Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

हाशिमपुरा नरसंहार के 16 आरोपियों में से 4 ने कोर्ट में किया आत्मसमर्पण, बाकियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाशिमपुरा नरसंहार के 16 आरोपियों में से 4 ने कोर्ट में किया आत्मसमर्पण, बाकियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

नई दिल्ली। मेरठ के हाशिमपुरा इलाके में 31 साल पहले हुए हत्याकांड मामले में दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा दोषी ठहराए गए 16 पीएसी के जवानों में से 4 ने गुरुवार को तीस हजारी कोर्ट में आत्मसमर्पण किया है। बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए 16 पीएसी जवानों को 22 नवंबर तक सरेंडर के लिए कहा था। गौर करने वाली बात है कि कोर्ट ने 31 अक्टूबर को दिए गए फैसले में सभी 16 आरोपी पीएसी के जवानों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

गौरतलब है कि 1987 में मेरठ के हाशिमपुरा इलाके में 42 लोगों का नरसंहार किया गया था। बता दें कि 3 साल पहले आरोपी 16 पीएसी के जवानों को बरी करने के निचली अदालत के फैसले को चुनौती दी गई थी।  उत्तर प्रदेश राज्य, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) और नरसंहार में बचे जुल्फिकार नासिर सहित कुछ निजी पक्षों की अपीलों पर दिल्ली हाईकोर्ट ने 6 सितंबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।


ये भी पढ़ें - अब्दुल्ला की आपत्ति के बाद राम माधव ने वापस लिया अपना बयान, कहा- बयान राजनीतिक था व्यक्तिगत नहीं

यहां बता दें कि इस मामले में तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदंबरम की भूमिका की जांच को लेकर भी भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कोर्ट मंे याचिका दायर की थी। कोर्ट ने उनकी याचिका पर भी फैसला सुरक्षित रख लिया था। करीब 28 साल तक चले मुकदमे में 21 मार्च 2015 को तीस हजारी कोर्ट ने संदेह का लाभ देते हुए आरोपी 16 जवानों को बरी कर दिया था।

Todays Beets: