Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

स्टिंग में कमीशन की मांग करने वाले तीनों निजी सचिव निलंबित, एसआईटी 10 दिनों में देगी रिपोर्ट 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्टिंग में कमीशन की मांग करने वाले तीनों निजी सचिव निलंबित, एसआईटी 10 दिनों में देगी रिपोर्ट 

लखनऊ। उत्तरप्रदेश सरकार ने टीवी चैनल के द्वारा किए गए स्टिंग के बाद मंत्री ओमप्रकाश राजभर, अर्चना पांडे और संदीप सिंह के निजी सचिवों को निलंबित कर दिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश देने के साथ ही जांच के लिए गठित की गई एसआईटी को 10 दिनों के अंदर रिपोर्ट देने को कहा है। बता दें कि एक चैनल ने अपने स्टिंग में दिखाया था कि किस तरह से यूपी सरकार के मंत्रियों के निजी सचिव टेंडर दिलवाने के नाम पर कमीशन की मांग कर रहे हैं। इस खबर के बाद शासन स्तर पर हड़कंप मच गया था। 

गौरतलब है कि योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर के निजी सचिव ओमप्रकाश कश्यप, खनन राज्य मंत्री अर्चना पांडे के निजी सचिव एसपी त्रिपाठी और बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री संदीप सिंह के निजी सचिव संतोष अवस्थी को स्टिंग में टेंडर दिलाने के नाम पर कमीशन की मांग करते हुए देखा गया था। मामला सामने के बाद योगी सरकार फौरन एक्शन में आ गई और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश देने के साथ ही तीनों सचिवों को निलंबित कर दिया गया है। 


ये भी पढ़ें - आईएस माॅड्यूल के आरोपी भेजे गए 12 दिनों की रिमांड पर, पेशी के बाद पटियाला हाउस कोर्ट ने दिया आदेश

यहां बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने मामले की जांच के लिए एडीजी लखनऊ जोन राजीव कृष्ण की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन किया गया है। आईजी एसटीएफ एवं सतर्कता अधिष्ठान के वरिष्ठ अधिकारी भी इसके सदस्य होंगे। वहीं, विशेष सचिव आईटी राकेश वर्मा भी जांच में सहयोग करेंगे। आपको बता दें कि ओमप्रकाश राजभर ने अपने निजी सचिव के बारे में कहा कि वह जिस टेंडर में कमीशन की मांग कर रहा था वह शिक्षा विभाग से जुड़ा है और उन्हांेने प्रमुख सचिव को पत्र लिखकर कार्रवाई करने को कहा है। वहीं अर्चना पांडे ने पहले ही अपने सचिव एसपी त्रिपाठी के खिलाफ एसआईटी जांच कराने की बात कह चुकी है।

Todays Beets: