Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

अब मोबाइल एप से लिखवाएं रिपोर्ट, थानों के चक्कर काटने से मिली निजात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब मोबाइल एप से लिखवाएं रिपोर्ट, थानों के चक्कर काटने से मिली निजात

लखनऊ। उत्तरप्रदेश में आपराधिक वारदातों की रिपोर्ट दर्ज करने में पुलिस सीमा क्षेत्र का हवाला नहीं दे सकेंगे। यूपी में अब लोग यूपी कॉप सिटीजन एप की मदद से अपने मोबाइल से ही मुकदमा दर्ज करा सकेंगे। इस एप के लागू होने से लोगों को अब प्राथमिकी दर्ज कराने, चरित्र सत्यापन कराने या फिर पुलिस से जुड़े अन्य कामों के लिए थानों और अधिकारियों के दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। बता दें कि इससे पहले पुलिस आपराधिक वारदातों में सीमा क्षेत्र का हवाला देते हुए अपना पल्ला झाड़ लेते थे लेकिन अब उनके लिए ऐसा करना मुश्किल होगा। 

गौरतलब है कि लोगों को आपराधिक वारदातों या फिर किसी भी तरह की हिंसा की रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए थानों के चक्कर काटने पड़ते थे। इसके साथ ही वारदातों के स्थान को लेकर सीमा विवाद का मामला भी सामने आता था और इस वजह से भी पुलिस के द्वारा रिपोर्ट लिखने से इंकार कर दिया जाता था लेकिन अब इस विवाद को खत्म करने के मकसद से जल्द ही यूपी कॉप सिटीजन एप और परफॉर्मेंस मैनेजमेंट सिस्टम (पीएमएस) एप लॉन्च किए जाएंगे।

ये भी पढ़ें - पाकिस्तान - चीन की नई साजिश, POK के रास्ते बस चलाने की तैयारी , भारत ने जताया कड़ा विरोध


यहां बता दें कि उत्तरप्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओमप्रकाश सिंह ने जोनल पुलिस महानिदेशक और दूसरे पुलिसकर्मियों को एप के इस्तेमाल के बारे में बताया। गौर करने वाली बात है कि इस एप के शुरू होने से लोग घर बैठे ही अपने मोबाइल के जरिए प्राथमिकी दर्ज करा सकेंगे। पुलिस के द्वारा इस बात की जानकारी भी दी गई कि इस एप को डाउनलोड कर लोग करीब 27 सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे। 

आपको बता दें कि नागरिकांे को चरित्र प्रमाण पत्र के सत्यापन के लिए पुलिस दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते थे लेकिन अब इस एप पर इसके लिए भी आवेदन कर सकते हैं और आॅनलाइन भुगतान भी कर सकते हैं। 

 

Todays Beets: