Wednesday, March 27, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

श्रीराम की आरती करने वाली मुस्लिम महिलाओं को देवबंदी उलेमा का फरमान, इस्लाम से किया खारिज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
श्रीराम की आरती करने वाली मुस्लिम महिलाओं को देवबंदी उलेमा का फरमान, इस्लाम से किया खारिज

नई दिल्ली। दिवाली के मौके पर श्रीराम की पूजा और आरती करना वाराणसी की कुछ मुस्लिम महिलाओं का भारी पड़ गया। देवबंदी उलेमा ने फतवा जारी करते हुए उन्हें इस्लाम से खारिज बताया है। उन्होंने महिलाओं को अल्लाह से माफी मांग दोबारा कलमा पढ़कर  इमान में दाखिल होने की हिदायत दी है। 

इस्लाम से खारिज

गौरतलब है कि वारणसी में एक संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में नाजनीन अंसारी समेत कुछ मुस्लिम महिलाओं ने उर्दू में रचित श्रीराम की आरती और हनुमान चालीसा का पाठ किया था। इसी बात को लेकर मुस्लिम समाज के लोग नाराज हो गए। फतवा ऑनलाइन के संस्थापक मुफ्ती अरशद फारुकी समेत अन्य उलेमा-ए-कराम ने कहा कि जिन महिलाओं ने हिन्दु धर्म के तरीके को अपनाते हुए यह काम किया है वे इस्लाम से भी बाहर हैं क्योंकि इस्लाम धर्म में अल्लाह के सिवाय किसी दूसरे मजहब के साथ मोहब्बत और नरमी तो बरती जा सकती है लेकिन पूजा नहीं की जा सकती है।


ये भी पढ़ें - अफगानिस्तान में हुआ आत्मघाती हमला, 72 से ज्यादा लोगों की मौत

माफी मांगे महिलाएं

आपको बता दें कि मौलानाओं ने इन महिलाओं को अपनी गलती मानकर दोबारा कलमा पढ़कर कर इस्लाम में शामिल होने की हिदायत दी है। ऐसा करने के बाद ही उन्हें माफ कर इमान में दाखिल समझा जाएगा। 

Todays Beets: