Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

पक्षियों के टकराने से अब नहीं होंगे विमान हादसे, वैज्ञानिकों निकाला तोड़

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पक्षियों के टकराने से अब नहीं होंगे विमान हादसे, वैज्ञानिकों निकाला तोड़

नई दिल्ली। अब पक्षियों के टकराने की वजह से हवाई जहाज दुर्घटनाग्रस्त नहीं होंगे। इसके लिए वैज्ञानिकों ने एक विशेष तकनीक का विकसित किया है जिसके जरिए विमानों के उड़ने से पहले वहां ड्रोन उड़ाकर पक्षियों को विमानों से दूर किया जा सकता है। बता दें कि पक्षियों के टकराने से विमानों के हादसे का शिकार होने की खबरें अक्सर आती रहती हैं। देश-विदेश की सभी सरकारें लोगों को सिर्फ जागरूक करने की हिदायत दी जाती है। इन हादसों को रोकने के लिए वैज्ञानिकों ने अब खास एल्गोरिद्म विकसित किया है। इसके इस्तेमाल से ड्रोन उड़ाकर पक्षियों को भगाया जा सकता है। 

गौरतलब है कि लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट से लेकर सूडान के खारतम हवाई अड्डे पर पक्षियों के टकराने की वजह से विमानों के हादसे होने की खबरें आ चुकी हैं। इन विमानों के दुर्घटनाग्रस्त होने की वजह से सैकड़ों लोगों की जानें जा चुकी हैं। 

ये भी पढ़ें - जोधपुर के देवलिया गांव में मिग-27 दुर्घटनाग्रस्त, बाल-बाल बची पायलट की जान


यहां बता दें कि इस तरह के हादसों को रोकने के लिए अब वैज्ञानिकों ने एक नायाब तरीका खोज निकाला है। उन्होंने एक ऐसी एल्गोरिद्म तैयार की है जिसके अनुसार ड्रोन को उड़ा कर पक्षियों के झुंड को हवाई क्षेत्र से दूर रखा जा सकता है। ब्रिटेन के इंपीरियल कॉलेज लंदन और अमेरिका के कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधकर्ताओं ने एयरपोर्ट जैसे स्थानों पर रोबोटिक ड्रोन का इस्तेमाल कर पक्षियों के झुंड को दूर रखने में आने वाली परेशानी का अध्ययन किया। शोधकर्ताओं की टीम ने पक्षियों के समूह की हरकतों और संकट के समय समूह के बर्ताव के गुणों के आधार पर एक एल्गोरिद्म तैयार की। दक्षिण कोरिया के हवाई क्षेत्रों मंे इसका उपयोग भी किया गया और उन्हें काफी सफलता मिली है। 

 

Todays Beets: