Monday, September 25, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

पासपोर्ट बनवाना हुआ और आसान, अब पुलिस की जगह आॅनलाइन वेरीफिकेशन जरूरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पासपोर्ट बनवाना हुआ और आसान, अब पुलिस की जगह आॅनलाइन वेरीफिकेशन जरूरी

नई दिल्ली। अब पासपोर्ट के लिए आवेदन करने के बाद पुलिस वेरीफिकेशन का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। सरकार इस प्रक्रिया को आॅनलाइन वेरीफिकेशन प्रक्रिया से जोड़ने जा रही है ताकि अपराधों और अपराधियों के राष्ट्रीय ब्योरों से जोड़ा जाएगा जिससे एक ही क्लिक पर अपराधियों के बारे में सारी जानकारी मिल सके।

घर जाने की जरूरत नहीं

गौरतलब है कि केन्द्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि ने बताया कि अपराध एवं अपराधी ट्रैकिंग नेटवर्क एवं सिस्टम्स परियोजना (सीसीटीएनएस) को विदेश मंत्रालय की पासपोर्ट सेवा के साथ जोड़े जाने की उम्मीद है। अब पुलिस को खुद आवेदकांे के घर जाकर सत्यापन करने की जरूरत नहीं है। 

ये भी पढ़ें - परिसंपत्तियों के बंटवारे में यूपी ने उत्तराखंड को दिया झटका, अलकनंदा होटल देने से किया इंकार

सीसीटीएनएस  हो रहा उपयोग


गृह सचिव ने कहा, ‘कुछ राज्यों में पुलिस पहले से ही पासपोर्ट संबंधी जरुरतों को पूरा करने के लिए सीसीटीएनएस का उपयोग कर रही है।’ पुलिस को आवेदक के पते पर जाने के लिए हाथ में पकड़े जा सकने वाले उपकरण दिए जाएंगे। इस जानकारी को नेटवर्क पर डाली जाएगी। इस प्रक्रिया के शुरू होने से पुलिस के समय की बचत भी करेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि ये बातें ऐसे समय कहीं गई जब गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सीसीटीएनएस परियोजना के तहत एक डिजिटल पुलिस पोर्टल शुरु किया जिसका उद्देश्य अपराधों और अपराधियों का राष्ट्रीय ब्यौरा तैयार करना है। उन्होंने कहा कि डिजिटल पुलिस पोर्टल नागरिकों को आॅनलाइन शिकायत पंजीकरण और पृष्ठभूमि सत्यापन का आग्रह जैसी सुविधाएं देगा।

अब टिकट लेने पर खुल्ले पैसों के लिए नहीं करनी पड़ेगी चिकचिक, हरिद्वार में शुरू हुई कार्ड से पे...

पुलिस पोर्टल उपलब्ध कराएगा रिपोर्ट

पोर्टल शुरु करने के बाद गृह मंत्री ने कहा, ‘पुलिस पोर्टल राज्य पुलिस और केन्द्रीय जांच एजेंसियों के लिए राष्ट्रीय ब्यौरे से 11 सर्च और 46 रिपोर्ट उपलब्ध कराएगा। केन्द्रीय जांच एवं अनुसंधान एजेंसियों को अपराध आंकड़ों तक पहुंचने के लिए डिजिटल पुलिस ब्यौरे हेतु उपलब्ध कराए हैं।’ गृह मंत्री ने कहा कि सीसीटीएनएस ने 15398 थानों में से 13775 को साफ्टवेयर में 100 प्रतिशत डेटा डालने का मौका दिया है। 

Todays Beets: