Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

चुनाव से पहले राजस्थान सरकार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, जाटों ने दी कल से आंदोलन की चेतावनी 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चुनाव से पहले राजस्थान सरकार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, जाटों ने दी कल से आंदोलन की चेतावनी 

जयपुर। राजस्थान सरकार को चुनाव से पहले एक बड़ा झटका लग सकता है। राज्य के जाटों ने प्रदेश सरकार को आज यानी की गुरुवार शाम तक का अल्टीमेटम दिया है। भरतपुर से कांग्रेस के विधायक विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि सरकार से आज शाम को बातचीत करने का आश्वासन दिया गया है अगर उनकी मांग नहीं मानी जाती है तो कल यानी की शुक्रवार से आंदोलन शुरू किया जाएगा। आंदोलन इतना बड़ा होगा जिसे कि नियंत्रित नहीं किया जा सकेगा। विधायक ने कहा कि पिछली बार तो उन्होंने लोगों को मना लिया था लेकिन इस बार वे नहीं मानेंगे। 

गौरतलब है कि जाट नेताओं की मांग है कि भरतपुर धौलपुर के जाटों को केंद्र में आरक्षण दिया जाए। साथ ही पुराने आंदोलकारियों पर दर्ज मुकदमों को वापस लिया जाए। आंदोलन की धमकी दे रहे लोगों का कहना है कि सरकार इन दोनों ही मुद्दों पर पिछले एक साल से आश्वासन दे रही है। बता दें कि पिछले साल विश्वेंद्र सिंह के नेतृत्व में हजारों समर्थकों ने जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर धरना देकर गिरफ्तारी दी थी। 


ये भी पढ़ें - पहलगाम से भाजपा का उम्मीदवार संदिग्ध परिस्थितियों में गायब, परिजनों ने एमएलसी पर लगाए आरोप

यहां बता दें कि नेताओं ने कहा कि आंदोलनकारियों के खिलाफ किए गए मुकदमे को 3 दिनों के अंदर वापस नहीं लिया जाता है तो आंदोलन को और तेज किया जाएगा। ऐसे में सरकार के सामने जाट नेताओं की चुनौतियों से निपटने की एक बड़ी चुनौती होगी।  

Todays Beets: