Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

बिहार में कुशवाहा और शरद हो सकते हैं एक, मुलाकात के बाद राजनीतिक कयास तेज 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार में कुशवाहा और शरद हो सकते हैं एक, मुलाकात के बाद राजनीतिक कयास तेज 

पटना। बिहार में राजनीति में आने वाले दिनों में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है। सीटों के बंटवारे पर खुद को असहज महसूस करने वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सहयोगी पार्टी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) उससे अलग हो सकती है। अगर ऐसा होता है और पार्टी के मुखिया और केन्द्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा इस्तीफा दे देते हैं तो शरद यादव की पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल का विलय रालोसपा में हो सकता है। कुशवाहा और शरद यादव की मुलाकात के बाद इस बात के कयास तेज हो गए हैं। 

गौरतलब है कि उपेन्द्र कुशवाहा बिहार में सम्मानजनक सीटों की मांग कर रहे हैं लेकिन अभी वहां सीटों के बंटवारे पर कोई फैसला नहीं लिया गया है। अब कुशवाहा ने इसके मद्देनजर पीएम नरेंद्र मोदी से 28 नवंबर से 30 नवंबर के बीच मिलने का समय मांगा है।  

ये भी पढ़ें - आयकर विभाग ने Pan Card से संबंधित दो नियम बदले , 5 दिसंबर से लागू होंगे नए नियम


यहां बता दें कि शरद यादव आगामी लोकसभा चुनाव के लिए एनडीए के खिलाफ बिहार में कांग्रेस, जनता दल, रालोसपा, हम और लेफ्ट पार्टियों के साथ मिलकर महागठबंधन बनाना चाहते हैं। राजग से नाराजगी के बीच बीते दिनों शरद और कुशवाहा की मुलाकात में महागठबंधन पर चर्चा के दौरान दोनों दलों के विलय पर भी गंभीर मंथन हुआ। इस मामले में शरद का रुख बेहद सकारात्मक था।   

ऐसा माना जा रहा है कि उपेन्द्र कुशवाहा की राजग में मौजूदगी बस औपचारिकता भर है। वे चाहते हैं कि उन्हें गठबंधन से अलग कर दिया जाए। यही वजह है कि वह विपक्षी पार्टियों के नेताओं से मिल रहे हैं और दूसरी तरफ पीएम से मिलने का वक्त भी मांग रहे हैं।     

Todays Beets: