Sunday, June 24, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

श्रीराम की आरती करने वाली मुस्लिम महिलाओं को देवबंदी उलेमा का फरमान, इस्लाम से किया खारिज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
श्रीराम की आरती करने वाली मुस्लिम महिलाओं को देवबंदी उलेमा का फरमान, इस्लाम से किया खारिज

नई दिल्ली। दिवाली के मौके पर श्रीराम की पूजा और आरती करना वाराणसी की कुछ मुस्लिम महिलाओं का भारी पड़ गया। देवबंदी उलेमा ने फतवा जारी करते हुए उन्हें इस्लाम से खारिज बताया है। उन्होंने महिलाओं को अल्लाह से माफी मांग दोबारा कलमा पढ़कर  इमान में दाखिल होने की हिदायत दी है। 

इस्लाम से खारिज

गौरतलब है कि वारणसी में एक संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में नाजनीन अंसारी समेत कुछ मुस्लिम महिलाओं ने उर्दू में रचित श्रीराम की आरती और हनुमान चालीसा का पाठ किया था। इसी बात को लेकर मुस्लिम समाज के लोग नाराज हो गए। फतवा ऑनलाइन के संस्थापक मुफ्ती अरशद फारुकी समेत अन्य उलेमा-ए-कराम ने कहा कि जिन महिलाओं ने हिन्दु धर्म के तरीके को अपनाते हुए यह काम किया है वे इस्लाम से भी बाहर हैं क्योंकि इस्लाम धर्म में अल्लाह के सिवाय किसी दूसरे मजहब के साथ मोहब्बत और नरमी तो बरती जा सकती है लेकिन पूजा नहीं की जा सकती है।


ये भी पढ़ें - अफगानिस्तान में हुआ आत्मघाती हमला, 72 से ज्यादा लोगों की मौत

माफी मांगे महिलाएं

आपको बता दें कि मौलानाओं ने इन महिलाओं को अपनी गलती मानकर दोबारा कलमा पढ़कर कर इस्लाम में शामिल होने की हिदायत दी है। ऐसा करने के बाद ही उन्हें माफ कर इमान में दाखिल समझा जाएगा। 

Todays Beets: