Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

कल से नहीं चलेगी 155 साल पुरानी ‘कुली गाड़ी’, मालदा रेलवे मंडल ने लिय सेवा बंद करने का फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कल से नहीं चलेगी 155 साल पुरानी ‘कुली गाड़ी’, मालदा रेलवे मंडल ने लिय सेवा बंद करने का फैसला

पटना। बिहार में चलने वाली श्रमिक ट्रेन जिसे स्थानीय जबान में कुली गाड़ी कहा जाता है उसकी सेवा कल यानी कि 1 नवंबर से खत्म होने वाली है। मालदा रेलवे मंडल ने इस बात का फैसला लिया है। मंडल की तरफ से लिए गए फैसले से जमालपुर और धनौरी रेलवे स्टेशनों के बीच सफर करने वालों को एक धक्का लगा है। रेलवे के द्वारा 1 नवंबर से गाड़ियों के टाइम टेबल के बदलाव के बाद इसे हटाने का निर्णय लिया है। 

वर्षों पुरानी सेवा होगी बंद

गौरतलब है कि यह कुली गाड़ी 1862 से ही जमालपुर रेलवे कारखाना में काम करने वाले मजदूरों को लाने-ले जाने का काम करती थी। श्रमिक ट्रेन या कुली गाड़ी जमालपुर-किउल रेलखंड के बीच काफी महत्वपूर्ण व लोकप्रिय ट्रेन रही है। यह गाड़ी रविवार को छोड़कर प्रतिदिन दो बार यानी कि सुबह और शाम में कर्मचारियों को लाती और ले जाती थी। मालदा रेल मंडल के इस निर्णय से जमालपुर से धनौरी के बीच विभिन्न रेलवे स्टेशन, हॉल्ट एवं गुमटी के रेल यात्रियों को एक बड़ा झटका लगा है।ट्रेन का परिचालन लगभग सही समय से होने के कारण रेल कर्मियों के अलावा इस रेल खंड के रेल यात्रियों को भी जमालपुर आने-जाने में काफी मदद मिलती थी लेकिन अब श्रमिक ट्रेन या कुली गाड़ी भी पुराने दिनों के याद की तरह 1 नवम्बर से इतिहास बन कर रह जाएगी।

ये भी पढ़ें - सीमा विवाद पर नाकाम चीन ने अपनाया भारत को परेशान करने का नया तरीका, अरुणाचल प्रदेश के पास बना...


 

 

 

Todays Beets: