Monday, May 28, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

कल से नहीं चलेगी 155 साल पुरानी ‘कुली गाड़ी’, मालदा रेलवे मंडल ने लिय सेवा बंद करने का फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कल से नहीं चलेगी 155 साल पुरानी ‘कुली गाड़ी’, मालदा रेलवे मंडल ने लिय सेवा बंद करने का फैसला

पटना। बिहार में चलने वाली श्रमिक ट्रेन जिसे स्थानीय जबान में कुली गाड़ी कहा जाता है उसकी सेवा कल यानी कि 1 नवंबर से खत्म होने वाली है। मालदा रेलवे मंडल ने इस बात का फैसला लिया है। मंडल की तरफ से लिए गए फैसले से जमालपुर और धनौरी रेलवे स्टेशनों के बीच सफर करने वालों को एक धक्का लगा है। रेलवे के द्वारा 1 नवंबर से गाड़ियों के टाइम टेबल के बदलाव के बाद इसे हटाने का निर्णय लिया है। 

वर्षों पुरानी सेवा होगी बंद

गौरतलब है कि यह कुली गाड़ी 1862 से ही जमालपुर रेलवे कारखाना में काम करने वाले मजदूरों को लाने-ले जाने का काम करती थी। श्रमिक ट्रेन या कुली गाड़ी जमालपुर-किउल रेलखंड के बीच काफी महत्वपूर्ण व लोकप्रिय ट्रेन रही है। यह गाड़ी रविवार को छोड़कर प्रतिदिन दो बार यानी कि सुबह और शाम में कर्मचारियों को लाती और ले जाती थी। मालदा रेल मंडल के इस निर्णय से जमालपुर से धनौरी के बीच विभिन्न रेलवे स्टेशन, हॉल्ट एवं गुमटी के रेल यात्रियों को एक बड़ा झटका लगा है।ट्रेन का परिचालन लगभग सही समय से होने के कारण रेल कर्मियों के अलावा इस रेल खंड के रेल यात्रियों को भी जमालपुर आने-जाने में काफी मदद मिलती थी लेकिन अब श्रमिक ट्रेन या कुली गाड़ी भी पुराने दिनों के याद की तरह 1 नवम्बर से इतिहास बन कर रह जाएगी।

ये भी पढ़ें - सीमा विवाद पर नाकाम चीन ने अपनाया भारत को परेशान करने का नया तरीका, अरुणाचल प्रदेश के पास बना...


 

 

 

Todays Beets: