Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

भाजपा के ‘फायरब्रांड’ राष्ट्रीय प्रवक्ता की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, भोपाल की अदालत ने जारी किया जमानती वारंट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भाजपा के ‘फायरब्रांड’ राष्ट्रीय प्रवक्ता की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, भोपाल की अदालत ने जारी किया जमानती वारंट

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी को शुक्रवार की सुबह एक बड़ा झटका लगा है। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान आचार संहिता का उल्लंघन करने के आरोप में भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डाॅक्टर संबित पात्रा के खिलाफ भोपाल की एक अदालत ने कोर्ट में पेश न होने पर जमानती वारंट जारी किया है। बता दें कि मध्यप्रदेश में चुनाव प्रचार के दौरान संबित पात्रा ने सड़क पर प्रेस कांफ्रेंस किया था। अदालत ने इस मामले में डाॅक्टर पात्रा के साथ सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी एसएस उप्पल के खिलाफ भुवनेश्वर प्रसाद मिश्र ने अदालत में परिवाद दायर किया गया था। 

गौरतलब है कि परिवाद की सुनवाई के बाद मजिस्ट्रेट प्रकाश कुमार उइके ने डाॅक्टर संबित पात्रा के खिलाफ जमानती वारंट जारी करने का आदेश दिया है। यहां बता दें कि मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव के दौरान 27 अक्टूबर को एमपीनगर में संबित पात्रा ने सड़क पर बिना किसी अनुमति के सड़क पर प्रेस कांफ्रेंस आयोजित की थी जिससे ट्रैफिक की समस्या खड़ी हो गई थी। 


ये भी पढ़ें - नए साल में मोदी सरकार देगी सबको पगार!, लागू कर सकती है यूबीआई स्कीम

यहां बता दें कि चुनाव प्रचार के दौरान सड़क पर प्रेस कांफ्रेंस करने को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना गया था। इस संबंध में चुनाव आयुक्त कार्यालय और पुलिस अधीक्षक को शिकायत की गई थी। मजिस्ट्रेट ने थाना एमपी नगर को संबित पात्रा और एसएस उप्पल के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर अनुसंधान रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया था। उप्पल ने अदालत मंे हाजिर होकर जमानत की अर्जी दी थी जिसे मजिस्ट्रेट ने मंजूर कर उन्हें 5 हजार रुपए की जमानत पर रिहा कर दिया। वहीं, अदालत में हाजिर नहीं होने पर मजिस्ट्रेट ने संबित पात्रा के खिलाफ जमानती वारंट जारी करने का आदेश दिया है।

Todays Beets: