Sunday, November 19, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

देश के प्रथम नागरिक पद के लिए मतदान आज, रामनाथ गोविंद और मीरा कुमार के बीच होगा मुकाबला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
देश के प्रथम नागरिक पद के लिए मतदान आज, रामनाथ गोविंद और मीरा कुमार के बीच होगा मुकाबला

नई दिल्ली।

देश के प्रथम नागरिक यानी राष्ट्रपति पद के लिए आज मतदान है। सुबह 10 बजे से शाम 5  बजे के बीच सांसद और विधायक अपना वोट डालकर नए राष्ट्रपति को चुनेंगे। इस बार राष्ट्रपति पद के लिए एनडीएन ने रामनाथ कोविंद और यूपीए ने मीरा कुमार को अपना उम्मीदवार बनाया है। हालांकि आंकड़ों के अनुसार, रामनाथ कोविंद के जीतने के आसार ज्यादा हैं। उनके पास लगभग 62 फीसदी वोट हैं, करीब 30 दल कोविंद का समर्थन कर रहे हैं। वहीं विपक्ष की उम्मीदवार  मीरा कुमार के पास 18 दलों के समर्थन के साथ 27 फीसदी वोट हैं। बता दें कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। वोटों की गिनती 20 जुलाई को होगी और 25 जुलाई को नए राष्ट्रपति शपथ ग्रहण करेंगे।

कुल कितने वोटर

राष्ट्रपति चुनाव में कुल 4896 वोटर हैं, जिसमें 776 सांसद हैं जबकि 4120 विधायक हैं। लेकिन मध्यप्रदेश में बीजेपी के विधायक नरोत्तम मिश्रा को चुनाव आयोग द्वारा अयोग्य ठहराए जाने के बाद कुल वोटर 4895 रह गए हैं।  राष्ट्रपति चुनाव में कुल पड़ने वाले वोटों की संख्या दस लाख 98 हज़ार 903 है।

विशेष पेन से होगा मतदान

वोट देने वाले सांसदों और विधायकों को मतदान केंद्र के भीतर अपना पेन ले जाने की अनुमति नहीं है। वे विशेष रूप से डिजाइन किये गए मार्कर से मतपत्र पर निशान लगाएंगे। राष्ट्रपति चुनाव मतपत्र यानी बैलेट पेपर के जरिए होता है।

ऐसे तय होता है वोटों का मूल्य


पूरे देश में इस समय 4120 विधायक और राज्यसभा व लोकसभा के सदस्यों को मिलाकर 776 सांसद हैं। वोटों का मूल्य एक खास पद्धति से निकाला जाता है। जैसे विधायक के मामले में जिस राज्य के विधायक का वोट हो, उस  राज्रू की 1971 की जनगणना के हिसाब से आबादी देखी जाती है। कुल आबादी को राज्य के विधायकों की कुल संख्या से  भाग दिया जाता है। अब जो भी परिणाम आए, उसे 1000 से भाग दिया जाता है। जो परिणाम आता है, वह उस राज्य के एक विधायक के वोट का मूल्य होता है। वहीं सांसदों के वोटों का मूल्य निश्चित होता है। एक सांसद के वोट का मूल्य 708 ​निश्चित है। इस गणित से कुल सांसदों के 5,49,408 वोट हैं, जबकि विधायकों के 5,49, 474 वोट हैं. इस तरह कुल वोट 10,98,882 हैं और जीत के लिए आधे से एक ज्यादा यानी 5,49,442 चाहिए।

इस तरह होती है वोटों की गिनती

-सांसदों को वोटिंग के लिए हरा और विधायकों को गुलाबी मतपत्र दिया जाता है।

- मतपत्र में सांसद और विधायक राष्ट्रपति को क्रम के अनुसार चुनते हैं।

- अगर तीन राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हों, तो सांसद-विधायक तीन पर अपना क्रम डालते हैं... 1, 2, 3

- अब जो तीसरे नंबर पर होता है, उसे बाहर कर दिया जाता है और पहले और दूसरे नंबर पर रहने वाले उम्मीदवारों में उसका वोट बांट दिया जाता है।

- इस तरह जिस भी उम्मीदवार के वोट कुल वोटों का 51 फीसदी होते हैं, उसे विजेता घोषित कर दिया जाता है।

Todays Beets: