Friday, July 21, 2017

Breaking News

   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||   नियंत्रण रेखा के पास एक चौकी में जवान ने मेजर को गोली मारी, मेजर की मौत    ||   नियंत्रण रेखा पर गुरेज सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश    ||   मानवाधिकार आयोग का आदेश, सेना की जीप से बंधे अहमद डार को दें 10 लाख मुआवजा    ||   सुरजेवाला ने कहा- सनसनी न फैलाएं, 'हां' चीन के दूत से मिले थे राहुल गांधी    ||   देखें, मुजफ्फरनगर के बीजेपी MLA उमेश मलिक ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को जेल भेजने की धमकी दी, मलिक धरने में बैठे टीचर्स से मिले थे    ||   हैम्बर्ग में 7 जुलाई को G20 समिट के लिए ब्रिक्स नेता होंगे शामिल, पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति भी लेंगे हिस्सा    ||

चीनी मीडिया की अपनी ही सरकार को हिदायत, भारत की तरक्की से परेशान न हो चीन, शांत रहे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चीनी मीडिया की अपनी ही सरकार को हिदायत, भारत की तरक्की से परेशान न हो चीन, शांत रहे

बीजिंग । भारत में मोदी सरकार की कूटनीति का असर अब चीन में भी देखा जा रहा है। चीनी मीडिया ने अपनी ही सरकार को हिदायत देते हुए कहा है कि इस समय भारत के पास बहुत मात्रा में बाहरी निवेश आ रहा है। ऐसे में आने वाले समय में भारत में कई तरह की विकास योजनाएं शुरू होंगी। इतना ही नहीं भारत में निर्माण क्षेत्र में विकास बढ़ेगा, जिससे चीन को परेशान होने की जरूरत नहीं है। बेहतर होगा कि चीन इससे परेशान हुए बिना अपने लिए आगे की रणनीति बनाए और उस पर काम करने के लिए लोग अभी से जुट जाएं। 

ये भी पढ़ें - अमेरिका में स्लीवलेस कपड़े पहनने पर रोक के​ खिलाफ महिला सांसदों ने किया प्रदर्शन, कहा स्लीवले...

चीन के सरकारी अखबरा ग्लोबल टाइम्स में रविवार को प्रशासित एक रिपोर्ट में इन बातों का उल्लेख किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस समय भारत में भारी मात्रा में विदेशी निवेश आ रहा है, जिसके चलते भारत में रोजगार के अवसर पैदा होंगे। इससे पहले भारत के पास विकास के लिए इतनी पूंजी, इतनी तकनीक और इतनी बड़ी संख्या में कुशल कारीगर नहीं थे। ऐसे में भारत में औद्योगिक विकास के साथ आर्थिक विकास को भी साफ देखा जा सकेगा। ऐसी सूरत में चीन को जरा भी परेशान होने की जरूरत नहीं है। हमें भी इस तरह की प्रक्रिया में अहम भूमिका निभानी होगी। 

ये भी पढ़ें - देश के प्रथम नागरिक पद के लिए मतदान आज, रामनाथ गोविंद और मीरा कुमार के बीच होगा मुकाबला

लेख में आगे लिखा गया है कि भारत में विकसित विनिर्माण क्षेत्र और कुशल श्रमिक भारत की पूंजी संबंधी समस्या को हल कर रहे हैं। इतना ही नहीं वे सरकार के 'मेक इन इंडिया' की पहल का भी साथ दे रहे हैं। इसके साथ ही विदेशी निवेशक भारत की कुछ कमजोरियों को बताकर देश में अपनी विनिर्माण क्षमता के पैर पसार रहे हैं जिसमें कुछ चीनी कंपनिया भी इस प्रक्रिया में शामिल हैं।

Todays Beets: