Saturday, November 17, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

यहां मरीजों और तीमारदारों के लिए सिर्फ 10 रुपये में होती है रहने-खाने की व्यवस्था

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यहां मरीजों और तीमारदारों के लिए सिर्फ 10 रुपये में होती है रहने-खाने की व्यवस्था

हैदराबाद। आज के दौर में महंगाई लोगों के लिए बड़ी समस्या है। दिनों दिन बढ़ती इस महंगाई ने आम लोगों का जीना मुहाल कर रखा है, जिसके चलते लोग अपनी बुनियादी जरुरतों को भी पूरा नहीं कर पाते। बड़ी मुसीबतों के साथ वे अपना जीवन जीने को मजबूर होते हैं। ऐसे में अगर उनके परिवार में कोई गंभीर रूप से बीमार पड़ जाए तो बीमार व्यक्ति के साथ पूरे परिवार का जीवन ठहर जाता है। अस्पताल और दवाइयों के खर्च मरीज से लेकर परिवार वालों पर भी भारी पड़ता है। वहीं अगर इलाज के लिए दूसरे शहर जाना पड़ जाए तो आम इंसान इस महंगाई में रहने और खाने की व्यवस्था कैसे कर पाएगा। पर इसी दौर में हैदराबाद में एक संस्था ऐसी भी है जो केवल 10-20 रुपये में ही रहने और खाने की व्यवस्था उपलब्ध करवाती है।

 

ये भी पढ़े-तैयार हो जाएं बाबा रामदेव की ‘स्वदेशी रूप’ वाली जींस पहनने को, कपड़ों का नया ब्रांड ‘परिधान’ जल्द करेंगे लॉंच

सिर्फ 10-20 रूपये में रहने-खाने की व्यवस्था

सेवा भारती नाम के इस ट्रस्ट का मुख्य उद्देश्य दूर दराज से आने वाले मरीजों को पास के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाना और उनके तीमारदारों के लिए सस्ते रहने खाने पीने की व्यवस्था करना है। सेवा भारती के सचिव नरसिम्हा मुर्ती के अनुसार, इस ट्रस्ट की स्थापना 2013 में की गई थी। जब गांधी अस्पताल के सुपरिटेंडेंट ने उनसे कहा था कि अस्पताल मे आए मरीजों के परिजनों के रहने के लिए आश्रय की व्यवस्था होनी चाहिए। इसके बाद नरसिम्हा मुर्ती ने 3 महीनों के अंदर ही आश्रय का निर्माण करवा दिया। शुरुआत में यहां केवल 10-12 ही लोग आया करते थे पर अब यहां 1 दिन में 250 व 1 हफ्ते में कम से कम 7000 लोग आते हैं। पहले उन्हें केवल 2 समय का भोजन दिया जाता था पर अब सुबह का नाश्ता भी दिया जाता है। दूर-दराज के इलाकों से इलाज करवाने आए लोगों के लिए यह संस्था किसी वरदान से कम नहीं है।


मरीजों को मिल रही बडी राहत

इस आश्रय मे ठहरने वाली एक महिला ने बताया की वह बहुत समय से पीठ दर्द से परेशान होने के चलते यहां अपना इलाज कराने आई थी। डॉक्टर ने उसे लगातार दवाई लेने और आराम करने की सलाह दी। लेकिन उसके पास किसी होटल में ठहरने के पैसे नहीं थे। ऐसे में उसने इस आश्रम में आने का फैसला लिया जहां वह केवल 10 रुपये देकर आराम से रह रही है। इसके साथ ही खाने की सुविधा भी है। यहां उसे किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है।

ये भी पढ़े-एक बिहारी सब पर भारी... अभय कुमार सिंह रूस में बने विधायक

वहीं अन्य लोगों ने बताया कि हमें यहां केवल 10 रुपये में रहने खाने की व्यवस्था मिल रही है। इतना ही नहीं यहां नहाने की भी सुविधा मिली हुई है। यहां देश के कोने-कोने से लोग आए हैं, जो रहने-खाने का खर्चा नहीं उठा सकते पर यहां सिर्फ 10 रुपये में उन्हें सब उपल्बध है। ऐसे समय में यह संस्था किसी मिसाल से कम नहीं है।

Todays Beets: