Tuesday, December 18, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

पेट्रोल-डीजल के दामों में लगी आग, जानिए कैसे 35 रुपये का पेट्रोल टैक्स लगकर जनता को मिलता है 80 रुपये प्रति लीटर पर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पेट्रोल-डीजल के दामों में लगी आग, जानिए कैसे 35 रुपये का पेट्रोल टैक्स लगकर जनता को मिलता है 80 रुपये प्रति लीटर पर

नई दिल्ली । देश में एक बार फिर से पेट्रोल-डीजल की आसमान छू रही कीमतों ने लोगों को परेशान कर दिया है। जहां एक ओर मुंबई में सोमवार को पेट्रोल की कीमतें 81.69 रुपये/लीटर पर पहुंच गईं, वहीं दिल्ली में लोगों को एक लीटर पेट्रोल के लिए 73.83 रुपये चुकाने पड़ रहा है। अगर बात डीजल की करें तो जहां मुंबई में प्रति लीटर डीजल 68.89 रुपये में मिल रही है, वहीं दिल्ली की जनता को एक लीटर डीजल 64.69 रुपये का पड़ रहा है। हालांकि जनता लंबे समय से पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों पर अंकुश लगाने की मांग करते हुए इसे भी जीएसटी के अंतर्गत लाने की मांग कर रही है, लेकिन सरकार ने फिलहाल इस मांग को टाल दिया है। इस सब के बीच यह जानने का मुद्दा है कि आखिर 35 रुपये प्रति लीटर की दर से मिलने वाला पेट्रोल आखिर जनता तक पहुंचते-पहुंचते कैसे 80 रुपये को भी पार कर जाता है। 

पिछले कुछ समय में पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों पर नजर डालें तो अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि हुई है, जिसके चलते भाी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है। हालांकि लोगों को 80 रुपये प्रति लीटर की दर से पेट्रोल मिलने के पीछे अंतरराष्ट्री बाजार में बढ़ी कीमतें ही  नहीं हैं, बल्कि देश में इसपर लगने वाली टैक्स व्यवस्था भी है, जो 35 रुपये के तेल को 80 रुपये पर बेचने के लिए बाध्य करती है।

ये भी पढ़ें- दिल्ली-एनसीआर में 1 अप्रैल से पेट्रोल पंप पर मिलेगा ये खास डीजल-पेट्रोल, मंत्रालय के आदेश पर हुई शुरुआत

ये भी पढ़ें- एससी-एसटी एक्ट को लेकर बाड़मेड़ में दलित और करणी सेना भिड़े, कई पुलिस वाले घायल, केंद्र सरकार करेगी पुनर्विचार याचिका दाखिल


अगर इंडियन ऑयल कंपनी की दिल्ली के लिए 2 अप्रैल को जारी बिल्ड-अप प्राइस पर नजर डालें तो उसने अंतरराष्ट्रीय बाजार से 76.84 डॉलर प्रति बैरल की दर से कच्चा तेल खरीदा। इसके बाद उसने रिफाइनरी खर्च व अन्य जोड़कर इसे तैयार किया और डीलर को 35.05 रुपये में एक लीटर पेट्रोल बेचा। अब इसके बाद शुरू होता है पेट्रोल की कीमत का बढ़ना। डीलर को 35.05 रुपये/ लीटर की दर से पेट्रोल मिला। इसके बाद उसने इस रकम में अपना 3.60 रुपये का कमीशन जोड़ा, जिसके बाद इसकी कीमत 38.65 रुपये हो गई। 

इस सब के बाद इस रकम में केंद्र सरकार एक्साइज ड्यूटी लगाती है। केंद्र सरकार ने एक लीटर पेट्रोल पर 19.48 रुपये का वैट लगा दिया। फिर राज्य सरकार (दिल्ली) ने 15.70 रुपये का वैट जोड़ दिया। इस तरह केंद्र और राज्य स्तर का टैक्स जुड़ने के बाद दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको 73.83 रुपये चुकाने पड़ रहे हैं। जबकि मुंबई में यही कीम 80 रुपये के पार पहुंच गई है। 

ये भी पढ़ें- आंध्र प्रदेश में टीवी न्यूज एंकर ने 5वीं मंजिल से कूदकर की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखा- मेरा दिमाग ही मेरा दुश्मन

ये भी पढ़ें- सीबीएसई के बाद अब एफसीआई का प्रश्न पत्र लीक, एसटीएफ ने 50 लोगों को हिरासत में लिया

Todays Beets: