Tuesday, October 16, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

मध्यप्रदेश भाजपा में उभर रहा असंतोष, पद्मा शुक्ला के बाद रीवा के पूर्व विधायक ने थामा ‘हाथ’

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मध्यप्रदेश भाजपा में उभर रहा असंतोष, पद्मा शुक्ला के बाद रीवा के पूर्व विधायक ने थामा ‘हाथ’

भोपाल। मध्यप्रदेश में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं लेकिन इस चुनाव से पहले राज्य में भाजपा को एक बड़ा झटका लगा है। रीवा से भाजपा के पूर्व विधायक पुष्पराज सिंह ने शुक्रवार को पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए। बताया जा रहा है कि पूर्व विधायक के कांग्रेस में शामिल होने को भाजपा के लिए दोहरा झटका माना जा रहा है क्योंकि इससे पहले कटनी जिले की पद्मा शुक्ला ने भी कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की थी। 

गौरतलब है कि रीवा के पूर्व विधायक पुष्पराज सिंह के बेटे दिव्यराज सिंह रीवा जिले की सिरमौर विधानसभा सीट से भाजपा के विधायक हैं। रीवा के पूर्व विधायक ने शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और पार्टी में शामिल होने का ऐलान किया। 


ये भी पढ़ें - ‘पराक्रम पर्व’ पर शिवसेना का हमला, कहा-शहीदों के नाम का फायदा उठा रही है भाजपा 

यहां बता दें कि कटनी की विधायक पद्मा शुक्ला ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह को लिखे पत्र में कहा कि ‘‘मैं 1980 से भाजपा की प्राथमिक सदस्य रही हूं व पार्टी के विभिन्न दायित्वों का निर्वहन किया है, मगर विजय राघवगढ़ (कटनी जिला) विधानसभा चुनाव के उपचुनाव के बाद से मेरी लगातार उपेक्षा हो रही है, उपेक्षा और प्रताड़ना से क्षुब्ध होकर भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रही हूं।’’ यहां बता दें कि पद्मा शुक्ला साल 2013 में विजयराघव गढ़ से चुनाव लड़ा था और 900 वोटों से हार गई थीं। 

Todays Beets: