Tuesday, September 19, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

हिंदी दिवस स्पेशल: कारोबार, पर्यटन सहित अब बाजार की मांग बन चुकी है हिंदी, बढ़ गया है विश्व में मान 

अंग्वाल संवाददाता
हिंदी दिवस स्पेशल: कारोबार, पर्यटन सहित अब बाजार की मांग बन चुकी है हिंदी, बढ़ गया है विश्व में मान 

नई दिल्ली। हिंदी को लेकर अब आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। अगर आपको अंग्रेजी नहीं आती है तो ऐसा नहीं की आप अपना भविष्य नहीं बन सकते हैं या आप पढ़-लिखकर भी अनपढ़ के बराबार है।  हिंदी अब बाजार की भाषा बन गई है। अर्थव्यवस्था के खुले दौर में बाजार जब बहुत सी चीजें तय कर रहा है, तो यह हिंदी को भी विस्तार दे रहा है। भारत में कारोबार करने आ रही अमेरिकी, चाइनीज और यूरोपीय कंपनियों यह बेहतर ढंग से समझ रही हैं। वह मानती हैं कि यदि किसी देश के लोगों को प्रोडक्ट बेचना है, तो पहले उन्हें उनकी भाषा में विश्वास जगना जरूरी है। यह भी हिंदी के प्रसार की बड़ी वजह है। आज से 10-15 वर्षों पहले तक हिंदी पिछड़ेपन की निशानी समझी जाती थी, लेकिन बाजार के बदौलत ही यह बुलंदी की ओर बढ़ रही है।

यह भी पढ़े- इस दिव्यांग बच्चे का वीडियो देख आप हो जाएंगे भावुक, आनंद महिंद्रा ने वीडियो शेयर कर बताया प्र...


 यदि भारत के बाहर की बात करें तो यूरोप, अमेरिका और चीन के कई विश्वविद्यालय में आज बाकायदा हिंदी के विभाग खुल गए हैं। दुनिया में 30-40 देशों के लोग हिंदी पढ़ने भारत आ रहे हैं। आज विदेश में अच्छी हिंदी जानने वाले न सिर्फ अपना खुद का उद्यम स्थापित कर सकते हैं, बल्कि अनुवाद, दुभाषिया और पर्यटन क्षेत्र में उनका कारोबार बढ़ रहा है।वहीं हिंदी मीडिया भी तेजी से बढ़ता जा रहा है। विदेशी भारतीय संस्कृति, ज्योतिष, वास्तुशास्त्र और हिंदी चित्रकला में रूचि रखते हैं। यह बिना हिंदी के ठीक तरह नहीं समझे जा सकते है। वर्तमान में तो सोशल मीडिया भी हिंदी संवाहक बना हुआ है।  

Todays Beets: