Friday, September 22, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

जीएसआई के वैज्ञानिकों ने खोजा भारतीय समुद्रों में छिपा लाखों टन कीमती धातुओं और खनिजों का खजाना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जीएसआई के वैज्ञानिकों ने खोजा भारतीय समुद्रों में छिपा लाखों टन कीमती धातुओं और खनिजों का खजाना

कोलकाता।

भारतीय वैज्ञानिकों ने भारत के समुद्रों में छिपे लाखों टन कीमती धातुओं को खनिजों की खोज  है। जियोलॉजिकल सर्वे आॅफ इंडिया के वैज्ञानिकों ने यह खोज की है। पहली बार 2014 में मंगलुरु, चेन्नै, मन्नार बसीन, अंडमान और निकोबार द्वीप और लक्षद्वीप के आसपास समुद्री संसाधनों की पहचान की गई थी।

ये भी पढें— रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने पेश की अनूठी मिसाल, स्कूल में लड़कियों को पढ़ा रहीं साइंस

अब वैज्ञानिकों को इन जगहों पर लाइम मड, फोसफेट-रिच और हाइड्रोकार्बन्स जैसी चीजें मिली हैं। जिस मात्रा में वैज्ञानिकों को यहां खनिज मिले हैं, उससे अनुमान लगाया जा रहा है कि पानी के और भीतर और बडी मात्रा में कीमती धातु और खनिज मिल सकते हैं।

ये भी पढ़ें— रेल यात्रियों की सुविधा के लिए लाॅन्च हुआ ‘सारथी एप’, टिकट बुकिंग से लेकर होटल बुकिंग सब एक क्लिक पर


दरअसल, अपनी तीन साल की खोज के बाद जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने 181,025 वर्ग किमी का हाई रेजॉल्यूशन सीबेड मोरफोलॉजिकल डेटा तैयार किया है और 10 हजार मिलियन टन लाइम मड के होने की बात कही है। तीन अत्याधुनिक अनुसंधान जहाज समुद्र रत्नाकर, समुद्र कौसतुभ और समुद्र सौदीकामा को इस मदद में लगाया गया है।

ये भी पढ़ें— अमरनाथ यात्रियों की बस खाई में गिरी, 17 की मौत, 29 लोग घायल

जीएसआई के सुपरिंटेंडेंट जिऑलजिस्ट आशीष नाथ ने बताया कि इसका मुख्य मकसद मिनरलाइजेशन के संभावित इलाकों की पहचान करना और मरीन मिनरल सांसधनों का आकलन करना है।

 

Todays Beets: