Monday, October 22, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

चुनाव से पहले राजस्थान सरकार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, जाटों ने दी कल से आंदोलन की चेतावनी 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चुनाव से पहले राजस्थान सरकार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, जाटों ने दी कल से आंदोलन की चेतावनी 

जयपुर। राजस्थान सरकार को चुनाव से पहले एक बड़ा झटका लग सकता है। राज्य के जाटों ने प्रदेश सरकार को आज यानी की गुरुवार शाम तक का अल्टीमेटम दिया है। भरतपुर से कांग्रेस के विधायक विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि सरकार से आज शाम को बातचीत करने का आश्वासन दिया गया है अगर उनकी मांग नहीं मानी जाती है तो कल यानी की शुक्रवार से आंदोलन शुरू किया जाएगा। आंदोलन इतना बड़ा होगा जिसे कि नियंत्रित नहीं किया जा सकेगा। विधायक ने कहा कि पिछली बार तो उन्होंने लोगों को मना लिया था लेकिन इस बार वे नहीं मानेंगे। 

गौरतलब है कि जाट नेताओं की मांग है कि भरतपुर धौलपुर के जाटों को केंद्र में आरक्षण दिया जाए। साथ ही पुराने आंदोलकारियों पर दर्ज मुकदमों को वापस लिया जाए। आंदोलन की धमकी दे रहे लोगों का कहना है कि सरकार इन दोनों ही मुद्दों पर पिछले एक साल से आश्वासन दे रही है। बता दें कि पिछले साल विश्वेंद्र सिंह के नेतृत्व में हजारों समर्थकों ने जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर धरना देकर गिरफ्तारी दी थी। 


ये भी पढ़ें - पहलगाम से भाजपा का उम्मीदवार संदिग्ध परिस्थितियों में गायब, परिजनों ने एमएलसी पर लगाए आरोप

यहां बता दें कि नेताओं ने कहा कि आंदोलनकारियों के खिलाफ किए गए मुकदमे को 3 दिनों के अंदर वापस नहीं लिया जाता है तो आंदोलन को और तेज किया जाएगा। ऐसे में सरकार के सामने जाट नेताओं की चुनौतियों से निपटने की एक बड़ी चुनौती होगी।  

Todays Beets: