Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

श्रीराम की आरती करने वाली मुस्लिम महिलाओं को देवबंदी उलेमा का फरमान, इस्लाम से किया खारिज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
श्रीराम की आरती करने वाली मुस्लिम महिलाओं को देवबंदी उलेमा का फरमान, इस्लाम से किया खारिज

नई दिल्ली। दिवाली के मौके पर श्रीराम की पूजा और आरती करना वाराणसी की कुछ मुस्लिम महिलाओं का भारी पड़ गया। देवबंदी उलेमा ने फतवा जारी करते हुए उन्हें इस्लाम से खारिज बताया है। उन्होंने महिलाओं को अल्लाह से माफी मांग दोबारा कलमा पढ़कर  इमान में दाखिल होने की हिदायत दी है। 

इस्लाम से खारिज

गौरतलब है कि वारणसी में एक संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में नाजनीन अंसारी समेत कुछ मुस्लिम महिलाओं ने उर्दू में रचित श्रीराम की आरती और हनुमान चालीसा का पाठ किया था। इसी बात को लेकर मुस्लिम समाज के लोग नाराज हो गए। फतवा ऑनलाइन के संस्थापक मुफ्ती अरशद फारुकी समेत अन्य उलेमा-ए-कराम ने कहा कि जिन महिलाओं ने हिन्दु धर्म के तरीके को अपनाते हुए यह काम किया है वे इस्लाम से भी बाहर हैं क्योंकि इस्लाम धर्म में अल्लाह के सिवाय किसी दूसरे मजहब के साथ मोहब्बत और नरमी तो बरती जा सकती है लेकिन पूजा नहीं की जा सकती है।


ये भी पढ़ें - अफगानिस्तान में हुआ आत्मघाती हमला, 72 से ज्यादा लोगों की मौत

माफी मांगे महिलाएं

आपको बता दें कि मौलानाओं ने इन महिलाओं को अपनी गलती मानकर दोबारा कलमा पढ़कर कर इस्लाम में शामिल होने की हिदायत दी है। ऐसा करने के बाद ही उन्हें माफ कर इमान में दाखिल समझा जाएगा। 

Todays Beets: