Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

जीएसआई के वैज्ञानिकों ने खोजा भारतीय समुद्रों में छिपा लाखों टन कीमती धातुओं और खनिजों का खजाना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जीएसआई के वैज्ञानिकों ने खोजा भारतीय समुद्रों में छिपा लाखों टन कीमती धातुओं और खनिजों का खजाना

कोलकाता।

भारतीय वैज्ञानिकों ने भारत के समुद्रों में छिपे लाखों टन कीमती धातुओं को खनिजों की खोज  है। जियोलॉजिकल सर्वे आॅफ इंडिया के वैज्ञानिकों ने यह खोज की है। पहली बार 2014 में मंगलुरु, चेन्नै, मन्नार बसीन, अंडमान और निकोबार द्वीप और लक्षद्वीप के आसपास समुद्री संसाधनों की पहचान की गई थी।

ये भी पढें— रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने पेश की अनूठी मिसाल, स्कूल में लड़कियों को पढ़ा रहीं साइंस

अब वैज्ञानिकों को इन जगहों पर लाइम मड, फोसफेट-रिच और हाइड्रोकार्बन्स जैसी चीजें मिली हैं। जिस मात्रा में वैज्ञानिकों को यहां खनिज मिले हैं, उससे अनुमान लगाया जा रहा है कि पानी के और भीतर और बडी मात्रा में कीमती धातु और खनिज मिल सकते हैं।

ये भी पढ़ें— रेल यात्रियों की सुविधा के लिए लाॅन्च हुआ ‘सारथी एप’, टिकट बुकिंग से लेकर होटल बुकिंग सब एक क्लिक पर


दरअसल, अपनी तीन साल की खोज के बाद जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने 181,025 वर्ग किमी का हाई रेजॉल्यूशन सीबेड मोरफोलॉजिकल डेटा तैयार किया है और 10 हजार मिलियन टन लाइम मड के होने की बात कही है। तीन अत्याधुनिक अनुसंधान जहाज समुद्र रत्नाकर, समुद्र कौसतुभ और समुद्र सौदीकामा को इस मदद में लगाया गया है।

ये भी पढ़ें— अमरनाथ यात्रियों की बस खाई में गिरी, 17 की मौत, 29 लोग घायल

जीएसआई के सुपरिंटेंडेंट जिऑलजिस्ट आशीष नाथ ने बताया कि इसका मुख्य मकसद मिनरलाइजेशन के संभावित इलाकों की पहचान करना और मरीन मिनरल सांसधनों का आकलन करना है।

 

Todays Beets: