Sunday, November 19, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

जीएसआई के वैज्ञानिकों ने खोजा भारतीय समुद्रों में छिपा लाखों टन कीमती धातुओं और खनिजों का खजाना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जीएसआई के वैज्ञानिकों ने खोजा भारतीय समुद्रों में छिपा लाखों टन कीमती धातुओं और खनिजों का खजाना

कोलकाता।

भारतीय वैज्ञानिकों ने भारत के समुद्रों में छिपे लाखों टन कीमती धातुओं को खनिजों की खोज  है। जियोलॉजिकल सर्वे आॅफ इंडिया के वैज्ञानिकों ने यह खोज की है। पहली बार 2014 में मंगलुरु, चेन्नै, मन्नार बसीन, अंडमान और निकोबार द्वीप और लक्षद्वीप के आसपास समुद्री संसाधनों की पहचान की गई थी।

ये भी पढें— रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने पेश की अनूठी मिसाल, स्कूल में लड़कियों को पढ़ा रहीं साइंस

अब वैज्ञानिकों को इन जगहों पर लाइम मड, फोसफेट-रिच और हाइड्रोकार्बन्स जैसी चीजें मिली हैं। जिस मात्रा में वैज्ञानिकों को यहां खनिज मिले हैं, उससे अनुमान लगाया जा रहा है कि पानी के और भीतर और बडी मात्रा में कीमती धातु और खनिज मिल सकते हैं।

ये भी पढ़ें— रेल यात्रियों की सुविधा के लिए लाॅन्च हुआ ‘सारथी एप’, टिकट बुकिंग से लेकर होटल बुकिंग सब एक क्लिक पर


दरअसल, अपनी तीन साल की खोज के बाद जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने 181,025 वर्ग किमी का हाई रेजॉल्यूशन सीबेड मोरफोलॉजिकल डेटा तैयार किया है और 10 हजार मिलियन टन लाइम मड के होने की बात कही है। तीन अत्याधुनिक अनुसंधान जहाज समुद्र रत्नाकर, समुद्र कौसतुभ और समुद्र सौदीकामा को इस मदद में लगाया गया है।

ये भी पढ़ें— अमरनाथ यात्रियों की बस खाई में गिरी, 17 की मौत, 29 लोग घायल

जीएसआई के सुपरिंटेंडेंट जिऑलजिस्ट आशीष नाथ ने बताया कि इसका मुख्य मकसद मिनरलाइजेशन के संभावित इलाकों की पहचान करना और मरीन मिनरल सांसधनों का आकलन करना है।

 

Todays Beets: