Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

शाहजहांपुर में गिनती न सुना पाने की केजी के छात्र को चुकानी पड़ी बड़ी कीमत, शिक्षक ने आंख में घुसाई कलम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शाहजहांपुर में गिनती न सुना पाने की केजी के छात्र को चुकानी पड़ी बड़ी कीमत, शिक्षक ने आंख में घुसाई कलम

लखनऊ। उत्तरप्रदेश से गुरु शिष्य के रिश्ते को तार-तार करने वाली खबर आई है। शाहजहांपुर के रहीमपुर इलाके में एक निजी स्कूल में केजी कक्षा के मासूम छात्र को शिक्षक ने इतनी बेरहमी से पीटा कि उसकी आंख की रोशनी चली गई। परिजनों ने मासूम को स्थानीय अस्पताल में ले गए लेकिन वहां से उसे लखनऊ रेफर कर दिया। लखनऊ मंे डाॅक्टरों ने बच्चे की आंख निकालने की बात कही है। परिजनों का आरोप है कि छात्र का कसूर सिर्फ इतना था कि वो गिनती नहीं सुना पाया था। अब पुलिस मामले की जांच के बाद कार्रवाई की बात कर रही है।

गौरतलब है कि यह घटना शाहजहांपुर जिले के रहीमपुर गांव की है। इस गांव के निवासी रामसिंह का 7 वर्षीय बेटा लवकुश उर्मिला देवी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में केजी में पढ़ता है। बात 25 जुलाई की है कि शिक्षक ने बच्चे को काफी पीटा और पेन से उसकी आंखों पर वार कर दिया जिससे उसकी आंख से खून बहने लगा। 

ये भी पढ़ें - स्वतंत्रता दिवस पर हमले की साजिश नाकाम, एनआईए ने हैदराबाद में दबोचा 8 इस्लामिक स्टेट के नौजवानों को


यहां बता दें कि गंभीर हालत में बच्चे के परिजन उसे स्थानीय अस्पताल ले गए जहां मामला ज्यादा गंभीर होने की वजह से बच्चे को लखनऊ रेफर कर दिया गया। लखनऊ मेडिकल काॅलेज के डाॅक्टरों ने कहा कि आंख की रोशनी चली गई है ऐसे में आंख निकालना पड़ेगा। अब बच्चे के गरीब माता-पिता आरोपी शिक्षक और स्कूल के खिलाफ कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठे हैं। उनकी मांग है कि स्कूल और शिक्षक पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। पुलिस मामला थोड़ा पुराना हो जाने की वजह से जांच के बाद कार्रवाई करने की बात कह रही है। 

गौर करने वाली बात है कि इस मामले में आरोपी शिक्षक अपने उपर लगे आरोपों को निराधार बात रहा है। परिजनों के अनुसार बच्चों की पिटाई का यह नया  मामला नहीं है इससे पहले पिटाई की वजह से एक छात्र के हाथ की हड्डी टूट गई थी। इस मामले में तो बच्चे का कुसूर सिर्फ इतना था कि वो गिनती नही सुना पाया था।   

Todays Beets: