Tuesday, October 16, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

एससी-एसटी एक्ट पर ‘शिवराज’ के बदले सुर, कहा-एमपी में जांच के बाद ही होगी गिरफ्तारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एससी-एसटी एक्ट पर ‘शिवराज’ के बदले सुर, कहा-एमपी में जांच के बाद ही होगी गिरफ्तारी

भोपाल। केन्द्र सरकार द्वारा एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ बदलाव करने का विरोध पूरे देश में हो रहा है। इसे लेकर सवर्ण समाज के द्वारा भारत बंद भी बुलाया गया था जिसमें बड़ी हिंसा हुई थी। मध्यप्रदेश में भी इसका जबर्दस्त विरोध किया जा रहा है। इस विरोध को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक बड़ा बयान दिया है। सीएम ने कहा कि मध्यप्रदेश में एससी-एसटी एक्ट मंे बिना जांच के किसी भी अधिकारी को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा। गौरतलब है कि एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट ने किसी पर भी शोषण का आरोप लगने पर उसकी जांच होने के बाद ही गिरफ्तारी की बात कही थी लेकिन सरकार ने अध्यादेश लाकर कोर्ट के इस आदेश को बदल दिया। सरकार के इस कदम के बाद पूरे देश में सवर्ण उसके खिलाफ हो गए और आंदोलन छेड़ दिया। 

यहां बता दें कि मध्यप्रदेश में इस साल के अंत में चुनाव होने हैं और वहां इस एक्ट को लेकर जबर्दस्त विरोध हो रहा है। कुछ दिनों पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के रथ पर पत्थरों से हमला भी किया गया था। हालांकि इसका आरोप कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर लगा था। 

गौर करने वाली बात है कि मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में सभी जातियों और वर्गों के लोगों के हितों की रक्षा की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस संबंध में जो भी शिकायतें आएंगी उनकी जांच होगी उसके बाद ही गिरफ्तारी होगी। जब मुख्यमंत्री से पूछा गया कि क्या राज्य सरकार केंद्र सरकार के अध्यादेश के एवज में कोई अध्यादेश लेकर आएगी तो उन्होंने कहा कि मुझे जो कहना था वो मैंने कह दिया है।


ये भी पढ़ें - पाक पीएम के अनुरोध को भारत ने किया स्वीकार, न्यूयाॅर्क में मिलेंगे दोनों देशों के विदेश मंत्री

आपको बता दें कि केंद्र सरकार के अध्यादेश के अनुसार एससी-एसटी समाज के शख्स द्वारा उत्पीडन या शोषण की शिकायत किए जाने पर बिना जांच के ही व्यक्ति को गिरफ्तार कर 6 महीने के लिए जेल भेजा जाएगा।  

Todays Beets: