Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

चीनी मीडिया की अपनी ही सरकार को हिदायत, भारत की तरक्की से परेशान न हो चीन, शांत रहे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चीनी मीडिया की अपनी ही सरकार को हिदायत, भारत की तरक्की से परेशान न हो चीन, शांत रहे

बीजिंग । भारत में मोदी सरकार की कूटनीति का असर अब चीन में भी देखा जा रहा है। चीनी मीडिया ने अपनी ही सरकार को हिदायत देते हुए कहा है कि इस समय भारत के पास बहुत मात्रा में बाहरी निवेश आ रहा है। ऐसे में आने वाले समय में भारत में कई तरह की विकास योजनाएं शुरू होंगी। इतना ही नहीं भारत में निर्माण क्षेत्र में विकास बढ़ेगा, जिससे चीन को परेशान होने की जरूरत नहीं है। बेहतर होगा कि चीन इससे परेशान हुए बिना अपने लिए आगे की रणनीति बनाए और उस पर काम करने के लिए लोग अभी से जुट जाएं। 

ये भी पढ़ें - अमेरिका में स्लीवलेस कपड़े पहनने पर रोक के​ खिलाफ महिला सांसदों ने किया प्रदर्शन, कहा स्लीवले...

चीन के सरकारी अखबरा ग्लोबल टाइम्स में रविवार को प्रशासित एक रिपोर्ट में इन बातों का उल्लेख किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस समय भारत में भारी मात्रा में विदेशी निवेश आ रहा है, जिसके चलते भारत में रोजगार के अवसर पैदा होंगे। इससे पहले भारत के पास विकास के लिए इतनी पूंजी, इतनी तकनीक और इतनी बड़ी संख्या में कुशल कारीगर नहीं थे। ऐसे में भारत में औद्योगिक विकास के साथ आर्थिक विकास को भी साफ देखा जा सकेगा। ऐसी सूरत में चीन को जरा भी परेशान होने की जरूरत नहीं है। हमें भी इस तरह की प्रक्रिया में अहम भूमिका निभानी होगी। 


ये भी पढ़ें - देश के प्रथम नागरिक पद के लिए मतदान आज, रामनाथ गोविंद और मीरा कुमार के बीच होगा मुकाबला

लेख में आगे लिखा गया है कि भारत में विकसित विनिर्माण क्षेत्र और कुशल श्रमिक भारत की पूंजी संबंधी समस्या को हल कर रहे हैं। इतना ही नहीं वे सरकार के 'मेक इन इंडिया' की पहल का भी साथ दे रहे हैं। इसके साथ ही विदेशी निवेशक भारत की कुछ कमजोरियों को बताकर देश में अपनी विनिर्माण क्षमता के पैर पसार रहे हैं जिसमें कुछ चीनी कंपनिया भी इस प्रक्रिया में शामिल हैं।

Todays Beets: