Monday, June 25, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

हिंदी दिवस स्पेशल: कारोबार, पर्यटन सहित अब बाजार की मांग बन चुकी है हिंदी, बढ़ गया है विश्व में मान 

अंग्वाल संवाददाता
हिंदी दिवस स्पेशल: कारोबार, पर्यटन सहित अब बाजार की मांग बन चुकी है हिंदी, बढ़ गया है विश्व में मान 

नई दिल्ली। हिंदी को लेकर अब आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। अगर आपको अंग्रेजी नहीं आती है तो ऐसा नहीं की आप अपना भविष्य नहीं बन सकते हैं या आप पढ़-लिखकर भी अनपढ़ के बराबार है।  हिंदी अब बाजार की भाषा बन गई है। अर्थव्यवस्था के खुले दौर में बाजार जब बहुत सी चीजें तय कर रहा है, तो यह हिंदी को भी विस्तार दे रहा है। भारत में कारोबार करने आ रही अमेरिकी, चाइनीज और यूरोपीय कंपनियों यह बेहतर ढंग से समझ रही हैं। वह मानती हैं कि यदि किसी देश के लोगों को प्रोडक्ट बेचना है, तो पहले उन्हें उनकी भाषा में विश्वास जगना जरूरी है। यह भी हिंदी के प्रसार की बड़ी वजह है। आज से 10-15 वर्षों पहले तक हिंदी पिछड़ेपन की निशानी समझी जाती थी, लेकिन बाजार के बदौलत ही यह बुलंदी की ओर बढ़ रही है।

यह भी पढ़े- इस दिव्यांग बच्चे का वीडियो देख आप हो जाएंगे भावुक, आनंद महिंद्रा ने वीडियो शेयर कर बताया प्र...


 यदि भारत के बाहर की बात करें तो यूरोप, अमेरिका और चीन के कई विश्वविद्यालय में आज बाकायदा हिंदी के विभाग खुल गए हैं। दुनिया में 30-40 देशों के लोग हिंदी पढ़ने भारत आ रहे हैं। आज विदेश में अच्छी हिंदी जानने वाले न सिर्फ अपना खुद का उद्यम स्थापित कर सकते हैं, बल्कि अनुवाद, दुभाषिया और पर्यटन क्षेत्र में उनका कारोबार बढ़ रहा है।वहीं हिंदी मीडिया भी तेजी से बढ़ता जा रहा है। विदेशी भारतीय संस्कृति, ज्योतिष, वास्तुशास्त्र और हिंदी चित्रकला में रूचि रखते हैं। यह बिना हिंदी के ठीक तरह नहीं समझे जा सकते है। वर्तमान में तो सोशल मीडिया भी हिंदी संवाहक बना हुआ है।  

Todays Beets: