Friday, November 16, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

अब मोबाइल एप से लिखवाएं रिपोर्ट, थानों के चक्कर काटने से मिली निजात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब मोबाइल एप से लिखवाएं रिपोर्ट, थानों के चक्कर काटने से मिली निजात

लखनऊ। उत्तरप्रदेश में आपराधिक वारदातों की रिपोर्ट दर्ज करने में पुलिस सीमा क्षेत्र का हवाला नहीं दे सकेंगे। यूपी में अब लोग यूपी कॉप सिटीजन एप की मदद से अपने मोबाइल से ही मुकदमा दर्ज करा सकेंगे। इस एप के लागू होने से लोगों को अब प्राथमिकी दर्ज कराने, चरित्र सत्यापन कराने या फिर पुलिस से जुड़े अन्य कामों के लिए थानों और अधिकारियों के दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। बता दें कि इससे पहले पुलिस आपराधिक वारदातों में सीमा क्षेत्र का हवाला देते हुए अपना पल्ला झाड़ लेते थे लेकिन अब उनके लिए ऐसा करना मुश्किल होगा। 

गौरतलब है कि लोगों को आपराधिक वारदातों या फिर किसी भी तरह की हिंसा की रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए थानों के चक्कर काटने पड़ते थे। इसके साथ ही वारदातों के स्थान को लेकर सीमा विवाद का मामला भी सामने आता था और इस वजह से भी पुलिस के द्वारा रिपोर्ट लिखने से इंकार कर दिया जाता था लेकिन अब इस विवाद को खत्म करने के मकसद से जल्द ही यूपी कॉप सिटीजन एप और परफॉर्मेंस मैनेजमेंट सिस्टम (पीएमएस) एप लॉन्च किए जाएंगे।

ये भी पढ़ें - पाकिस्तान - चीन की नई साजिश, POK के रास्ते बस चलाने की तैयारी , भारत ने जताया कड़ा विरोध


यहां बता दें कि उत्तरप्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओमप्रकाश सिंह ने जोनल पुलिस महानिदेशक और दूसरे पुलिसकर्मियों को एप के इस्तेमाल के बारे में बताया। गौर करने वाली बात है कि इस एप के शुरू होने से लोग घर बैठे ही अपने मोबाइल के जरिए प्राथमिकी दर्ज करा सकेंगे। पुलिस के द्वारा इस बात की जानकारी भी दी गई कि इस एप को डाउनलोड कर लोग करीब 27 सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे। 

आपको बता दें कि नागरिकांे को चरित्र प्रमाण पत्र के सत्यापन के लिए पुलिस दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते थे लेकिन अब इस एप पर इसके लिए भी आवेदन कर सकते हैं और आॅनलाइन भुगतान भी कर सकते हैं। 

 

Todays Beets: