Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

राम मंदिर निर्माण के लिए अब हो रहा अश्वमेध यज्ञ, हजारों संतों के अयोध्या पहुंचने की उम्मीद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राम मंदिर निर्माण के लिए अब हो रहा अश्वमेध यज्ञ, हजारों संतों के अयोध्या पहुंचने की उम्मीद

नई दिल्ली। अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए धर्मसभा और धर्म संसद के आयोजन बाद अब विश्व वेदांत संस्थान की ओर से अयोध्या में अश्वमेध यज्ञ कराया जाएगा। 1 से 4 दिसंबर तक होने वाले अश्वमेध यज्ञ का मकसद अयोध्या में बिना किसी बाधा के राम मंदिर का निर्माण करवाना है। बताया जा रहा है कि इस यज्ञ को 1008 ब्राह्मण मिलकर पूरा करेंगे और इसमें यज्ञ में 11000 संतों के शामिल होने की बात कही जा रही है। यहां बता दें कि साधु समाज की ओर से सरकार पर दवाब बनाने के लिए शीतकालीन सत्र में कानून लाने की मांग की जा रही है। 

गौरतलब है कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद का विवाद सुप्रीम कोर्ट में है और इसकी सुनवाई 19 जनवरी के बाद होने वाली है। देश के लाखों मंदिर समर्थक और साधु समाज किसी भी सूरत में वहां राम मंदिर का निर्माण कराने पर अड़े हुए हैं। उनकी मांग है कि अगर इसके लिए सरकार को संसद में कानून भी बनाना पड़ता है तो बनाना चाहिए जबकि भाजपाध्यक्ष अमित शाह पहले ही कह चुके हैं कि सरकार शीतकालीन सत्र में मंदिर निर्माण से जुड़ा अध्यादेश नहीं लाएगी। वह कोर्ट की सुनवाई का इंतजार करेगी।

ये भी पढ़ें - भारत ने अमेरिकी चेतावनी को किया दरकिनार, रूस के साथ 3000 करोड़ के रक्षा सौदे को दी मंजूरी 


यहां बता दें कि साधु समाज और विश्व हिंदु परिषद की ओर से मंदिर निर्माण के लिए वाराणसी और अयोध्या में धर्मसंसद और धर्मसभा का आयोजन किया जा चुका है। इसके बाद अब विश्व वेदांत संस्थान की ओर से 1 से 4 दिसंबर तक अयोध्या में अश्वमेध यज्ञ कराया जा रहा है। इस यज्ञ को 1008 पंडितों के द्वारा पूरा किया जाएगा और इसमें करीब 11000 साधु-संतों के शामिल होने की संभावना जताई जा रही है।  संस्थान के संस्थापक आनंद महाराज ने बताया कि विश्व वेदांत संस्थान का केंद्र नीदरलैंड में है। भारत के 21 प्रदेशों में करीब 10 लाख सदस्य अब तक संस्थान से जुड़ चुके हैं।   

 

Todays Beets: