Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

चुनाव से पहले राजस्थान सरकार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, जाटों ने दी कल से आंदोलन की चेतावनी 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चुनाव से पहले राजस्थान सरकार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, जाटों ने दी कल से आंदोलन की चेतावनी 

जयपुर। राजस्थान सरकार को चुनाव से पहले एक बड़ा झटका लग सकता है। राज्य के जाटों ने प्रदेश सरकार को आज यानी की गुरुवार शाम तक का अल्टीमेटम दिया है। भरतपुर से कांग्रेस के विधायक विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि सरकार से आज शाम को बातचीत करने का आश्वासन दिया गया है अगर उनकी मांग नहीं मानी जाती है तो कल यानी की शुक्रवार से आंदोलन शुरू किया जाएगा। आंदोलन इतना बड़ा होगा जिसे कि नियंत्रित नहीं किया जा सकेगा। विधायक ने कहा कि पिछली बार तो उन्होंने लोगों को मना लिया था लेकिन इस बार वे नहीं मानेंगे। 

गौरतलब है कि जाट नेताओं की मांग है कि भरतपुर धौलपुर के जाटों को केंद्र में आरक्षण दिया जाए। साथ ही पुराने आंदोलकारियों पर दर्ज मुकदमों को वापस लिया जाए। आंदोलन की धमकी दे रहे लोगों का कहना है कि सरकार इन दोनों ही मुद्दों पर पिछले एक साल से आश्वासन दे रही है। बता दें कि पिछले साल विश्वेंद्र सिंह के नेतृत्व में हजारों समर्थकों ने जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर धरना देकर गिरफ्तारी दी थी। 


ये भी पढ़ें - पहलगाम से भाजपा का उम्मीदवार संदिग्ध परिस्थितियों में गायब, परिजनों ने एमएलसी पर लगाए आरोप

यहां बता दें कि नेताओं ने कहा कि आंदोलनकारियों के खिलाफ किए गए मुकदमे को 3 दिनों के अंदर वापस नहीं लिया जाता है तो आंदोलन को और तेज किया जाएगा। ऐसे में सरकार के सामने जाट नेताओं की चुनौतियों से निपटने की एक बड़ी चुनौती होगी।  

Todays Beets: