Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

तेजस्वी यादव को छोड़ना पड़ेगा सरकारी बंगला, हाईकोर्ट ने दिया आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
तेजस्वी यादव को छोड़ना पड़ेगा सरकारी बंगला, हाईकोर्ट ने दिया आदेश

पटना। बिहार में भी इन दिनों सियासी घमासान मचा हुआ है। प्रदेश के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को अपना सरकारी बंगला खाली करना पड़ेगा। सोमवार को पटना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अमरेश्वर प्रताप शाही और न्यायमूर्ति अंजना मिश्रा की पीठ ने तेजस्वी यादव की ओर से दी गई अर्जी को खारिज कर दिया। बता दें कि इससे पहले उपमुख्यमंत्री बनने पर तेजस्वी यादव को 5 देशरत्न मार्ग पर स्थित सरकारी बंगला आवंटित किया गया था। इसके बाद गठबंधन टूटने के बाद सरकार ने तेजस्वी यादव को बंगला खाली करने के आदेश दिए और इसे मौजूदा उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को आवंटित कर दिया। 

गौरतलब है कि तेजस्वी यादव के द्वारा सरकारी बंगला खाली न करने और इसे राजनीतिक बदला बताया गया था। इससे पहले सीएम नीतीश कुमार के बंगले पर लगे सीसीटीवी कैमरे को लेकर भी तेजस्वी यादव ने सरकार पर हमला बोला था। तेजस्वी ने इसे उनकी जासूसी करवाने का आरोप लगाया था। 

ये भी पढ़ें- राहुल गांधी के आरोपों पर रक्षा मंत्री का पलटवार, कहा-देश को गुमराह कर रहे हैं


यहां बता दें कि राजद-जदयू गठबंधन के टूट जाने के बाद सरकार की ओर से तेजस्वी यादव को बंगला खाली करने का आदेश दिया गया था। कई नोटिस के बाद भी बंगला नहीं खाली करने पर सरकार ने कोर्ट का रुख किया। तेजस्वी यादव की ओर से भी सरकार के नोटिस को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। मामले पर न्यायमूर्ति ज्योति शरण की एकलपीठ ने सुनवाई के बाद हस्तक्षेप करने से इंकार करते हुए तेजस्वी यादव की अर्जी खारिज कर दी। एकलपीठ के फैसले को अपील दायर कर चुनौती दी गई। हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अमरेश्वर प्रताप शाही और न्यायाधीश अंजना मिश्रा की पीठ ने इस पर सुनवाई पूरी करने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। अब तेजस्वी यादव को हाईकोर्ट के आदेश के बाद अब अपना सरकारी बंगला खाली करना पड़ेगा। 

 

Todays Beets: