Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

लोकसभा चुनाव में होगा ‘कांग्रेस-आप’ का संभावित गठबंधन, ऐसे निपटेगी भाजपा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लोकसभा चुनाव में होगा ‘कांग्रेस-आप’ का संभावित गठबंधन, ऐसे निपटेगी भाजपा

नई दिल्ली। आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन के कयासों से निपटने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने भी अपनी तैयारी तेज कर दी है। भाजपा ने अपने कार्यकर्ताओं के लिए हर बूथ से 50 फीसदी वोट लाने का लक्ष्य रखा है। इसके साथ ही एक अन्य रणनीति भी बनाई है। भाजपा के राष्ट्रीय संगठन के महामंत्री रामलाल ने कहा कि दिसंबर, जनवरी और फरवरी में सघन प्रचार अभियान की योजना बनाई गई है। रामलाल ने कार्यकर्ताओं को ‘बूथ जीता तो चुनाव जीता’ और ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ का नारा भी दिया। बड़ी बात यह है कि कांग्रेस का कोई भी बड़ा नेता ‘आप’ से गठबंधन के बारे में अपना मुंह नहीं खेल रहा है। 

गौरतलब है कि भाजपा की रणनीति के तहत हर बूथ से 5 मोटरसाइकिल वाले कार्यकर्ता और 5 ऐसे परिवार से मिलने की योजना बनाई है जिसने भाजपा को वोट नहीं दिया है। भारतीय जनता पार्टी के द्वारा मध्यप्रदेश की तर्ज पर कार्यकर्ता के घरों पर पार्टी का झंडा और कमल दीपोत्सव मनाने की योजना भी बनाई जा रही है। महिला कार्यकर्ताओं के लिए कमल मेंहदी कार्यक्रम का आयोजन भी किया जाएगा। 

ये भी पढ़ें - Live: पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री पर चला कानून का ‘डंडा’, भ्रष्टाचार मामले में 7 साल की सजा...


यहां बता दें कि हाल ही में संपन्न हुए 5 राज्यों के चुनावों में पार्टी की हार से सबक लेते हुए कहा गया है कि पार्टी हर उस बूथ का अध्ययन करेगी जहां, लोकसभा, विधासभा या नगर निगम का चुनाव नहीं जीती है। सभी कार्यकर्ताओं को राष्ट्रीय मुद्दों को प्रमुखता से रखने के निर्देश दिए गए हैं। इसमंे राष्ट्रवाद और पाकिस्तान के प्रति भारत के आक्रामक रवैया को शामिल किया गया है। इसके साथ ही दिल्ली सरकार के हर वादे को सिर्फ झूठ बताने की भी तैयारी की जा रही है। 

 

Todays Beets: