Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

यूपी के कर्मचारी ने आॅफिस देरी से आने की बताई ऐसी वजह, सुनकर आप भी हो जाएंगे लोटपोट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी के कर्मचारी ने आॅफिस देरी से आने की बताई ऐसी वजह, सुनकर आप भी हो जाएंगे लोटपोट

लखनऊ। ज्यादा राज्यों के सरकारी दफ्तरों में कर्मचारियों के कार्यालय आने के समय निर्धारित कर दिए गए हैं। इसके बावजूद कर्मचारी अक्सर ही देरी से आते हैं और कारण पूछे जाने पर कोई बहाना बना देते हैं। अगर कोई कर्मचारी रोज ही देरी से दफ्तर आने लगे और जब उससे कारण पूछा जाए तो ऐसा कारण सामने आए कि उस पर गुस्सा करने के बजाय अधिकारी को तरस आ जाए तो आप क्या कहेंगे। ऐसी ही एक घटना यूपी में सामने आई है। अशोक कुमार ने अपने लिखित स्पष्टीकरण में पत्नी की सेवा में लगे रहने को देरी का कारण बताया है। 

गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश के चित्रकूट इलाके के वाणिज्यकर के कार्यालय में आशुलिपिक के पद पर तैनात अशोक कुमार के रोज देरी से कार्यालय पर वाणिज्य कमिश्नर के द्वारा उनसे सवाल पूछा गया कि वे कार्यालय निर्धारित समय 10 बजकर 15 मिनट पर क्यों नहीं आए?  इसके लिए उन्होंने कोई जानकारी भी क्यों नहीं दी? ऐसे में उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जाए? अशोक कुमार से इसका लिखित स्पष्टीकरण मांगा गया।  

यहां बता दें कि आशुलिपिक अशोक कुमार ने जो लिखित स्पष्टीकरण दिया उसके बारे में सुनकर आपको हंसी भी आएगी और थोड़ा तरस भी आएगा। कुमार ने अपने लिखित स्पष्टीकरण में ‘‘साहब पत्नी की तबीयत खराब रहती है। उसके शरीर में दर्द रहता है तो हाथ पैर भी दबाने पड़ते हैं। पत्नी के बीमार रहने की वजह से खाना मुझे ही बनाना पड़ता है। रोटी बनाना सीख रहा हूं। कभी-कभी रोटियां जल जाती हैं। जिसपर पत्नी नाराज होती है। आजकल मैं दलिया बनाकर खा रहा हूं। मेरे इलाके की सड़कों पर बहुत गड्ढे हैं। कभी इनके कारण तो कभी जाम के कारण ऑफिस देरी से पहुंचता हूं।’’


ये भी पढ़ें - राफेल विमान पर लगाए जा रहे आरोप के बाद रिलायंस ने कांग्रेस प्रवक्ता को भेजा कानूनी नोटिस, मुं...

कर्मचारी के इस स्पष्टीकरण से अधिकारियों ने उनपर गुस्सा करने के बजाय मानवीय रुख अपनाया है। स्पष्टीकरण में कर्मचारी ने कहा कि ‘‘आगे से वह सुबह जल्दी उठकर बीबी की सेवा कर दफ्तर के लिए निकलेगा।’’ आपको बता दें कि उत्तरप्रदेश में देरी से कार्यालय आने वालों की सूची काफी लंबी है लेकिन कई लोगों का यह भी कहना है कि अगर रोजाना देरी से आने वालों को मानवीय मदद मिलती रहेगी तो देश के विकास का काम कैसे होगा!

 

Todays Beets: