Friday, March 22, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

इनेलो से निष्कासित दुष्यंत मिले भाजपा नेता से, राजनीतिक गलियारों में अटकलें तेज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इनेलो से निष्कासित दुष्यंत मिले भाजपा नेता से, राजनीतिक गलियारों में अटकलें तेज

नई दिल्ली। हरियाणा की राजनीति में एक नया तूफान आ सकता है। इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो)से निष्कासित नेता दुष्यंत चौटाला ने भाजपा नेता और मंत्री राव इंद्रजीत से मुलाकात की है। इस मुलाकात के बाद सियासी गलियारों में अटकलों का बाजार गर्म हो गया है। वहीं दूसरी तरफ अभय चौटाला के बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती से मुलाकात की है। बता दें कि इन मुलाकातों के बाद इनेलो के पदाधिकारी, नेतागण चिंतित हैं वहीं भाजपा भी इन समीकरणों के अलग मायने निकाल रही है।

गौरतलब है कि पार्टी की ओर से अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए ओम प्रकाश चौटाला ने दुष्यंत चौटाला को पार्टी से निष्कासित कर दिया था। वहीं पेरोल पर जेल से बाहर आए उनके बड़े भाई अजय चौटाला भी पूरे आक्रामक दिखाई दे रहे हैं। उधर, देखा जाए तो चौटाला परिवार में अजय सिंह चौटाला और राव इंद्रजीत के बीच वर्षों से पारिवारिक संबंध है। कई बार पार्टी लाइन से हटकर राव इंद्रजीत ओर अजय चौटाला ने खुलकर एक दूसरे की मदद की है।


ये भी पढ़ें - आगामी चुनाव में भाजपा को पटकनी देने के ‘ममता फाॅर्मूला ने दिखाया असर, अन्य राज्यों में हो सकत...

यहां बता दें कि अभय चौटाला इस प्रयास में लगे हुए हैं कि हरियाणा की राजनीति में मचे घमासान के बावजूद बसपा और इनेलो का साथ बना रहे। यदि पार्टी दो फाड़ होती है तो बसपा के लिए भी संकट खड़ा हो जाएगा कि वे मौजूदा हालात में किस तरफ जाए।

Todays Beets: