Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

शाहजहांपुर में गिनती न सुना पाने की केजी के छात्र को चुकानी पड़ी बड़ी कीमत, शिक्षक ने आंख में घुसाई कलम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शाहजहांपुर में गिनती न सुना पाने की केजी के छात्र को चुकानी पड़ी बड़ी कीमत, शिक्षक ने आंख में घुसाई कलम

लखनऊ। उत्तरप्रदेश से गुरु शिष्य के रिश्ते को तार-तार करने वाली खबर आई है। शाहजहांपुर के रहीमपुर इलाके में एक निजी स्कूल में केजी कक्षा के मासूम छात्र को शिक्षक ने इतनी बेरहमी से पीटा कि उसकी आंख की रोशनी चली गई। परिजनों ने मासूम को स्थानीय अस्पताल में ले गए लेकिन वहां से उसे लखनऊ रेफर कर दिया। लखनऊ मंे डाॅक्टरों ने बच्चे की आंख निकालने की बात कही है। परिजनों का आरोप है कि छात्र का कसूर सिर्फ इतना था कि वो गिनती नहीं सुना पाया था। अब पुलिस मामले की जांच के बाद कार्रवाई की बात कर रही है।

गौरतलब है कि यह घटना शाहजहांपुर जिले के रहीमपुर गांव की है। इस गांव के निवासी रामसिंह का 7 वर्षीय बेटा लवकुश उर्मिला देवी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में केजी में पढ़ता है। बात 25 जुलाई की है कि शिक्षक ने बच्चे को काफी पीटा और पेन से उसकी आंखों पर वार कर दिया जिससे उसकी आंख से खून बहने लगा। 

ये भी पढ़ें - स्वतंत्रता दिवस पर हमले की साजिश नाकाम, एनआईए ने हैदराबाद में दबोचा 8 इस्लामिक स्टेट के नौजवानों को


यहां बता दें कि गंभीर हालत में बच्चे के परिजन उसे स्थानीय अस्पताल ले गए जहां मामला ज्यादा गंभीर होने की वजह से बच्चे को लखनऊ रेफर कर दिया गया। लखनऊ मेडिकल काॅलेज के डाॅक्टरों ने कहा कि आंख की रोशनी चली गई है ऐसे में आंख निकालना पड़ेगा। अब बच्चे के गरीब माता-पिता आरोपी शिक्षक और स्कूल के खिलाफ कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठे हैं। उनकी मांग है कि स्कूल और शिक्षक पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। पुलिस मामला थोड़ा पुराना हो जाने की वजह से जांच के बाद कार्रवाई करने की बात कह रही है। 

गौर करने वाली बात है कि इस मामले में आरोपी शिक्षक अपने उपर लगे आरोपों को निराधार बात रहा है। परिजनों के अनुसार बच्चों की पिटाई का यह नया  मामला नहीं है इससे पहले पिटाई की वजह से एक छात्र के हाथ की हड्डी टूट गई थी। इस मामले में तो बच्चे का कुसूर सिर्फ इतना था कि वो गिनती नही सुना पाया था।   

Todays Beets: