Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

सरकारी कर्मचारियों के लिए बूढ़े मां-बाप की अनदेखी पड़ेगी महंगी, कटेगा वेतन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकारी कर्मचारियों के लिए बूढ़े मां-बाप की अनदेखी पड़ेगी महंगी, कटेगा वेतन

नई दिल्ली। अपने बूढ़े मां-बाप की देखभाल और सेवा नहीं करना सरकारी कर्मचारियों को महंगा पड़ सकता है। दरअसल असम सरकार इसी साल अक्टूबर महीने से एक ऐसा कानून लाने जा रही है जिसमें सरकारी कर्मचरियों को उनपर आश्रित मां-बाप के साथ शारीरिक रूप से अशक्त भाई-बहन की देखभाल करना अनिवार्य होगा। इस कानून का पालन नहीं करने वाले कर्मचारियों के वेतन से पैसे काट लिए जाएंगे।  राज्य के वित्त मंत्री हेमंत विश्व सरमा ने यह जानकारी दी और साथ ही बताया कि इस तरह का कानून लाने वाला असम देश का पहला राज्य होगा। 

गौरतलब है कि पत्रकारों से बात करते हुए हेमंत विश्व सरमा ने कहा कि मंत्रिमंडल की ओर से इसी हफ्ते ‘प्रणाम अधिनियम के नियमों को मंजूरी दी है। वित्त मंत्री ने कहा कि जल्द ही प्रणाम आयोग का गठन किया जाएगा और अधिकारियों को नियुक्त किया जाएगा। महात्मा गांधी की जयंति यानी की 2 अक्टूबर से प्रणाम अधिनियम को लागू कर दिया जाएगा। 


ये भी पढ़ें - अमरनाथ यात्रा पर एक बार फिर मंडराया आतंकी हमले का खतरा, सुरक्षा व्यवस्था की गई दुरुस्त

यहां बता दें कि असम सरकार ने पिछले साल असम कर्मचारी माता-पिता जिम्मेदारी एवं जवाबेदही तथा निगरानी नियम विधेयक, 2017 या प्रणाम विधेयक को पारित किया था। यह अधिनियम लाने का मकसद राज्य के कर्मचारियों को अपने वृद्ध माता-पिता और और अशक्त भाई-बहनों के प्रति जिम्मेदार बनाना है। ऐसा नहीं करने वाले कर्मचारियों के वेतन से उनकी सैलरी का 10 फीसदी हिस्सा काट कर माता-पिता के खाते में डाल दी जाएगी, वहीं अशक्त भाई-बहनों की देखभाल नहीं करने पर 15 फीसदी वेतन काटा जाएगा।

Todays Beets: