Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

दिल्ली-NCR में पटाखों की ब्रिकी का मामला सुप्रीम कोर्ट में , कल तय होगा बाजारों में लगेंगी पटाखों की दुकान या नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली-NCR में पटाखों की ब्रिकी का मामला सुप्रीम कोर्ट में , कल तय होगा बाजारों में लगेंगी पटाखों की दुकान या नहीं

नई दिल्ली । दिल्ली -एनसीआर में प्रदूषण के चलते पिछले साल कोर्ट ने पटाखों की ब्रिकी पर प्रतिबंध लगा दिया था। इस साल फिर बाजारों में पटाखों की बिक्री होगी या नहीं इस पर सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को अपना फैसला सुनाएगी। दिल्ली-एनसीआर के वातावरण में प्रदूषण के जानलेवा हो चुके स्तर को काबू में रखने के लिए पिछले साल कोर्ट ने सख्ती बरती थी। बता दें कि गैसे चैंबर में तब्दील हो चुकी दिल्ली में प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए एनजीटी ने भी कई कड़े फैसले दिए हैं, जिसके चलते प्रदूषण पर अंकुश लगाने की कवायद की जा रही है।

बता दें कि पिछले साल 6 से 14 महीने के तीन बच्चों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर साफ हवा में सांस लेने के अधिकार की मांग करते हुए पटाखों की ब्रिकी पर रोक लगाने का आदेश देने की मांग की थी। इस याचिका में मांग की गई थी कि दशहरा और दिवाली जैसे त्योहारों पर पटाखों की ब्रिकी पर रोक लगाई जाए। उस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने आदेश देते हुए साफ किया था कि  दिल्ली और NCR में दिवाली पर पटाखे नहीं बिकेंगे। कोर्ट ने 2016 में भी पटाखों की बिक्री पर रोक का आदेश दिया था। 


इतना ही नहीं पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में केंद्र सरकार को पूरे एनसीआर में पटाखों की बिक्री के लिए कोई नया लाइसेंस नहीं देने और पहले से जारी लाइसेंस को निलंबित करने के आदेश दिए थे। असल में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर कोर्ट देखना चाहती थी कि दीपावली पर अगर पटाखें न जलाए जाएं तो वायु प्रदूषण में कितनी गिरावट दर्ज होती है। 

बहरहाल, एक बार फिर से मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट पटाखों की ब्रिकी को लेकर अपना फैसला सुनाएगी। इस सब के मद्देनजर लोगों की नजर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर  लग गई है।  

Todays Beets: