Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

अब मोबाइल एप से लिखवाएं रिपोर्ट, थानों के चक्कर काटने से मिली निजात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब मोबाइल एप से लिखवाएं रिपोर्ट, थानों के चक्कर काटने से मिली निजात

लखनऊ। उत्तरप्रदेश में आपराधिक वारदातों की रिपोर्ट दर्ज करने में पुलिस सीमा क्षेत्र का हवाला नहीं दे सकेंगे। यूपी में अब लोग यूपी कॉप सिटीजन एप की मदद से अपने मोबाइल से ही मुकदमा दर्ज करा सकेंगे। इस एप के लागू होने से लोगों को अब प्राथमिकी दर्ज कराने, चरित्र सत्यापन कराने या फिर पुलिस से जुड़े अन्य कामों के लिए थानों और अधिकारियों के दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। बता दें कि इससे पहले पुलिस आपराधिक वारदातों में सीमा क्षेत्र का हवाला देते हुए अपना पल्ला झाड़ लेते थे लेकिन अब उनके लिए ऐसा करना मुश्किल होगा। 

गौरतलब है कि लोगों को आपराधिक वारदातों या फिर किसी भी तरह की हिंसा की रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए थानों के चक्कर काटने पड़ते थे। इसके साथ ही वारदातों के स्थान को लेकर सीमा विवाद का मामला भी सामने आता था और इस वजह से भी पुलिस के द्वारा रिपोर्ट लिखने से इंकार कर दिया जाता था लेकिन अब इस विवाद को खत्म करने के मकसद से जल्द ही यूपी कॉप सिटीजन एप और परफॉर्मेंस मैनेजमेंट सिस्टम (पीएमएस) एप लॉन्च किए जाएंगे।

ये भी पढ़ें - पाकिस्तान - चीन की नई साजिश, POK के रास्ते बस चलाने की तैयारी , भारत ने जताया कड़ा विरोध


यहां बता दें कि उत्तरप्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओमप्रकाश सिंह ने जोनल पुलिस महानिदेशक और दूसरे पुलिसकर्मियों को एप के इस्तेमाल के बारे में बताया। गौर करने वाली बात है कि इस एप के शुरू होने से लोग घर बैठे ही अपने मोबाइल के जरिए प्राथमिकी दर्ज करा सकेंगे। पुलिस के द्वारा इस बात की जानकारी भी दी गई कि इस एप को डाउनलोड कर लोग करीब 27 सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे। 

आपको बता दें कि नागरिकांे को चरित्र प्रमाण पत्र के सत्यापन के लिए पुलिस दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते थे लेकिन अब इस एप पर इसके लिए भी आवेदन कर सकते हैं और आॅनलाइन भुगतान भी कर सकते हैं। 

 

Todays Beets: