबू में रखने के लिए पिछले साल कोर्ट ने सख्ती बरती थी। बता दें कि गैसे चैंबर में तब्दील हो चुकी दिल्ली में प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए एनजीटी ने भी कई कड़े फैसले दिए हैं, जिसके चलते प्रदूषण पर अंकुश लगाने की कवायद की जा रही है।

बता दें कि पिछले साल 6 से 14 महीने के तीन बच्चों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर साफ हवा में सांस लेने के अधिकार की मांग करते हुए पटाखों की ब्रिकी पर रोक लगाने का आदेश देने की मांग की थी। इस याचिका में मांग की गई थी कि दशहरा और दिवाली जैसे त्योहारों पर पटाखों की ब्रिकी पर रोक लगाई जाए। उस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने आदेश देते हुए साफ किया था कि  दिल्ली और NCR में दिवाली पर पटाखे नहीं बिकेंगे। कोर्ट ने 2016 में भी पटाखों की बिक्री पर रोक का आदेश दिया था। 


इतना ही नहीं पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में केंद्र सरकार को पूरे एनसीआर में पटाखों की बिक्री के लिए कोई नया लाइसेंस नहीं देने और पहले से जारी लाइसेंस को निलंबित करने के आदेश दिए थे। असल में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर कोर्ट देखना चाहती थी कि दीपावली पर अगर पटाखें न जलाए जाएं तो वायु प्रदूषण में कितनी गिरावट दर्ज होती है। 

बहरहाल, एक बार फिर से मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट पटाखों की ब्रिकी को लेकर अपना फैसला सुनाएगी। इस सब के मद्देनजर लोगों की नजर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर  लग गई है।  

Todays Beets: