Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

दिल्ली में धर्म के आधार पर बांटी गई क्लास, प्रिंसिपल सस्पेंड, जांच के आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली में धर्म के आधार पर बांटी गई क्लास, प्रिंसिपल सस्पेंड, जांच के आदेश

नई दिल्ली। स्कूलों में बच्चों को धर्म और जाति के भेदभाव के बिना शिक्षा दी जाती है। आपने ऐसा सुना है कि कक्षा में बच्चों को उनके धर्म के अनुसार अलग बैठने की व्यवस्था की गई हो। दिल्ली के वजीराबाद इलाके से एक ही खबर सामने आई है। यहां प्रिंसिपल इंचार्ज ने संप्रदाय के नाम पर बच्चों के बैठने की व्यवस्था कर दी। मामले का खुलासा होने पर आनन-फानन में नगर निगम ने जांच के आदेश दे दिए हैं। उत्तरी निगम के मेयर का कहना है कि जांच रिपोर्ट में दोषी पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल प्रिंसिपल को सस्पेंड कर दिया गया है।  वहीं दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग (डीसीपीसीआर) ने भी इस व्यवस्था को खत्म करने का आदेश देते हुए 2 दिनों के अंदर सभी कक्षाओं में छात्रों को बिना किसी भेदभाव के बैठाने के निर्देश दिए हैं। फिलहाल इस मामले पर राजनीति भी तेज हो गई है। 

गौरतलब है कि वजीराबाद में एमसीडी के एक स्कूल में 5वीं तक की कक्षा में 17 सेक्शन हैं। इनमें से 8 सेक्शन में छात्रों को उनके धर्म के आधार पर अलग से बैठने की व्यवस्था कर दी गई। इसकी खबर मिलते ही नगर निगम फौरन हरकत में आया और मामले की जांच के आदेश दिए हैं। उत्तरी नगर निगम के मेयर का कहना है कि जांच रिपोर्ट में दोषी पाए जाने वाले व्यक्ति पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

ये भी पढ़ें - चुनाव से पहले राजस्थान में भाजपा को लग सकता है झटका, मानवेन्द्र सिंह थामेंगे ‘हाथ’!


यहां बता दें कि छात्रों को धर्म के आधार पर कक्षा में अलग स्थानों पर बैठाने के मामले का संज्ञान लेते हुए दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने फौरन इस व्यवस्था को खत्म करते हुए 2 दिनों के अंदर सभी कक्षाओं में छात्रों को बिना किसी भेदभाव के बैठाने के आदेश दिए हैं। मेयर ने कहा कि इस मामले की जांच के लिए निदेशक और इंस्पेक्टर भी स्कूल पहुंचकर मामले से जुड़े तमाम पहलुओं की छानबीन में जुटे हैं।  

गौर करने वाली बात है कि दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने इस प्रकरणा पर ट्वीट किया कि ‘‘भाजपा शासित एमसीडी में हिन्दू मुस्लिम बच्चों को अलग अलग कमरों में बिठाने की हरकत देश के संविधान के खिलाफ सबसे बड़ी साजिश है।  मैंने दिल्ली के शिक्षा निदेशक को इस मामले की जांच के बाद शुक्रवार तक रिपोर्ट सौंपने को कहा है।’’

 

Todays Beets: