Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

शाहजहांपुर में गिनती न सुना पाने की केजी के छात्र को चुकानी पड़ी बड़ी कीमत, शिक्षक ने आंख में घुसाई कलम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शाहजहांपुर में गिनती न सुना पाने की केजी के छात्र को चुकानी पड़ी बड़ी कीमत, शिक्षक ने आंख में घुसाई कलम

लखनऊ। उत्तरप्रदेश से गुरु शिष्य के रिश्ते को तार-तार करने वाली खबर आई है। शाहजहांपुर के रहीमपुर इलाके में एक निजी स्कूल में केजी कक्षा के मासूम छात्र को शिक्षक ने इतनी बेरहमी से पीटा कि उसकी आंख की रोशनी चली गई। परिजनों ने मासूम को स्थानीय अस्पताल में ले गए लेकिन वहां से उसे लखनऊ रेफर कर दिया। लखनऊ मंे डाॅक्टरों ने बच्चे की आंख निकालने की बात कही है। परिजनों का आरोप है कि छात्र का कसूर सिर्फ इतना था कि वो गिनती नहीं सुना पाया था। अब पुलिस मामले की जांच के बाद कार्रवाई की बात कर रही है।

गौरतलब है कि यह घटना शाहजहांपुर जिले के रहीमपुर गांव की है। इस गांव के निवासी रामसिंह का 7 वर्षीय बेटा लवकुश उर्मिला देवी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में केजी में पढ़ता है। बात 25 जुलाई की है कि शिक्षक ने बच्चे को काफी पीटा और पेन से उसकी आंखों पर वार कर दिया जिससे उसकी आंख से खून बहने लगा। 

ये भी पढ़ें - स्वतंत्रता दिवस पर हमले की साजिश नाकाम, एनआईए ने हैदराबाद में दबोचा 8 इस्लामिक स्टेट के नौजवानों को


यहां बता दें कि गंभीर हालत में बच्चे के परिजन उसे स्थानीय अस्पताल ले गए जहां मामला ज्यादा गंभीर होने की वजह से बच्चे को लखनऊ रेफर कर दिया गया। लखनऊ मेडिकल काॅलेज के डाॅक्टरों ने कहा कि आंख की रोशनी चली गई है ऐसे में आंख निकालना पड़ेगा। अब बच्चे के गरीब माता-पिता आरोपी शिक्षक और स्कूल के खिलाफ कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठे हैं। उनकी मांग है कि स्कूल और शिक्षक पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। पुलिस मामला थोड़ा पुराना हो जाने की वजह से जांच के बाद कार्रवाई करने की बात कह रही है। 

गौर करने वाली बात है कि इस मामले में आरोपी शिक्षक अपने उपर लगे आरोपों को निराधार बात रहा है। परिजनों के अनुसार बच्चों की पिटाई का यह नया  मामला नहीं है इससे पहले पिटाई की वजह से एक छात्र के हाथ की हड्डी टूट गई थी। इस मामले में तो बच्चे का कुसूर सिर्फ इतना था कि वो गिनती नही सुना पाया था।   

Todays Beets: