Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

मध्यप्रदेश भाजपा में उभर रहा असंतोष, पद्मा शुक्ला के बाद रीवा के पूर्व विधायक ने थामा ‘हाथ’

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मध्यप्रदेश भाजपा में उभर रहा असंतोष, पद्मा शुक्ला के बाद रीवा के पूर्व विधायक ने थामा ‘हाथ’

भोपाल। मध्यप्रदेश में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं लेकिन इस चुनाव से पहले राज्य में भाजपा को एक बड़ा झटका लगा है। रीवा से भाजपा के पूर्व विधायक पुष्पराज सिंह ने शुक्रवार को पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए। बताया जा रहा है कि पूर्व विधायक के कांग्रेस में शामिल होने को भाजपा के लिए दोहरा झटका माना जा रहा है क्योंकि इससे पहले कटनी जिले की पद्मा शुक्ला ने भी कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की थी। 

गौरतलब है कि रीवा के पूर्व विधायक पुष्पराज सिंह के बेटे दिव्यराज सिंह रीवा जिले की सिरमौर विधानसभा सीट से भाजपा के विधायक हैं। रीवा के पूर्व विधायक ने शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और पार्टी में शामिल होने का ऐलान किया। 


ये भी पढ़ें - ‘पराक्रम पर्व’ पर शिवसेना का हमला, कहा-शहीदों के नाम का फायदा उठा रही है भाजपा 

यहां बता दें कि कटनी की विधायक पद्मा शुक्ला ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह को लिखे पत्र में कहा कि ‘‘मैं 1980 से भाजपा की प्राथमिक सदस्य रही हूं व पार्टी के विभिन्न दायित्वों का निर्वहन किया है, मगर विजय राघवगढ़ (कटनी जिला) विधानसभा चुनाव के उपचुनाव के बाद से मेरी लगातार उपेक्षा हो रही है, उपेक्षा और प्रताड़ना से क्षुब्ध होकर भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रही हूं।’’ यहां बता दें कि पद्मा शुक्ला साल 2013 में विजयराघव गढ़ से चुनाव लड़ा था और 900 वोटों से हार गई थीं। 

Todays Beets: