Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

मेरठ काॅलेज प्रशासन ने जारी किया अजीबोगरीब फरमान, छात्राओं के मुंह ढंककर आने पर लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मेरठ काॅलेज प्रशासन ने जारी किया अजीबोगरीब फरमान, छात्राओं के मुंह ढंककर आने पर लगाई रोक

मेरठ। उत्तरप्रदेश में शिक्षा व्यवस्था को बेहतर बनाने की कवायद तेज कर दी गई है। इसके तहत मेरठ काॅलेज प्रशासन ने छात्राओं के लिए एक अजीबो-गरीब फरमान जारी किया है। काॅलेज प्रशासन से नियमों का हवाला देते हुए कहा है कि कोई भी छात्रा काॅलेज परिसर में मुंह को ढंककर नहीं आ सकती है। इसके साथ ही काॅलेज के अंदर सभी छात्रों को हमेशा ही अपना पहचान पत्र गले में लटकाकर रखना होगा। मेरठ काॅलेज प्रशासन ने छात्रों को अपना इतिहास बताते हुए कहा कि ऐसा करने से उनकी छवि खराब होती है।

गौरतलब है कि मेरठ काॅलेज में छात्राओं पर निगरानी रखने के लिए चेकिंग अभियान भी चलाया जा रहा है। अपनी क्लास छोड़कर पार्क में बैठी छात्राओं को कड़ी फटकार लगाई और फैंसी ड्रेस पहनकर आई छात्राओं का काॅलेज परिसर से बाहर निकाल दिया। काॅलेज के नियमों का हवाला देते हुए कहा कि इसकी अनदेखी करने वालों पर कार्रवाई भी की जाएगी। 


ये भी पढ़ें - अगर गाड़ी का टैंक नहीं कराया है फुल तो रुक जाएं, पेट्रोल-डीजल की कीमतें हो सकती हैं कम! 

यहां बता दें कि मेरठ काॅलेज का इतिहास काफी पुराना है। यहां से देश के पूर्व प्रधानमंत्री चैधरी चरण सिंह, मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी, कई राज्यपाल और वर्तमान में बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शिक्षा ली है। यही नहीं, कुछ छात्रों ने विदेशों में रहकर इस कॉलेज की शान में चार चांद लगाए हैं लेकिन, पिछले कुछ सालों से कॉलेज में पढ़ाई का स्तर बिल्कुल ही गिर गया है। काॅलेज प्रशासन का मानना है कि काॅलेज परिसर में बाहरी लोगों का आना-जाना लगा रहता है ऐसे में यह राजनीति का अड्डा बन गया है। इस वजह से काॅलेज को यह फैसला लेना पड़ा है। अब बिना आई कार्ड वाले छात्रों को परिसर के अंदर नहीं घुसने दिया जाएगा। 

Todays Beets: