Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

बच्चों की मिड डे मील का चावल डकार गए अफसर, शिक्षा विभाग में मचा हड़कंप 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बच्चों की मिड डे मील का चावल डकार गए अफसर, शिक्षा विभाग में मचा हड़कंप 

शिमला। हिमाचल प्रदेश के स्पीती इलाके में ढाई सौ करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति घोटाले के बाद एक और बड़ा घोटाला सामने आया है। गरीब बच्चों को स्कूल तक लाने वाली मिड डे मील योजना के तहत स्कूलों को दिया जाने वाला करीब 500 क्विंटल चावल अफसर डकार गए। मामले का खुलासा होने के बाद शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। स्पीती घाटी के सैकड़ों स्कूली बच्चों को पिछले 2 सालों से मिड मील का एक दाना भी नसीब नहीं हुआ है। शिक्षा विभाग की निरीक्षण विंग की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है। अब रिपोर्ट विभाग के उच्च अधिकारियों को भेज दी गई है। 

गौरतलब है कि पूरे देश में गरीब बच्चों को स्कूल तक लाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से मिड डे मील की योजना शुरू किया गया था। इस योजना के तहत सिविल सप्लाई खाद्य आपूर्ति निगम से चावल की आवंटित होने वाली खेप उठाकर स्कूलों को सप्लाई होती है। चीन सीमा से सटे जनजातीय क्षेत्र में अप्रैल 2014 से सितंबर 2016 तक मिड-डे मील के तहत स्कूलों को चावल का कोटा नहीं मिला है। कोटा क्यों नहीं मिला या बीच में कैसे गायब हो गया यह एक जांच का विषय है। 


ये भी पढ़ें - ‘फेरा’ के फेर में फंसा भगौड़ा शराब कारोबारी, अदालत ने दिया संपत्ति कुर्क करने का आदेश

यहां बता दें कि स्कूलों को मिड डे मील का कोटा नहीं मिलने से स्कूल इंचार्ज और प्रिंसिपलों ने प्रारंभिक शिक्षा निदेशक को पत्र लिखकर इसे बंद करने की सिफारिश कर दी है।  निरीक्षण विंग के अधिकारियों का कहना है कि स्कूलों को दिया जाने वाला चावल ए ग्रेड का होता है जिसकी बाजार में कीमत करीब 60 रुपये प्रतिकिलो है। गौर करने वाली बात है कि मिड डे मील की बेहतर मॉनीटरिंग के लिए प्रारंभिक शिक्षा विभाग को राष्ट्रीय अवार्ड भी मिल चुका है।

Todays Beets: