Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

अब ई-काॅमर्स कंपनियां नहीं दे सकेंगी कैशबैक और छूट का आॅफर, सरकार ने लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब ई-काॅमर्स कंपनियां नहीं दे सकेंगी कैशबैक और छूट का आॅफर, सरकार ने लगाई रोक

नई दिल्ली। केंद्र सरकार की ओर से अमेजन एवं फ्लिपकार्ट जैसी आॅनलाइन कंपनियों पर किसी भी उत्पाद की एक्सक्लूसिव बिक्री करने पर रोक लगा दी गई है। सरकार की ओर से आॅनलाइन कंपनियों पर रोक लगाने से खुदरा व्यापारियों को काफी फायदा होगा। बता दें कि अभी तक कोई कानून न होने की वजह से बड़ी कंपनियां उत्पादों का सेल लगाकर बड़ा मुनाफा कमाते हैं। बड़ी कंपनियों को थोक में सामान मंगाने पर कीमत काफी पड़ती है ऐसे में वे बहुत कम मार्जिन पर सामानों की बिक्री करती थीं। ऐसे में छोटे कारोबारियों का कारोबार बिल्कुल ठप होने की कगार पर पहुंच गया है। 

गौरतलब है कि बड़ी कंपनियां बाजार में अच्छी कंपनियों के उत्पादों खासकर इलेक्ट्रिाॅनिक सामानों का सेल लगाने की वजह से खुदरा व्यापारियों के पास बहुत ही कम ग्राहक जाते हैं। ऐसे में खुदरा व्यापारियों का कारोबार लगभग ठप होने की स्थिति आ गई थी। खुदरा व्यापारियों की ओर से इससे बचने के लिए सरकार से गुहार लगाई थी। इसके बाद सरकार ने अब कानून बनाया है।


ये भी पढ़ें - यूपी में मंत्रियों के निजी सचिव मांगते हैं डील में कमीशन, स्टिंग सामने आने के बाद जांच के आदेश

यहां बता दें कि देश में इंटरनेट सेवा के विस्तार होने के साथ ही आॅनलाइन बाजार भी काफी तेजी से बढ़ा है। 2013 में भारत में 2.3 बिलियन डाॅलर का ऑनलाइन बिजनेस हुआ था। आने वाले समय में चीजों की बिक्री ऑनलाइन ज्यादा बढ़ने की संभावना को देखते हुए सही समय पर ऑनलाइन बाजार से जुड़े नियम कानून को सभी लोगों के हित में बनाए जाने की मांग की जा रही थी।  आपको बता दें कि देश में खुदरा बाजार का दायरा काफी बड़ा है। ऐसे मंे सरकार ने कानून लाकर इस वर्ग को रिझाने की कोशिश की है।  

Todays Beets: