Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

अब पानी या कोल्डड्रिंक पीने के बाद बोतलों करें जमा, बन सकती है कमाई का जरिया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब पानी या कोल्डड्रिंक पीने के बाद बोतलों करें जमा, बन सकती है कमाई का जरिया

नई दिल्ली। अगर आप पानी या कोल्डड्रिंक की बोतल अपना गला तर करने के बाद फेंक देते हैं तो अब ऐसा न करें। अब ये कंपनियां आपसे इन खाली बोतलों को वापस खरीदेगी। इससे कूड़े पर रोक लगाने में मदद मिलेगी इसके साथ ही आपकी कमाई भी हो सकती है। फिलहाल महाराष्ट्र में देश की कई बड़ी कंपनियों कोका कोला, पेप्सीको और बिसलेरी ने अपनी बायबैक पॉलिसी शुरू की है। इस पॉलिसी के तहत अगर आप एक किलोग्राम बोतलों को बेचेंगे तो आपको 15 रुपये मिलेंगे। 

गौरतलब है कि सरकार ने कहा कि सभी कंपनियों को इन बोतलों पर उसकी कीमतें लिखनी होंगी। बिस्लरी की ओर से कहा गया है कि हालांकि रीसाइकिल की व्यवस्था पहले से ही है लेकिन इसे और सख्ती से लागू करने की जरूरत है। पेप्सी ने अपनी बोतलों की कीमतें 15 रुपये तय कर दी है। 


ये भी पढ़ें - मध्यप्रदेश हाईकोर्ट का पूर्व मुख्यमंत्रियों को अल्टीमेटम, 1 महीने के अंदर खाली करें सरकार आवास

यहां बता दें कि महाराष्ट्र में सभी कंपनियां वेंडिंग मशीन लगाने के प्रस्ताव पर काम किया जा रहा है। महाराष्ट्र ने 200 एमएल से छोटी प्लास्टिक की डिस्पोजबल बोतलों पर प्रतिबंध लगा दिया है। हालांकि कंपनियों को 3 महीने का समय दिया गया है कि वे एक ऐसी योजना लगाकर आएं जिसकी वजह से कूड़े पर रोकथाम लगाई जा सके। 

Todays Beets: