Wednesday, March 27, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

‘फतवा फैक्ट्री’ दारुल उलूम देवबंद से निकला एक और फतवा, महिला एंकर के लिए स्कार्फ जरूरी बताया 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
‘फतवा फैक्ट्री’ दारुल उलूम देवबंद से निकला एक और फतवा, महिला एंकर के लिए स्कार्फ जरूरी बताया 

नई दिल्ली। छात्रों को शिक्षा देने की जगह फतवा फैक्ट्री बन चुकी यूपी के शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने शुक्रवार को अब एक नया फतवा जारी किया है। दारुल उलूम देवबंद की ओर से जारी ताजा फतवे में मुस्लिम महिला टीवी एंकरों को निशाना बनाया गया है। इसमें कहा गया है कि महिलाओं को एंकरिंग या रिपोर्टिंग करते समय स्कार्फ या बुर्के का इस्तेमाल करना चाहिए। स्कार्फ बांधने से बाल खुले नहीं दिखते हैं क्योंकि महिलाओं को खुले बालों के साथ एंकरिंग करने की इजाजत इस्लाम नहीं देता है। यहां बता दें कि इससे पहले भी इस फतवा फैक्ट्री ने महिलाओं के नेल पाॅलिश, मर्दों के साथ खड़े होकर खाना खाने से लेकर मोबाइल में बातों को रिकाॅर्ड करने को लेकर फतवा जारी कर चुका है। 

गौरतलब है कि दारुल उलूम देवबंद के मुफ्ती अहमद ने कहा कि इस्लाम में मर्दों और औरतों को अपना एवं अपने परिवार के पालन के लिए कोई भी काम करने का अधिकार दिया गया है। ऐसे में टीवी पर एंकरिंग करने वाली महिलाओं के लिए तरीके शरियत में बताए गए हैं। इसमें कहा गया है कि मुस्लिम महिलाएं खुले बालों के साथ एंकरिंग या रिपोर्टिंग नहीं कर सकती हैं। उन्हें इस दौरान स्कार्फ या बुर्के का इस्तेमाल करना चाहिए। बुर्का पहनने से पूरा शरीर भी ढंका रहता है और बाल भी खुले नहीं रहते हैं। 

ये भी पढ़ें - सीट बंटवारे का पेंच अभी भी अनसुलझा, नीतीश से बात के बाद हो सकता है ऐलान!


यहां बता दें कि इससे पहले भी दारुल उलूम देवबंद की ओर से कहा गया था कि महिलाओं के लिए नेल पाॅलिश लगाना हराम है। कुछ दिनों पहले भी संस्थान की ओर से मर्दों के साथ खड़े होकर खाना खाने और बिना इजाजत के किसी की बात को मोबाइल में रिकाॅर्ड करने के खिलाफ भी फतवा जारी किया गया था। 

 

Todays Beets: