Saturday, November 25, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

हिंदी दिवस स्पेशल: कारोबार, पर्यटन सहित अब बाजार की मांग बन चुकी है हिंदी, बढ़ गया है विश्व में मान 

अंग्वाल संवाददाता
हिंदी दिवस स्पेशल: कारोबार, पर्यटन सहित अब बाजार की मांग बन चुकी है हिंदी, बढ़ गया है विश्व में मान 

नई दिल्ली। हिंदी को लेकर अब आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। अगर आपको अंग्रेजी नहीं आती है तो ऐसा नहीं की आप अपना भविष्य नहीं बन सकते हैं या आप पढ़-लिखकर भी अनपढ़ के बराबार है।  हिंदी अब बाजार की भाषा बन गई है। अर्थव्यवस्था के खुले दौर में बाजार जब बहुत सी चीजें तय कर रहा है, तो यह हिंदी को भी विस्तार दे रहा है। भारत में कारोबार करने आ रही अमेरिकी, चाइनीज और यूरोपीय कंपनियों यह बेहतर ढंग से समझ रही हैं। वह मानती हैं कि यदि किसी देश के लोगों को प्रोडक्ट बेचना है, तो पहले उन्हें उनकी भाषा में विश्वास जगना जरूरी है। यह भी हिंदी के प्रसार की बड़ी वजह है। आज से 10-15 वर्षों पहले तक हिंदी पिछड़ेपन की निशानी समझी जाती थी, लेकिन बाजार के बदौलत ही यह बुलंदी की ओर बढ़ रही है।

यह भी पढ़े- इस दिव्यांग बच्चे का वीडियो देख आप हो जाएंगे भावुक, आनंद महिंद्रा ने वीडियो शेयर कर बताया प्र...


 यदि भारत के बाहर की बात करें तो यूरोप, अमेरिका और चीन के कई विश्वविद्यालय में आज बाकायदा हिंदी के विभाग खुल गए हैं। दुनिया में 30-40 देशों के लोग हिंदी पढ़ने भारत आ रहे हैं। आज विदेश में अच्छी हिंदी जानने वाले न सिर्फ अपना खुद का उद्यम स्थापित कर सकते हैं, बल्कि अनुवाद, दुभाषिया और पर्यटन क्षेत्र में उनका कारोबार बढ़ रहा है।वहीं हिंदी मीडिया भी तेजी से बढ़ता जा रहा है। विदेशी भारतीय संस्कृति, ज्योतिष, वास्तुशास्त्र और हिंदी चित्रकला में रूचि रखते हैं। यह बिना हिंदी के ठीक तरह नहीं समझे जा सकते है। वर्तमान में तो सोशल मीडिया भी हिंदी संवाहक बना हुआ है।  

Todays Beets: