Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

पासपोर्ट बनवाना हुआ और आसान, अब पुलिस की जगह आॅनलाइन वेरीफिकेशन जरूरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पासपोर्ट बनवाना हुआ और आसान, अब पुलिस की जगह आॅनलाइन वेरीफिकेशन जरूरी

नई दिल्ली। अब पासपोर्ट के लिए आवेदन करने के बाद पुलिस वेरीफिकेशन का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। सरकार इस प्रक्रिया को आॅनलाइन वेरीफिकेशन प्रक्रिया से जोड़ने जा रही है ताकि अपराधों और अपराधियों के राष्ट्रीय ब्योरों से जोड़ा जाएगा जिससे एक ही क्लिक पर अपराधियों के बारे में सारी जानकारी मिल सके।

घर जाने की जरूरत नहीं

गौरतलब है कि केन्द्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि ने बताया कि अपराध एवं अपराधी ट्रैकिंग नेटवर्क एवं सिस्टम्स परियोजना (सीसीटीएनएस) को विदेश मंत्रालय की पासपोर्ट सेवा के साथ जोड़े जाने की उम्मीद है। अब पुलिस को खुद आवेदकांे के घर जाकर सत्यापन करने की जरूरत नहीं है। 

ये भी पढ़ें - परिसंपत्तियों के बंटवारे में यूपी ने उत्तराखंड को दिया झटका, अलकनंदा होटल देने से किया इंकार

सीसीटीएनएस  हो रहा उपयोग


गृह सचिव ने कहा, ‘कुछ राज्यों में पुलिस पहले से ही पासपोर्ट संबंधी जरुरतों को पूरा करने के लिए सीसीटीएनएस का उपयोग कर रही है।’ पुलिस को आवेदक के पते पर जाने के लिए हाथ में पकड़े जा सकने वाले उपकरण दिए जाएंगे। इस जानकारी को नेटवर्क पर डाली जाएगी। इस प्रक्रिया के शुरू होने से पुलिस के समय की बचत भी करेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि ये बातें ऐसे समय कहीं गई जब गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सीसीटीएनएस परियोजना के तहत एक डिजिटल पुलिस पोर्टल शुरु किया जिसका उद्देश्य अपराधों और अपराधियों का राष्ट्रीय ब्यौरा तैयार करना है। उन्होंने कहा कि डिजिटल पुलिस पोर्टल नागरिकों को आॅनलाइन शिकायत पंजीकरण और पृष्ठभूमि सत्यापन का आग्रह जैसी सुविधाएं देगा।

अब टिकट लेने पर खुल्ले पैसों के लिए नहीं करनी पड़ेगी चिकचिक, हरिद्वार में शुरू हुई कार्ड से पे...

पुलिस पोर्टल उपलब्ध कराएगा रिपोर्ट

पोर्टल शुरु करने के बाद गृह मंत्री ने कहा, ‘पुलिस पोर्टल राज्य पुलिस और केन्द्रीय जांच एजेंसियों के लिए राष्ट्रीय ब्यौरे से 11 सर्च और 46 रिपोर्ट उपलब्ध कराएगा। केन्द्रीय जांच एवं अनुसंधान एजेंसियों को अपराध आंकड़ों तक पहुंचने के लिए डिजिटल पुलिस ब्यौरे हेतु उपलब्ध कराए हैं।’ गृह मंत्री ने कहा कि सीसीटीएनएस ने 15398 थानों में से 13775 को साफ्टवेयर में 100 प्रतिशत डेटा डालने का मौका दिया है। 

Todays Beets: