Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

कल से नहीं चलेगी 155 साल पुरानी ‘कुली गाड़ी’, मालदा रेलवे मंडल ने लिय सेवा बंद करने का फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कल से नहीं चलेगी 155 साल पुरानी ‘कुली गाड़ी’, मालदा रेलवे मंडल ने लिय सेवा बंद करने का फैसला

पटना। बिहार में चलने वाली श्रमिक ट्रेन जिसे स्थानीय जबान में कुली गाड़ी कहा जाता है उसकी सेवा कल यानी कि 1 नवंबर से खत्म होने वाली है। मालदा रेलवे मंडल ने इस बात का फैसला लिया है। मंडल की तरफ से लिए गए फैसले से जमालपुर और धनौरी रेलवे स्टेशनों के बीच सफर करने वालों को एक धक्का लगा है। रेलवे के द्वारा 1 नवंबर से गाड़ियों के टाइम टेबल के बदलाव के बाद इसे हटाने का निर्णय लिया है। 

वर्षों पुरानी सेवा होगी बंद

गौरतलब है कि यह कुली गाड़ी 1862 से ही जमालपुर रेलवे कारखाना में काम करने वाले मजदूरों को लाने-ले जाने का काम करती थी। श्रमिक ट्रेन या कुली गाड़ी जमालपुर-किउल रेलखंड के बीच काफी महत्वपूर्ण व लोकप्रिय ट्रेन रही है। यह गाड़ी रविवार को छोड़कर प्रतिदिन दो बार यानी कि सुबह और शाम में कर्मचारियों को लाती और ले जाती थी। मालदा रेल मंडल के इस निर्णय से जमालपुर से धनौरी के बीच विभिन्न रेलवे स्टेशन, हॉल्ट एवं गुमटी के रेल यात्रियों को एक बड़ा झटका लगा है।ट्रेन का परिचालन लगभग सही समय से होने के कारण रेल कर्मियों के अलावा इस रेल खंड के रेल यात्रियों को भी जमालपुर आने-जाने में काफी मदद मिलती थी लेकिन अब श्रमिक ट्रेन या कुली गाड़ी भी पुराने दिनों के याद की तरह 1 नवम्बर से इतिहास बन कर रह जाएगी।

ये भी पढ़ें - सीमा विवाद पर नाकाम चीन ने अपनाया भारत को परेशान करने का नया तरीका, अरुणाचल प्रदेश के पास बना...


 

 

 

Todays Beets: