Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

सरकारी स्कूल में कराएं बच्चों का दाखिला, मिलेगा सोने का सिक्का

प्रियंका गुप्ता
सरकारी स्कूल में कराएं बच्चों का दाखिला, मिलेगा सोने का सिक्का

चेन्नई। हमारे देश में शिक्षा की स्थिति किस कदर खराब है यह बात किसी से छिपी हुई नहीं है। ग्रामीण इलाकों में तो शिक्षा का स्तर और भी ज्यादा खराब है। ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में बच्चों के दाखिले भी नाममात्र के ही हैं। इस का एक बड़ा कारण माता-पिता का सरकारी स्कूलों के बजाए प्राइवेट स्कूलों की तरफ बढ़ता रुझान है लेकिन तमिलनाडू में कोयंबटूर के एक प्राथमिक विद्यालय ने शिक्षा के स्तर को सुधारने और बच्चों का नामांकन बढ़ाने के लिए एक अनोखी पहल की शुरुआत की है। इसके तहत स्कूल में नामांकन कराने वाले बच्चों को करीब पांच हजार रुपये 1 सोने का सिक्का और दो सेट स्कूल यूनिफॉर्म दिया जा रहा है। बता दें कि यह ऑफर एडमिशन लेने वाले पहले 10 बच्चों के लिए ही है।

स्कूल के हेडमास्टर राजेश चंद्रकुमार राय ने बताया की उनकी यह कोशिश काफी रंग ला रही है। धीरे-धीरे बच्चे स्कूल में नामांकन करने की इच्छा जाहिर कर रहे हैं। अभी तक 3 बच्चों ने दाखिला करवा लिया है और अन्य तीन बच्चों ने दाखिले की इच्छा जाहिर की है।

ये भी पढ़े-लिव-इन रिलेशन पर सुप्रिम कोर्ट ले सकती है बड़ा फैसला, महिलाओं को मिल सकता है गुजारा भत्ता


यहां आपको बता दें कि अन्नूर के कोनासलाम गांव में इस विद्यालय की शुरुआत 1996 में हुई थी तब इस विद्यालय में लगभग 165 बच्चे पढ़ा करते थे लेकिन फसल खराब होने की वजह से गांव के लोग यहां से धीरे-धीरे पलायन कर गए जिस कारण 1990 में इस स्कूल में केवल 10 बच्चे ही रह गए। अंग्रेजी स्कूलों के बढ़ते क्रेज के कारण भी यहां बच्चों के दाखिले  कम हो गए हैं।

ये भी पढ़े-हरियाणा की पंचायत का ऐलान बिना शौचालय वाले घरों में नहीं ब्याही जाएंगी लड़कियां

गौरतलब है कि स्कूल में तमाम कोशिशों के बाद भी बच्चों का दाखिला न होने से राज्य सरकार ने यहां के शिक्षकों को दूसरे स्कूलों में ट्रांसफर कर स्कूल को बंद करने का फैसला लिया जिसके बाद राजेश कुमार ने इस मुद्दे को गांव वालों के सामने रखा और बच्चों को प्रोत्साहित करने का विचार पैदा किया, ताकि वो स्कूल में नामांकन करा सकें। इसके लिए गांव के ही एक कारोबारी ने स्कूल में नामांकन कराने वाले बच्चों के लिए पांच हजार रुपये और एक सोने का सिक्का देने का प्रस्ताव रखा। ग्रामीणों का यह अनोखा प्रस्ताव शिक्षा विभाग को भेज दिया गया है। ग्रामीणों का कहना है कि वह किसी भी कीमत पर स्कूल को बंद नहीं होने देना चाहते। यह स्कूल उनके गांव की शान है और इसे बचाने के लिए वह हर संभव कोशिश करेंगे।

Todays Beets: