Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

अब ई-काॅमर्स कंपनियां नहीं दे सकेंगी कैशबैक और छूट का आॅफर, सरकार ने लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब ई-काॅमर्स कंपनियां नहीं दे सकेंगी कैशबैक और छूट का आॅफर, सरकार ने लगाई रोक

नई दिल्ली। केंद्र सरकार की ओर से अमेजन एवं फ्लिपकार्ट जैसी आॅनलाइन कंपनियों पर किसी भी उत्पाद की एक्सक्लूसिव बिक्री करने पर रोक लगा दी गई है। सरकार की ओर से आॅनलाइन कंपनियों पर रोक लगाने से खुदरा व्यापारियों को काफी फायदा होगा। बता दें कि अभी तक कोई कानून न होने की वजह से बड़ी कंपनियां उत्पादों का सेल लगाकर बड़ा मुनाफा कमाते हैं। बड़ी कंपनियों को थोक में सामान मंगाने पर कीमत काफी पड़ती है ऐसे में वे बहुत कम मार्जिन पर सामानों की बिक्री करती थीं। ऐसे में छोटे कारोबारियों का कारोबार बिल्कुल ठप होने की कगार पर पहुंच गया है। 

गौरतलब है कि बड़ी कंपनियां बाजार में अच्छी कंपनियों के उत्पादों खासकर इलेक्ट्रिाॅनिक सामानों का सेल लगाने की वजह से खुदरा व्यापारियों के पास बहुत ही कम ग्राहक जाते हैं। ऐसे में खुदरा व्यापारियों का कारोबार लगभग ठप होने की स्थिति आ गई थी। खुदरा व्यापारियों की ओर से इससे बचने के लिए सरकार से गुहार लगाई थी। इसके बाद सरकार ने अब कानून बनाया है।


ये भी पढ़ें - यूपी में मंत्रियों के निजी सचिव मांगते हैं डील में कमीशन, स्टिंग सामने आने के बाद जांच के आदेश

यहां बता दें कि देश में इंटरनेट सेवा के विस्तार होने के साथ ही आॅनलाइन बाजार भी काफी तेजी से बढ़ा है। 2013 में भारत में 2.3 बिलियन डाॅलर का ऑनलाइन बिजनेस हुआ था। आने वाले समय में चीजों की बिक्री ऑनलाइन ज्यादा बढ़ने की संभावना को देखते हुए सही समय पर ऑनलाइन बाजार से जुड़े नियम कानून को सभी लोगों के हित में बनाए जाने की मांग की जा रही थी।  आपको बता दें कि देश में खुदरा बाजार का दायरा काफी बड़ा है। ऐसे मंे सरकार ने कानून लाकर इस वर्ग को रिझाने की कोशिश की है।  

Todays Beets: