Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

यूपी के किसान को 19 टन आलू बेचने के बाद बचे सिर्फ 490 रुपये, पीएमओ को किया मनीऑर्डर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी के किसान को 19 टन आलू बेचने के बाद बचे सिर्फ 490 रुपये, पीएमओ को किया मनीऑर्डर

नई दिल्ली। केंद्र सरकार नए साल में भले ही किसानों को बड़ा तोहफा देने की योजना बना रही हो लेकिन किसानों की बदहाली दिनों-दिन बढ़ती जा रही है। उत्तरप्रदेश के बरेली निवासी प्रदीप कुमार को 19 टन आलू के बेचने के बाद सिर्फ 490 रुपये की बचत हुई। किसान ने इस रकम को प्रधानमंत्री कार्यालय को मनीआॅर्डर कर दिया है। किसान के अनुसार उसे 50 किलो के एक पैकेट पर महज 1 रुपये 33 पैसे की बचत हुई जबकि उसकी लागत 500 रुपये आई थी। यहां बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र के किसान ने भी प्याज की फसल को बेचने के बाद मिली रकम को पीएमओ को मनीआॅर्डर कर भेजा था। 

गौरतलब है कि यूपी के बरेली शहर के किसान ने बताया कि उसने करीब 19 टन आलू महाराष्ट्र की मंडी में बेचा जिससे उसे करीब 94677 रुपये मिले थे। इस माल को भेजने में बतौर भाड़ा उनका 42,030 रुपये लग गया। इसके अलावा मंडी में आलू की अनलोडिंग के लिए उनको 993 रुपये खर्च करने पड़े।


ये भी  पढ़ें- लोकसभा LIVE - विपक्षी सांसदों ने संसद में उड़ाए कागज के हवाई जहाज , जमकर हंगामा जारी

यहां बता दें कि आलू की बिक्री कराने वाले दलाल ने कमीशन के 3790 रुपये रख लिए। आलू की किस्म अलग थी इस वजह से उनकी छटाई कराई गई ऐसे में किसान की जेब से 400 रुपये लग गए। आलू की बोरी को दोबारा पैक करने में सुतली प्रयोग की, जिसका बिल 45 रुपये आया। यह आलू चूंकि कोल्ड स्टोर में रखा था, इसका भंडारण खर्च लगभग 46 हजार रुपये आया। सारे बिलों के भुगतान के बाद किसान के हाथ 490 रुपये आए। आपको बता दें कि इससे पहले भी महाराष्ट्र के एक किसान प्याज की बिक्री के बाद मिली रकम को पीएमओ को भेजा था इसके बाद पीएम मोदी ने कृषि मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बात करने के बाद किसानों के फायदे के बारे में योजना बनाने की बात कही थी। आपको बता दें कि बरेली के किसान ने अपनी बदहाली पर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यू की मांग की लेकिन उसपर भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। 

Todays Beets: