Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

हाशिमपुरा नरसंहार के 16 आरोपियों में से 4 ने कोर्ट में किया आत्मसमर्पण, बाकियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाशिमपुरा नरसंहार के 16 आरोपियों में से 4 ने कोर्ट में किया आत्मसमर्पण, बाकियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

नई दिल्ली। मेरठ के हाशिमपुरा इलाके में 31 साल पहले हुए हत्याकांड मामले में दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा दोषी ठहराए गए 16 पीएसी के जवानों में से 4 ने गुरुवार को तीस हजारी कोर्ट में आत्मसमर्पण किया है। बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए 16 पीएसी जवानों को 22 नवंबर तक सरेंडर के लिए कहा था। गौर करने वाली बात है कि कोर्ट ने 31 अक्टूबर को दिए गए फैसले में सभी 16 आरोपी पीएसी के जवानों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

गौरतलब है कि 1987 में मेरठ के हाशिमपुरा इलाके में 42 लोगों का नरसंहार किया गया था। बता दें कि 3 साल पहले आरोपी 16 पीएसी के जवानों को बरी करने के निचली अदालत के फैसले को चुनौती दी गई थी।  उत्तर प्रदेश राज्य, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) और नरसंहार में बचे जुल्फिकार नासिर सहित कुछ निजी पक्षों की अपीलों पर दिल्ली हाईकोर्ट ने 6 सितंबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।


ये भी पढ़ें - अब्दुल्ला की आपत्ति के बाद राम माधव ने वापस लिया अपना बयान, कहा- बयान राजनीतिक था व्यक्तिगत नहीं

यहां बता दें कि इस मामले में तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदंबरम की भूमिका की जांच को लेकर भी भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कोर्ट मंे याचिका दायर की थी। कोर्ट ने उनकी याचिका पर भी फैसला सुरक्षित रख लिया था। करीब 28 साल तक चले मुकदमे में 21 मार्च 2015 को तीस हजारी कोर्ट ने संदेह का लाभ देते हुए आरोपी 16 जवानों को बरी कर दिया था।

Todays Beets: