Wednesday, October 17, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

सरकारी कर्मचारियों के लिए बूढ़े मां-बाप की अनदेखी पड़ेगी महंगी, कटेगा वेतन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकारी कर्मचारियों के लिए बूढ़े मां-बाप की अनदेखी पड़ेगी महंगी, कटेगा वेतन

नई दिल्ली। अपने बूढ़े मां-बाप की देखभाल और सेवा नहीं करना सरकारी कर्मचारियों को महंगा पड़ सकता है। दरअसल असम सरकार इसी साल अक्टूबर महीने से एक ऐसा कानून लाने जा रही है जिसमें सरकारी कर्मचरियों को उनपर आश्रित मां-बाप के साथ शारीरिक रूप से अशक्त भाई-बहन की देखभाल करना अनिवार्य होगा। इस कानून का पालन नहीं करने वाले कर्मचारियों के वेतन से पैसे काट लिए जाएंगे।  राज्य के वित्त मंत्री हेमंत विश्व सरमा ने यह जानकारी दी और साथ ही बताया कि इस तरह का कानून लाने वाला असम देश का पहला राज्य होगा। 

गौरतलब है कि पत्रकारों से बात करते हुए हेमंत विश्व सरमा ने कहा कि मंत्रिमंडल की ओर से इसी हफ्ते ‘प्रणाम अधिनियम के नियमों को मंजूरी दी है। वित्त मंत्री ने कहा कि जल्द ही प्रणाम आयोग का गठन किया जाएगा और अधिकारियों को नियुक्त किया जाएगा। महात्मा गांधी की जयंति यानी की 2 अक्टूबर से प्रणाम अधिनियम को लागू कर दिया जाएगा। 


ये भी पढ़ें - अमरनाथ यात्रा पर एक बार फिर मंडराया आतंकी हमले का खतरा, सुरक्षा व्यवस्था की गई दुरुस्त

यहां बता दें कि असम सरकार ने पिछले साल असम कर्मचारी माता-पिता जिम्मेदारी एवं जवाबेदही तथा निगरानी नियम विधेयक, 2017 या प्रणाम विधेयक को पारित किया था। यह अधिनियम लाने का मकसद राज्य के कर्मचारियों को अपने वृद्ध माता-पिता और और अशक्त भाई-बहनों के प्रति जिम्मेदार बनाना है। ऐसा नहीं करने वाले कर्मचारियों के वेतन से उनकी सैलरी का 10 फीसदी हिस्सा काट कर माता-पिता के खाते में डाल दी जाएगी, वहीं अशक्त भाई-बहनों की देखभाल नहीं करने पर 15 फीसदी वेतन काटा जाएगा।

Todays Beets: