Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

राजस्थान सरकार ने किसानों के लिए खड़ी की नई मुसीबत, यूरिया लेना है तो ‘आधार’ लाओ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राजस्थान सरकार ने किसानों के लिए खड़ी की नई मुसीबत, यूरिया लेना है तो ‘आधार’ लाओ

जयपुर। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार ने किसानों का कर्ज तो माफ कर दिया लेकिन अब उन्हें यूरिया का संकट झेलना पड़ रहा है। कांग्रेस की नई सरकार ने केंद्र पर चुनाव हारने की वजह से यूरिया की सप्लाई बंद करने का आरोप लगाया है। हालांकि किसानों की यूरिया संकट की वजह राज्य सरकार के द्वारा सभी सरकारी मान्यता प्राप्त सहकारी और कृषि केन्द्रों को किसानों के आधार की जानकारी इकट्ठा करने का निर्देश है। ऐसे में ऐसे किसान जिनके पास अभी तक आधार नहीं है उन्हें मायूसी का सामना करना पड़ रहा है। 

गौरतलब है कि राजस्थान में रबी की फसलों की कटाई में कुछ ही समय बचा है और किसानों के सामने नया संकट खड़ा हो गया है। प्रदेश में अशोक गहलोत के द्वारा सरकार का कार्यभार संभालने के बाद किसानों के कर्ज माफ का वादा तो पूरा कर दिया गया लेकिन फसलों के लिए जरूरी यूरिया के नहीं मिलने से किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। 

ये भी पढ़ें - इस ‘उत्तराखंडी’ ने ढूंढ़ निकाली गूगल की गलती, इनाम के साथ मिला शिकागो आने का निमंत्रण


यहां बता दें कि प्रदेश सरकार ने सभी मान्यता प्राप्त सहकारी और कृषि केंद्र को किसानों की आधार की जानकारी इकट्ठा करने का निर्देश दिए हैं। इसी वजह से किसानों को यूरिया नहीं मिल पा रहा है जबकि राज्य सरकार ने केन्द्र पर चुनाव हारने की वजह से यूरिया सप्लाई न करने का आरोप लगाया है। अलवर में किसानों को आधिकारिक केन्द्रों पर आधार की अनिवार्यता के बारे में पता चलने पर खाली हाथ लौटना पड़ा है। सरकार का कहना है कि यूरिया सही लोगों तक पहुंचे और उसकी कालाबाजारी न हो सके इसी वजह से आधार को अनिवार्य बनाया है। 

आपको बता दें कि यूरिया खरीद के लिए आधार की अनिवार्यता नई नहीं है। पिछले साल वसुंधरा राजे की सरकार ने ही यह फैसला लिया था। 

Todays Beets: