Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

नौजवानों को रोजगार के नाम पर 3 साल में खर्च कर दिए करोड़ों रुपये, नौकरी मिली सिर्फ 344 को

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नौजवानों को रोजगार के नाम पर 3 साल में खर्च कर दिए करोड़ों रुपये, नौकरी मिली सिर्फ 344 को

नई दिल्ली। दिल्ली की आम आदमी पार्टी की मुश्किलें नेताओं के साथ छोड़ने से बढ़ने के अलावा उसके काम की वजह से भी किरकिरी होने लगी है। दिल्ली सरकार द्वारा राज्य के नौजवानों को पिछले 3 सालों में नौकरी देने के नाम पर कई करोड़ रुपये खर्च कर दिए और महज 344 लोगों को ही नौकरी दी गई। भाजपा के नेता विजेंद्र गुप्ता के द्वारा मांगी गई जानकारी के बाद सरकार की ओर से यह बताया गया है।

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार के रोजगार मंत्री सेे मांगी गई जानकारी पर सरकार की ओर से लिखित जानकारी दी गई है। सरकार की ओर से बताया गया है कि 2015 में 176, 2016 में 102 और 2017 में मात्र 76 लोगों को नौकरी दी गई है। 

यहां बता दें कि आम आदमी पार्टी के बड़े नेता आशुतोष और आशीष खेतान के इस्तीफा देने के बाद उसकी मुश्किलों में इजाफा हो गया है। इससे पहले पंजाब के नेता खैरा भी अपनी नाराजगी जताते हुए अलग हो गए थे। सरकार की ओर से दी गई जानकारी में बताया गया कि रोजगार विभाग ने 3 सालों में राजधानी के 5 रोजगार कार्यालयों में कुल 2.87 लोगों ने पंजीकरण कराया था। इनमें से 8 हजार नाम नियोक्ताओं को भेजे गए।


ये भी पढ़ें - हिमाचल के सरकारी स्कूलों में अब ये विषय नहीं पढ़ाए जाएंगे, छात्रों में मचा हड़कंप

गौर करने वाली बात है कि जिन 344 लोगों को नौकरी मिली उनमें से 177 को कंडक्टर, वॉटरमैन और टेम्पररी वॉटरमैन पद पर नियुक्त हुए। सरकार ने इस बात का दावा तो किया कि सरकार की ओर से आयोजित रोजगार मेले में करीब 3 हजार से ज्यादा लोगों को शाॅर्टलिस्ट किया गया लेकिन उनमें से कितनों को नौकरी दी गई इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई है। 

 

Todays Beets: