Thursday, January 18, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

कल से नहीं चलेगी 155 साल पुरानी ‘कुली गाड़ी’, मालदा रेलवे मंडल ने लिय सेवा बंद करने का फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कल से नहीं चलेगी 155 साल पुरानी ‘कुली गाड़ी’, मालदा रेलवे मंडल ने लिय सेवा बंद करने का फैसला

पटना। बिहार में चलने वाली श्रमिक ट्रेन जिसे स्थानीय जबान में कुली गाड़ी कहा जाता है उसकी सेवा कल यानी कि 1 नवंबर से खत्म होने वाली है। मालदा रेलवे मंडल ने इस बात का फैसला लिया है। मंडल की तरफ से लिए गए फैसले से जमालपुर और धनौरी रेलवे स्टेशनों के बीच सफर करने वालों को एक धक्का लगा है। रेलवे के द्वारा 1 नवंबर से गाड़ियों के टाइम टेबल के बदलाव के बाद इसे हटाने का निर्णय लिया है। 

वर्षों पुरानी सेवा होगी बंद

गौरतलब है कि यह कुली गाड़ी 1862 से ही जमालपुर रेलवे कारखाना में काम करने वाले मजदूरों को लाने-ले जाने का काम करती थी। श्रमिक ट्रेन या कुली गाड़ी जमालपुर-किउल रेलखंड के बीच काफी महत्वपूर्ण व लोकप्रिय ट्रेन रही है। यह गाड़ी रविवार को छोड़कर प्रतिदिन दो बार यानी कि सुबह और शाम में कर्मचारियों को लाती और ले जाती थी। मालदा रेल मंडल के इस निर्णय से जमालपुर से धनौरी के बीच विभिन्न रेलवे स्टेशन, हॉल्ट एवं गुमटी के रेल यात्रियों को एक बड़ा झटका लगा है।ट्रेन का परिचालन लगभग सही समय से होने के कारण रेल कर्मियों के अलावा इस रेल खंड के रेल यात्रियों को भी जमालपुर आने-जाने में काफी मदद मिलती थी लेकिन अब श्रमिक ट्रेन या कुली गाड़ी भी पुराने दिनों के याद की तरह 1 नवम्बर से इतिहास बन कर रह जाएगी।

ये भी पढ़ें - सीमा विवाद पर नाकाम चीन ने अपनाया भारत को परेशान करने का नया तरीका, अरुणाचल प्रदेश के पास बना...


 

 

 

Todays Beets: