Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

पाकिस्तान में आतंकी संगठनों ने अंतरराष्ट्रीय दबाव से बचने के लिए अपना ये अनोखा रास्ता

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पाकिस्तान में आतंकी संगठनों ने अंतरराष्ट्रीय दबाव से बचने के लिए अपना ये अनोखा रास्ता

इस्लामाबाद। आतंकियों के संरक्षण को लेकर दुनिया के अधिकांश देशों के निशाने पर आने वाला पाकिस्तान अभी भी अपने यहां सक्रिय आतंकी संगठनों पर कार्रवाई के लिए तैयार नहीं है। दुनिया की सबसे बड़ी ताकत अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले दिनों इन आतंकियों को पाकिस्तान को बिना बताए मारने की बात कही, लेकिन पाकिस्तान को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। यही कारण है कि अंतरराष्ट्रीय दबाव के बावजूद जहां पिछले दिनों आतंकी संगठन जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद ने अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने की ऐलान कर दिया वहीं अब अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए जा चुके फजलुर रहमान खलिल ने भी अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने की घोषणा की है। इन आतंकियों द्वारा खुद की राजनीतिक पार्टी बनाए जाने के पीछे मंशा अपने लिए एक सुरक्षा कवच बनाने की है, जो राजनीतिक पार्टी बनने के बाद इन लोगों को मिल जाएगा।

ये भी पढ़ें - भारत अब ज्यादा आक्रामक और लड़ाकू प्रवृति का हो गया - चीन

रक्षा मामले के जानकारों का कहना है कि पाकिस्तान के आतंकी संगठन अब अंतरराष्ट्रीय दबाव के चलते अपनी राजनीतिक पार्टियां बना रहे हैं। पहले जमात-उद-दावा ने अपनी राजनीतिक पार्टी का ऐलान किया था। अब अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए जा चुके फजलुर रहमान खलिल ने अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने की घोषणा की। पाकिस्तानी मीडिया से मिल रही खबरों के मुताबिक वह अपनी राजनीतिक पार्टी का नाम इसलाह-ए-वतन रख रहा है। अमेरिका द्वारा पिछले दिनों पाकिस्तान के आतंकी संगठनों पर लगाए जा रहे प्रतिबंध के बाद पाकिस्तानी आतंकी संगठनों ने खुद को बचाने के लिए यह रास्ता अपनाया है।


ये भी पढ़ें - मोदी सरकार का बड़ा अहम फैसला, भारत की सीमाओं पर सैटेलाइट से रखी जाएगी कड़ी नजर

बहरहाल आतंकी संगठनों के इस रुख को लेकर भारतीय खुफिया एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। सेना के एक अफसर ने बताया कि ऐसा करने से इन आतंकी संगठनों को न सिर्फ पश्चिमी देशों के पाकिस्तान पर बढ़ते दबाव से छुटकारा मिलेगा उन्हें अपने छिपे मकसदों को कानूनी तौर पर अंजाम देने में भी आसानी होती है। एक बार राजनीतिक पार्टी आती है तो सभी प्रतिबंधित सदस्य कानूनी रूप से वैध पार्टी के सदस्य बन जाते हैं। ऐसे में उनपर कोई कार्रवाई किए जाने से पहले कई तरह के नियमों का पालन किया जाता है। 

ये भी पढ़ें - पूर्व पाक राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने दाऊद इब्राहिम के पाकिस्तान में होने की ओर किया इशारा 

Todays Beets: