Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

बिजली विभाग के कर्मचारियों ने दिखाई दरियादिली, अंधेरे स्कूलों में फिर से फैला उजाला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिजली विभाग के कर्मचारियों ने दिखाई दरियादिली, अंधेरे स्कूलों में फिर से फैला उजाला

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक दिल को छू लेने वाला वाकया सामने आया है। औरंगाबाद जिले के लगभग 35 मॉडल स्कूलों की बिजली पिछले 2 साल से बिजली का बिल न भर पाने के कारण काट दी गई थी जिसके बाद से स्कूल के बच्चे अंधेरे में पढ़ने को मजबूर थे, लेकिन जिस विभाग ने स्कूल की बिजली काटी थी उसी विभाग के कर्मचारियों ने अपने 1 दिन की सैलरी जमा करवाकर स्कूलों में फिर से उजाला कर दिया। दरअसल बिजली बिल जमा न करने की वजह से लगभग 35 मॉडल स्कूलों की बिजली काट दी गई थी। पूरे जिले के आईएसओ सर्टिफाइड स्कूल पिछले 2 सालों से बिजली बिल जमा नहीं कर पा रहे थे जिसकी वजह से महाराष्ट्र स्टेट इलेक्ट्रीसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (एमएसईडीसीएल) ने 6 महीने पहले स्कूलों की बिजली काट दी गई थी।

ये भी पढ़े-साधारण टिकटों के लिए अब नहीं खड़े होना होगा लंबी लाइनों में, मोबाइल एप से मिलेगा टिकट

स्कूलों में बिजली न होने का खामियाजा मासूम बच्चों को भुगतना पड़ रहा था। बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए एमएसईडीसीएल के कर्मचारियों ने अपनी दरियादिली दिखाते हुए अपनी 1 दिन की सैलरी स्कूलों को बिजली का बिल जमा करवाने के लिए दान कर दिया।

ये भी पढ़े-अस्पतालों में इंजेक्शन लगवाने से पहले रहें सावधान, खतरनाक सिरिंज का हो रहा इस्तेमाल


इस मामले पर वहां के एमएसईडीसीएल के संयुक्त महानिदेशक ने बताया कि हमारा स्टाफ पिछले दिनो सोशल कॉज के लिए जमा हुआ था और इस दौरान उन्होंने फैसला किया कि वे अपनी 1 दिन की सैलरी स्कूल में बिजली सप्लाई करने के लिए दान कर देगी। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि जिन स्कूलों की बिजली काटी गई है वह सारे स्कूल डिजिटल स्कूल हैं , जहां बिजली बहुत जरूरी है।

गौरतलब है कि इन स्कूलों पर 3.22 लाख बिजली का बिल बकाया था। सोमवार को बिजली का बिल भरने के बाद से इन स्कूलों में बिजली वापस आ गई है। बता दें कि जिला परिषद द्वारा चलाए जा रहे 2000 स्कूलों में से 150 स्कूल मॉडल हैं।

 

Todays Beets: